Close X
Monday, April 19th, 2021

भारत, सीरम के बाद अब भारत बायोटेक की 'कोवैक्सीन' की खेप पहुंची दिल्ली

देश में कोरोना टीकाकरण के महाअभियान के आगाज से पहले देशभर में टीकों को पहुंचाने का काम जारी है। सीरम इंस्टीट्यूट के कोविशील्ड के बाद अब भारत बायोटेक की कोवैक्सीन भी देश के अलग-अलग हिस्सों में पहुंचने लगी है। भारत बायोटेक की कोवैक्सीन की पहली खेप आज दिल्ली पहुंची है। आज सुबह हैदराबाद के राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से एक विमान के जरिए भारत बायोटेक की वैक्सीन की पहली खेप दिल्ली पहुंची।

बता दें कि देश में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की वैक्सीन कोविशील्ड और भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को भारत के औषधि महानियंत्रक से आपात इस्तेमाल की मंजूरी मिल चुकी है। मंगलवार को सबसे पहले सीरम इंस्टीट्यूट ने वैक्सीन की डिलीवरी शुरू की और देश के 13 जगहों पर चार एयरलाइंस की विमानों के माध्यम से पहुंचाया गया। बता दें कि 16 जनवरी से भारत में दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण का आगाज हो रहा है।

भारत बायोटेक की कोवैक्सीन की पहली खेप आज यानी बुधवार सुबह 6 बजकर 50 मिनट पर एयर इंडिया की फ्लाइट AI 559 से दिल्ली के लिए रवाना हुई।हैदराबाद से कोवैक्सीन के तीन बॉक्स दिल्ली एयरपोर्ट पर पहुंचे, जिनका वजन 80.5 किलोग्राम है। बता दें कि केन्द्र सरकार ने देश में 16 जनवरी से शुरू होने वाले टीकाकरण अभियान से पहले सोमवार को ‘सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया’ (एसआईआई) और ‘भारत बायोटेक’ को कोविड-19 टीके की छह करोड़ से अधिक खुराक के लिए ऑर्डर दिया था। इस ऑर्डर की कुल कीमत करीब 1,300 करोड़ रुपये होगी।

अधिकारियों ने कहा कि ' हैदराबाद से भारत बायोटेक के टीकों की पहली खेप 11 स्थानों के लिए रवाना हो रही है। कोवैक्सीन का विकास भारत बायोटेक ने स्वदेश में ही भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) और राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान (एनआईवी) के साथ मिलकर किया है। जबकि कोविशील्ड का विकास ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और ब्रिटिश-स्वीडिश कंपनी एस्ट्राजेनेका ने किया है तथा भारत में इसका उत्पादन पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया कर रही है। पीएलसी।PLC.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment