आई एन वी सी न्यूज़

नई  दिल्ली , पृथ्वी दिवस के अवसर पर नई दिल्ली के इंडिया इंटरनेशनल सेंटर एनेक्सी लेक्चर रूम नंबर वन में आदिल सिदिदकी द्वारा लिखा गया उपन्यास ’’प्रॅाफिट एंड लॉस अकाउंट ऑफ लाइफ’’ का विमोचन मुख्य अतिथि इंटरनेशनल ह्यूमन राइट्स आर्गेनाइजेशन के अध्यक्ष डॉ.नेम सिंह प्रेमी एवं कैपिटल विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ.एम.के.वाजपेयी विश्ष्टि अतिथि सामाजिक कार्यकार्ता हरमीत चावला, सययद शिबली मंजूर डॉ.नुमन आलम ने सयुक्त रूप से किया। इस मौके पर आईएचआरओ के जॉइंट सेकेट्री चंद्रहास मौर्या और आईएचआरओ के डायरेक्टर जे आर शरण भी मौजूद थे। साथ ही इस समारोह में दिल्ली के कई अन्य गण्यमान लोग सामिल हुए। पृथ्वी दिवस के अवसर पर अपने किताब के विमोचन पर सभा को संबोधित करते हुए बुक के लेखक आदिल सिद्यीकी ने अपने उपन्यास से संबधित परिचर्चा की। उन्होनें कहा कि यह उपन्यास वर्तमान मे विश्व मे बढती पर्यावरणीय संकट पर आधारित है उन्होने कहा कि गलोब्ल वार्मिंग की समस्या पूरे विश्व मे गहरा संकट उत्पन्न कर रहा है जिससे पृथ्वी का मानव जाति ही नही बल्कि प्रत्येक प्राणी इस समस्या को किसी ना किसी रुप से प्रभावित हो रहा है सभा को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि ने उपन्यास की प्रशंशा की एवं पृथ्वी दिवस के अवसर पर बिगड़ते प्र्यावरण पर विसतार पूर्वक बाते कही। श्री बाजपयी ने कहा कि आज की पर्यावरणीय स्थिती को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि पृथ्वी का भविष्य खतरे में है। आज पूरे विशव के नागरिको को इस बात पर गहराई से चिंतन करना चाहिए। समारोह मे उपस्थित डॉ़ नेमी सिंह प्रेमी ने कहा की आज हम सबको पर्यावरण की सुरक्षा के बारे मे सोचना चाहिए और आने वाली पिढ़ियो के लिए इस पृथ्वी को सुरक्षित रखना चाहिए। सामाजिक कार्यकाता सययद शिबली मंजूर ने कहा कि आज विश्व मे हजारो टन खाना बर्बाद हो जाता है जबकि प्रत्येक दिन दस मे से एक आदमी भूखा सो जाता है उन्होने किताब की प्रशंशा की और कहा की निश्चित रुप से पाठको को पसेद आएगा। इस विमोचन समारोह मे दिल्ली के अन्य गन्यमान लोग भी सामिल थे। गौरतलब है की आदिल सिद्यीकी ने यह उपन्यास गलोब्ल वार्मिंग की गंभीर समस्या को ध्यान में रखकर लिखा है जो लोगो को जागरूक करने का काम करेगा। इस बुक को लॉन्च करने की पूर्ण जिम्मेदारी दिल्ली की जानीमानी जानीमानी इवेंट कंपनी अरमानस इवेंट ने किया है।  फेरोमा मीडिया प्राoलिo से प्रकाशित पृथ्वी को समर्पित इस महत्पूर्ण किताबका मूल्य 190 रूपये है।