Tuesday, November 12th, 2019
Close X

फैस बुक पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के ऊपर की गयी अश्लील एवं अपमानजनक टिप्पणिया - उपवास एवं धरने पर बैठे सामाजिक संगठन

INVCआई एन वी सी ,
लखनऊ,
 हजरतगंज गांधी स्मारक पार्क पर सेव कल्चरल वैल्यूज़ फाऊन्डेशन तथा मां सेवा संस्थान द्वारा एक दिवसीय उपवास एवं धरने का आयोजन किया गया, जो कि फेसबुक पर रियलटी ओफ  खान्ग्रेस नामक पेज पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के ऊपर की गयी अश्लील एवं अपमानजनक टिप्पणियों के विरोध में था। सेव कल्चरल वैल्यूज़ फाउण्डेशन, मां सेवा संस्थान एवं अन्य सामाजिक संगठनों के संयुक्त तत्वाधान में गांधी प्रतिमा, हजरतगंज में आयोजित इस ‘सबको सन्मति दे भगवान’ नामक कार्यक्रम में बड़ी संख्या में प्रदेश भर से आये सामाजिक कार्यकर्ताओं ने भाग लिया। सेव कल्चर वैल्यूज़ फाउण्डेशन के सचिव आशीष कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि राष्ट्रपिता का अपमान सभी राष्ट्रवासियों का अपमान है। यह हमारे देश की संस्कृति रही है कि भाषा की शुचिता, मां सरस्वती की वंदना मानी जाती है। हम सब गांधी जी के इस अपमान से क्षुब्ध हैं। मां सेवा संस्थान के सचिव डॉ. अजय गुप्ता ने कहा कि हम लोग ऐसे आपराधिक तत्वों पर थ्प्त् दर्ज करा कर मुकदमा चलायेंगे, जिसके लिए विधिक सलाह ली जा रही है। 85 पैसा ढूंढो आन्दोलन के समन्वयक देवी प्रसाद गुप्ता ने कहा कि फेसबुक भारत से सालाना अरबों रूपये का मुनाफा कमा रही है। इसलिये यह उसकी नैतिक और विधिक जिम्मेदारी है कि अपने डिजिटल मंच से इस तरह के कुप्रचार को रोके। समष्टि फाउन्डेशन के अध्यक्ष आशुतोष गुप्ता ने कहा कि राष्ट्रीय भावनाओं, प्रतीकों और महापुरूषों का सम्मान करना हमारा राष्ट्रीय दायित्व और मूल कर्तव्य है। इसका पालन न करने वालों के मूल अधिकारों में कटौती की जानी चाहिए। इस कार्यक्रम में प्रदेश भर से आये कई सामाजिक कार्यकर्ताओं ने एक दिन का उपवास रखकर एवं भजन गाकर सबके लिए सद्बुद्धि की कामना की। कार्यक्रम में संतोष गुप्ता, महिमा शुक्ला, रविन्द्र शुक्ल, कौस्तुभ द्विवेदी, सुधा द्विवेदी, एस.के. गोपाल, गिरीजा शंकर गुप्ता, डॉ. अशोक गुप्ता, अनुराग सिंह, नरेश गुप्ता, अनिल जैन, शुभम द्विवेदी आदि ने शिरकत की।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment

Range Rover Sport, says on November 1, 2014, 9:01 PM

I was just seeking this information for a while. After six hours of continuous Googleing, at last I got it in your website. I wonder what is the lack of Google strategy that do not rank this kind of informative web sites in top of the list. Normally the top websites are full of garbage.

jeep patriot, says on November 1, 2014, 8:57 PM

Thanks for the sensible critique. Me and my neighbor were just preparing to do a little research about this. We got a grab a book from our local library but I think I learned more clear from this post. I am very glad to see such magnificent information being shared freely out there.