Close X
Tuesday, October 20th, 2020

बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में आज समाप्त हो सकती है

लखनऊ।  बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में सभी कानूनी कार्यवाही सोमवार को उस समय समाप्त हो जाएगी, जब सभी 32 आरोपी दशकों पुराने मामले में अपना लिखित जवाब देंगे। सीबीआई की विशेष अदालत के न्यायाधीश सुरेंद्र कुमार यादव ने बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में सभी 32 आरोपियों के लिए 31 अगस्त की समय सीमा तय की है।
अदालत ने सभी आरोपियों को अपना जवाब प्रस्तुत करने के लिए पहले ही दो एक्सटेंशन दे दिए हैं। केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) पहले ही CBI अदालत में अपना लिखित जवाब प्रस्तुत कर चुका है।
वकील केके मिश्रा ने कहा कि सीबीआई अदालत ने बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में जवाब दाखिल करने के लिए 31 अगस्त की समयसीमा जारी की थी। सोमवार को मैं जवाब दाखिल करूंगा। आपको बता दें कि केके मिश्रा इस मामले में 32 में से 25 आरोपियों का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। मिश्रा अयोध्या मामले में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और कल्याण सिंह का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।
इस महीने की शुरुआत में, सुप्रीम कोर्ट ने लखनऊ में बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले की सुनवाई करने वाली विशेष सीबीआई अदालत के लिए समय सीमा एक महीने बढ़ाकर 30 सितंबर तक कर दी थी। अब, सीबीआई अदालत इस मामले में फैसला 30 सितंबर या उससे पहले सुनाएगी। इससे पहले यह तारीख 31 अगस्त थी।
वकील केके मिश्रा ने कहा, "सुप्रीम कोर्ट ने बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में फैसला सुनाने के लिए विशेष सीबीआई अदालत (अयोध्या मामले) की समय सीमा 30 सितंबर तक बढ़ा दी है।"
पिछले 9 नवंबर को, भारत के तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के नेतृत्व में सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने दशकों पुराने राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद में राम मंदिर के पक्ष में फैसला सुनाया था। शीर्ष अदालत के निर्देश पर केंद्र सरकार ने अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट का भी गठन किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐतिहासिक भूमि पर राम मंदिर की आधारशिला रखी थी। PLC.
 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment