Thursday, July 16th, 2020

भाजपा, वाम समर्थक आमने-सामने आए, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में हिंसा के बाद अब तक किसी तरह की गिरफ्तारी न होने पर विभिन्न राजनीतिक पार्टियों ने सवाल खड़े करने शुरू कर दिए हैं। विपक्ष और जेएनयू छात्रों ने दिल्ली पुलिस पर निष्क्रिय रहने का आरोप लगाया। वहीं मुंबई में गेटवे ऑफ इंडिया पर रविवार रात से प्रदर्शन चल रहा था, जिसे अब आजाद मैदान में शिफ्ट कर दिया गया है। वहीं पश्चिम बंगाल के जादवपुर इलाके में रैलियों में लेफ्ट पार्टियां और भाजपा समर्थकों के आमने-सामने आने के बाद पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। इस मसले पर बॉलीवुड से भी विरोध के स्वर सुनाई दे रहे हैं। अभिनेता अनिल कपूर, आलिया भट्ट, राजकुमार राव, अनुराग कश्यप और सोनम कपूर आदि ने हमले को ‘दिल दहला देने वाला’ करार दिया।
 

जेएनयू के बाहर दिखे पुलिसकर्मी

जेएनयू के मेट गेट के बाहर पुलिस कर्मी नजर आए। यहां पांच जनवरी को हुई हिंसा में 30 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे।

गेटवे से आजाद मैदान शिफ्ट हुआ छात्रों का प्रदर्शन

मुंबई के गेटवे ऑफ इंडिया पर छात्र रविवार रात से ही जेएनयू हिंसा के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। पुलिस ने उन्हें आज यहां से हटाकर आजाद मैदान शिफ्ट कर दिया है। पुलिस का कहना है कि उसने प्रदर्शनकारियों को हटाने के दौरान किसी को भी हिरासत में नहीं लिया। प्रदर्शनकारियों को इसलिए वहां से शिफ्ट किया गया क्योंकि आझाद मैदान ऐतिहासिक धरोहर है और वहां प्रदर्शन की इजाजत नहीं थी।  मुंबई पुलिस के डीसीपी (जोन-1) ने कहा, 'हमने कल रात गेटवे ऑफ इंडिया पर दिखाई दिए फ्री कश्मीर के पोस्टर मामले में स्वत: संज्ञान ले लिया है। हम निश्चित तौर पर इसकी जांच करेंगे।'

जेएनयू हिंसा मामले में अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं

दिल्ली पुलिस ने बताया कि अभी मामले में कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है और मामले को क्राइम ब्रांच को ट्रांसफर कर दिया गया है जिसने कुछ अहम सुराग मिलने का दावा किया है। अब तक किसी तरह की गिरफ्तारी न होने पर विभिन्न राजनीतिक पार्टियों ने सवाल खड़े करने शुरू कर दिए हैं। विपक्ष और जेएनयू छात्रों ने दिल्ली पुलिस पर निष्क्रिय रहने का आरोप लगाया।

पश्चिम बंगाल में छात्रों ने निकाली रैली

पश्चिम बंगाल में कई छात्र संगठनों ने जेएनयू कैंपस में हुई हिंसा के खिलाफ कोलकाता में रैली निकाली। जिसमें कलकत्ता, प्रेसिडेंसी और जादवपुर विश्वविद्यालय के छात्र शामिल थे। सभी ने रैली में पोस्टर और प्लेकार्ड लेकर शामिल हुए और घटना की निंदा करते हुए जिम्मेदार आरोपियों को तुरंत गिरफ्तार करने की मांग की।

 

यादवपुर इलाके में सोमवार को दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय परिसर में हुए हमले को लेकर हुई रैलियों में वाम दल और भाजपा समर्थकों के आमने-सामने आने के बाद पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। जेएनयू हमले और रविवार रात इलाके में पार्टी दफ्तर में तोड़फोड़ को लेकर भाजपा द्वारा बाघा जतिन मोड़ से यादवपुर पुलिस थाने तक एक विरोध मार्च निकाला गया। अधिकारियों ने बताया कि स्थिति को शांत करने के लिए तमाम प्रयासों के विफल होने पर रैली में शामिल लोगों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया। PLC.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment