Wednesday, July 8th, 2020

बारिश से पारा लुढ़का - मासून आया, मौसम विभाग सहमत नहीं

नई दिल्ली । उत्तर और पश्चिमी राज्यों में बारिश के कारण लोगों को भीषण गर्मी से राहत मिली। इसके साथ ही उत्तर प्रदेश में बारिश से जुड़ी घटनाओं में पांच लोगों की मौत हो गई,10 से अधिक पेड़ उखड़ गए और कई घरों को नुकसान पहुंचा है। मौसम विभाग के अनुसार, वर्धा में देश का सबसे अधिक तापमान 42.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। राष्ट्रीय राजधानी में आसमान में आंशिक रूप से बादल छाए रहने से पारा नीचे रहा| दिल्ली में न्यूनतम तापमान सामान्य से पांच डिग्री कम 22.2 डिग्री दर्ज किया गया। मौसम विभाग के अनुसार आठ जून से पहले दिल्ली में लू जैसी स्थिति नहीं रहने संभावना है। ‘‘पूरे देश में अलग-अलग स्थानों और बिहार में तापमान में गिरावट की प्रवृत्ति देखी जा रही है।’’

लखनऊ में पारा सामान्य से चार डिग्री कम:
लखनऊ में पारा सामान्य से चार डिग्री कम 35.3 डिग्री रहा, जबकि 57.4 मिमी बारिश दर्ज की गई। कानपुर  में 54.6 मिमी, हरदोई में 4.2, फुर्सतगंज में 3.2, शाहजहाँपुर में 1.4 और आगरा में 1.0 मिमी बारिश दर्ज की गई। बांदा राज्य का सबसे गर्म स्थान था, जहां तापमान 40.6 डिग्री रहा|

राजस्थान में पारा 3 से 4 डिग्री कम:
मौसम में आए बदलाव से राजस्थान के भी कई इलाकों में आंधी आई और बारिश हुई है , जिससे राज्य में तापमान में भी 3-4 डिग्री सेल्सियस तक गिरावट दर्ज हुई है । इससे भीषण गर्मी से परेशान लोगों को कुछ राहत मिली है। मौसम विभाग के अनुसार पिछले 24 घंटों में राज्य के अनेक हिस्सों में गरज-चमक के साथ हल्की से मध्यम बारिश दर्ज हुई है। सर्वाधिक बारिश डीग भरतपुर में 64.0 मिमी दर्ज की गयी। इसके अलावा नोहर, हनुमानगढ़ में भी 64.0 मिमी दर्ज हुई है।

तेज आंधी तथा बारिश का अनुमान:
मौसम विभाग के अनुसार वायुमंडल के निचले स्तर में पूर्वी हवाओं के पश्चिमी विक्षोभ के साथ मिलने तथा अरब सागर से उच्च मात्रा में नमी प्रवाहित होने के कारण राजस्थान में आगामी तीन चार दिन तेज आंधी आने, बारिश होने व हवाएं चलने का अनुमान है।

चंडागढ़ में पार 6 डिग्री लुढ़का:
पंजाब और हरियाणा के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश के साथ अधिकतम तापमान सामान्य सीमा से नीचे रहा। दोनों राज्यों की संयुक्त राजधानी चंडीगढ़ में अधिकतम तापमान सामान्य से छह डिग्री कम 32.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

स्काइमेट ने कहा मासून आया, मौसम विभाग सहमत नहीं:
मौसम पूर्वनुमान बताने वाली निजी एजेंसी स्काइमेट वेदर ने शनिवार को अपने तय समय से पहले केरल में दक्षिण-पश्चिम मानसून के पहुंचने की घोषणा की, लेकिन देश के आधिकारिक भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि फिलहाल परिस्थितियां ऐसी घोषणा करने के अनुकूल नहीं हैं। स्काइमेट के कार्यकारी अधिकारी जतिन सिंह ने कहा कि सभी परिस्थितियां जैसे वर्षा, ओएलआर वैल्यू और वायु की गति उस अनुकूल स्थिति में पहुंच चुकी हैं, जिससे केरल में दक्षिण-पश्चिम मानसून के पहुंचने की घोषणा की जा सके। ओएलआर मुख्य रूप से पृथ्वी की सतह, समुद्र और वायुमंडल द्वारा अंतरिक्ष में उत्सर्जित ऊर्जा की मात्रा का एक माप है। निजी मौसम अनुमान एजेंसी ने ट्वीट किया, आखिरकार दक्षिण-पश्चिम मानसून भारत पहुंच गया। मानसून तय समय से पहले ही केरल पहुंच गया। पीएलसी।PLC.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment