Close X
Tuesday, October 20th, 2020

फर्जी शिक्षिकाएं काण्ड - गायब हुई पांच अनामिका

फर्रुखाबाद. गोंडा (Gonda) की अनामिका शुक्ला (AnamikA Shukla Case) के नाम पर प्रदेश के कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों (KGBV) में फर्जी शिक्षिकाओं (Fake Teachers) की तैनाती के मामले में में प्रतिदिन नए खुलासे हो रहे हैं. ताजा मामला फर्रुखाबाद (Farrukhabad) से सामने आया है. यहां मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) के सभी शिकशों की जांच के आदेश के बाद अलग-अलग कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों में तैनात पांच टीचर्स गायब बतायी जा रहीं हैं. जिसके बाद से जिले के बी'एसए कार्यालय में हड़कंप मचा हुआ है.

दरअसल, मास्टरमाइंड पुष्पेंद्र की गिरफ़्तारी के बाद बीएसए कार्यालय की तरफ से सभी 'अनामिका शुक्लाओं' को अपने डाक्यूमेंट्स वेरिफिकेशन के लिए बुलाया गया था. लेकिन अब पांच शिक्षिकाएं गायब बतायी जा रही हैं. जिसके बाद बीएसए ऑफिस भी सवालों के घेरे में हैं. सभी शिक्षिकाओं को शुक्रवार तक नोटिस का जवाब देना हैं. लेकिन  शिक्षा विभाग के अफसरों को तैनात शिक्षिकायें नहीं मिल रही हैं. बीएसए लाल जी यादव अब इस मामले में जांच का हवाला दे रहे हैं.

जिले में तैनात रहा है मास्टरमाइंड पुष्पेंद्र

गौरतलब है कि मास्टरमाइंड पुष्पेन्द्र की गिरफ्तारी के बाद यह खुलासा हुआ है कि वह जिले के कायमगंज ब्लॉक के कुवरपुरखास में उसकी तैनाती हुई थी. वर्ष 2014 में फर्जी शिक्षक पुष्पेन्द्र उर्फ सुशील नौकरी कर रहा था. फर्रुखाबाद में वह सुशील के नाम से नौकरी कर रहा रहा था. बता दें गिरफ्तार पुष्पेंद्र ने  कई जनपदों में अनामिका शुक्ला के के नाम से कई फर्जी नियुक्तियां करवाई थीं. फर्जी शिक्षक पुष्पेंद्र 5 सालों में जिले से सैलरी भी ले चूका है. इतना ही नहीं फर्जी शिक्षक पुष्पेन्द्र उर्फ़ सुशील की फाइल भी बीएसए ऑफिस से गायब है. इसके अलावा कई दस्तावेज भी गायब हैं. जिसकी वजह से बीएसए लाल जी यादव पर सवाल भी उठने लगे हैं. पीएलसी।PLC.

 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment