Monday, December 9th, 2019

बच्चों के अधिकारों पर तीन दिन का इलस्ट्रेशन कैम्प

आई एन वी सी न्यूज़
भोपाल,

चाइल्ड राइट्स ऑब्ज़र्वेटरी मध्यप्रदेश, आर्टडिज़ाइन टीचर्स फ़ोरम और जनजातीय संग्रहालय के संयुक्त तत्त्वावधान में तीन दिवसीय इलस्ट्रेशन कैम्प का आयोजन किया जारहा है। संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा पारित "बाल अधिकार समझौते" की तीसवीं वर्षगाँठ पर यूनिसेफ़ के सहयोग से आयोजित इस कैम्प की थीम मुख्य रूप से *बच्चों के अधिकारों* के इर्द गिर्द केंद्रित रहेगी। 10 से 12 नवंबर को जनजातीय संग्रहालय में होने वाले इस कैम्प में मध्यप्रदेश के आर्ट टीचर्स, प्रोफेशनल युवा इलस्ट्रेटर, ट्राइबल आर्टिस्ट, फ़ाइन आर्ट्स जानने वाले स्कूली बच्चे, सी सी आर टी, नई दिल्ली (सांस्कृतिक शोध एवं प्रशिक्षण केंद्र - संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार) के विज़ुअल आर्ट्स में स्कालरशिप धारी प्रदेश के बच्चे, प्रदेश के 25 ज़िलों के स्कूल फ़ोरम के प्रतिनिधि बच्चे भाग लेंगे।


प्रसिद्ध इलस्ट्रेटर, आर्टिस्ट और डिज़ाइनर तापोषी घोषाल एवम इलस्ट्रेटर, आर्टिस्ट और वर्कशॉप मोटिवेटर लोकेश खोडके प्रतिभागियों को मार्गदर्शन देंगे। कैम्प में यूनिसेफ़ से राज्य प्रतिनिधि माइकल जुमा और कम्युनिकेशन एक्सपर्ट अनिल गुलाटी प्रतिभागियों को चाइल्ड राइट्स के विभिन्न पहलुओं से परिचय कराएंगे। चाइल्ड राइट्स ऑब्ज़र्वेटरी की अध्यक्ष निर्मला बुच प्रदेश में बच्चों की स्थिति से अवगत कराएंगी। शिविर में अन्य विशेषज्ञ भी प्रतिभागियों से सम्वाद करेंगे जिससे उनकी अभिव्यक्ति और मुखरित हो सके।


क्या होगा इस कैम्प में?


तीन दिवसीय कैम्प में बच्चों के अधिकारों के विभिन्न पहलुओं को जानकार और समझकर उन पर विमर्श (ब्रेन स्टॉर्मिंग) होगी और फिर कलाकार प्रतिभागी अलग-अलग थीम पर इलस्ट्रेशन बनाएंगे। 20 नवंबर को  बाल अधिकार दिवस पर इन्हें प्रदर्शित किया जाएगा। इनमें से चुने गए इलस्ट्रेशन पर आधारित 2020 के वॉल कैलेंडर "टर्निंग पॉइंट - 3" का प्रकाशन किया जाएगा।


क्या है बाल अधिकार समझौता? (Convention on the Rights of the Child - CRC)


20 नवम्बर 1989 को संयुक्त राष्ट्र की आम सभा द्वारा “बाल अधिकार समझौते” को पारित किया गया था। इस साल 20 नवम्बर को इसके 30 साल पूरे हो रहे हैं । बाल अधिकार संधि ऐसा पहला अन्तराष्ट्रीय समझौता है जो सभी बच्चों के नागरिक, सांस्कृतिक, सामाजिक, आर्थिक एवं राजनीतिक अधिकारों को मान्यता देता है। इस समझौते पर विश्व के 193 राष्ट्रों की सरकारों ने हस्ताक्षर करते हुए अपने देश में सभी बच्चों को जाति, धर्म, रंग, लिंग, भाषा, संपति, योग्यता आदि के आधार पर बिना किसी भेदभाव के संरक्षण देने का वचन दिया है। इस बाल अधिकार समझौते पर भारत ने 1992 में हस्ताक्षर कर अपनी प्रतिबद्धता व्यक्त की है। बच्चों के ये अधिकार चार मूल सिद्धांतों पर आधारित हैं। इनमें जीने का अधिकार, सुरक्षा का अधिकार, विकास का अधिकार और सहभागिता का अधिकार शामिल है।


कौन शामिल हो सकता है कैम्प में?


इलस्ट्रेशन कैम्प में शामिल होने के लिए फ़ाइन आर्ट का अभ्यास ज़रूरी है। इसमें स्कूल-कॉलेजों के फ़ाइन आर्ट टीचर्स, स्वतंत्र आर्टिस्ट-इलस्ट्रेटर और 9वीं से 12वीं कक्षा के स्कूली बच्चे भाग ले सकते हैं। कैम्प में शामिल होने के लिए cromp.in@gmail.com  अथवा   artofartteachers@gmail.com में अपने आर्टवर्क भेज कर निर्धारित शुल्क जमा कर रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। कैम्प में शामिल प्रतिभागियों को वर्कशॉप किट, रंग एवं शीट्स, लंच - स्वल्पाहार तथा पार्टिसिपेशन सर्टिफ़िकेट दिया जाएगा। इस कैंप में करीब 60 प्रतिभागी शामिल होंगे।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment