Thursday, April 2nd, 2020

भारतीय उत्सव  : दर्शको ने बढ़ाया कलाकारों का उत्साह

आई एन वी सी न्यूज़

नई  दिल्ली ,

सोपान फेस्टिवल, युवा संगीतकार और नृत्यकों  के उत्सव के चौथे दिन सेंट्रल पार्क, राजीव चौक पर दर्शकों की भारी भीड़ देखने को मिली। दिल्ली सरकार के साहित्य कला परिषद द्वारा आयोजित 6-दिवसीय यह महोत्सव 18 दिसंबर, 2019 तक चलेगा, जहां साहित्य कला परिषद के 24 छात्रवृत्ति धारक एक साथ आएंगे और अपनी प्रतिभाओं को शास्त्रीय रूपों में प्रदर्शित करेंगे।
महोत्सव के पहले दिन की शुरुआत जी. राघवेंद्र प्रसाद वायलिन और कथक पर गरिमा आर्य चतुरलाल की प्रस्तुति के साथ हुई। अंकिता कौशिक द्वारा भरतनाट्यम की प्रस्तुति शुद्ध ब्रह्मा पर दी। जया पाठक की एक कथक प्रस्तुति भी हुई। दूसरे दिन की शुरुआत रिया बनर्जी द्वारा संगीतमय स्वर के साथ हुई। इसके बाद भानु सिसोदिया की पखावज पर प्रस्तुति हुई। बाद में रेशमा सुरेश ने मोहिनीअट्टम प्रस्तुत किया। शाम को सिद्दी गोयल के कथक कलाकारों की टुकड़ी प्रस्तुति दी। तीसरे दिन का पहला प्रदर्शन शिवम दुबे की शास्त्रीय गायन द्वारा किया गया। इसके बाद, कोमल निरवान ने एक वायलिन प्रस्तुति दी। उनके साथ तबला पर सावन निरवान, तानपुरा पर सुधीर गौतम और देवदास थे। बाद में, यामिनी दीक्षित ने अपना ओडिसी प्रदर्शन प्रस्तुत किया। वृंदा बाहेती ने अपने कथक कलाकारों के साथ शाम का समापन किया।

चौथे दिन एकल मंच पर कलाकारों के प्रदर्शन का एक और दिलचस्प सिलसिला देखा गया। दो भाई अक्षय गुप्ता और विशाल गुप्ता ने अपने शास्त्रीय गायन के साथ शाम की शुरुआत की। भाइयों ने पं. आशीष सांकृत्यायन (डगर घराना) गुरु शिष्य परंपरा में ध्रुपद केंद्र भोपाल में 4 साल तक शास्त्रीय संगीत सीखा है। बाद में वे अपने गृहनगर दिल्ली आ गए और गुरु सुनील कुमार द्वारा खयाल संगीत गायन (ग्वालियर घराना) सीखना शुरू कर दिया और उनके शिष्य बन गए। दोनों ने राग बिहाग, विलम्बित आलाप, बड़ा ख्याल और छोटा ख्याल का प्रदर्शन किया। तबले पर उनके साथ श्री नीरज कुमार थे। इसके बाद अंकिता ढींगरा का सितार वादन किया।
बाद में, तान्या गंभीर ने अपने भरतनाट्यम नृत्य से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। गुरू श्रीमती कनक सुधाकर की एक शिष्या तान्या पिछले 11 वर्षों से भरतनाट्यम के कला रूप का अभ्यास कर रही हैं। तान्या ने अपना प्रदर्शन भगवान कृष्ण की मिठास को समर्पित किया। प्रस्तुति में एक पदम और उसके बाद एक थिलाना शामिल था। कमल के आकार वाले भगवान को दो अलग-अलग मनोदशाओं में दर्शाया गया है, पहला टुकड़ा एक अष्टपदी यीह माधव था, जहां राधा कृष्ण के साथ अन्य गोपियों के व्यवहार की निंदा करती है और एक खण्डिता नायिका में बदल जाती है जो रागम भैरवी और तालम आदी के लिए निर्धारित है जबकि दूसरा टुकड़ा रागम धनाश्री और तालम आदी में थिलाना पर था। मंच पर तान्या के साथ आने वाले कलाकार नट्टुवांगम पर गुरु श्रीमती कनक सुधाकर थे, श्री जयण ने स्वर, तंजावुर केशवन मृदंगम और वायलिन पर चेम्बाई श्रीनिवासन ने उमका साथ दिया। शाम को श्रुति कोटनाला के कथक कलाकारों की टुकड़ी के साथ संपन्न हुआ।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment