Thursday, July 9th, 2020

बदनामी के डर से बिल भेजा

नई दिल्ली. बसों के किराए को लेकर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ (UP CM Yogi Adityanath) के आरोपों का राजस्थान सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने जवाब दिया है. गहलोत ने कहा कि यूपी सरकार ने जानबूझकर बसों का बिल भेजा था. मीडिया रिपोर्टस के अनुसार, गहलोत ने कहा कि 36 लाख रुपए की बात केवल यूपी सरकार कर रही है. किसी भी अन्य प्रदेश ने पैसों की बात नहीं की. दरअसल, यूपी के सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा था कि उन्होंने राजस्थान परिवहन की 70 बसें लीं थी. योगी ने कहा था कि राजस्थान सरकार ने इन बसों से बच्चों को केवल यूपी बॉर्डर तक छोड़ने में सहयोग किया. योगी ने आरोप लगाया था कि पहले उनसे (यूपी सरकार से) 19 लाख रुपये तेल के पैसे के तौर पर लिए गए. उसके बाद राजस्थान की तरफ से बसों के किराए के लिए 36 लाख रुपये की मांग की गई थी. योगी ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा था कि उनकी यही असलियत है.

'राजस्थान ने चलाई श्रमिक स्पेशल बसें'
यूपी सीएम के आरोपों का जवाब गहलोत ने दिया. उन्होंने कहा कि हमने (राजस्थान सरकार ने) ट्रेनों और बसों में लगभग 25 करोड़ रुपये खर्च किए. गहलोत ने कहा कि राजस्थान एकमात्र प्रदेश रहा होगा, जहां श्रमिक स्पेशल ट्रेनों की तर्ज पर श्रमिक एक्सप्रेस बसें चलाई गई. उन्होंने कहा कि इसके माध्यम से यूपी में भी राजस्थान सरकार ने लाखों लोगों को वापस भेजा है.

'यूपी सरकार को किया पांच करोड़ का भुगतान'
गहलोत ने इन आरोपों का जवाब देते हुए यह भी कहा कि राजस्थान सरकार ने यूपी को पांच करोड़ रुपए का भुगतान किया. उन्होंने कहा कि 36 लाख रुपए की बात केवल यूपी सरकार कर रही है. किसी भी अन्य प्रदेश ने पैसों की बात नहीं की. उन्होंने यूपी सीएम के 36 लाख रुपए पर बात करने को दुर्भाग्य की बात कही. राजस्थान के सीएम का यह भी आरोप है कि बदनामी के डर से बिल भेजा गया. PLC.

 
 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment