Close X
Saturday, September 19th, 2020

‘‘प्रिंट पैक इंडिया 2013’’ ब्रांड इंडिया को वैश्विक बाजार में प्रस्तुत करेगा

कुलबीर कलसी,, आई.एन.वी.सी,, चंडीगढ़,, पूरे भारतीय प्रिंटिंग, पैकेजिंग, साइनेज और कन्वर्टिंग मशींस इंडस्ट्री का सबसे बड़ा और एक साझा मंच, एक बार फिर से 11वीं बार एक बड़े आकार में वापसी कर रहा है। ईपामा-इंडियन प्रिंटिंग पैकेजिंग एंड एलाइड मशीनरी मैन्युफैक्चरिंग एसोसिएशन, द्वारा आयोजित प्रिंट पैक इंडिया 2013- ग्रेटर नोएडा एक्सपो मार्ट में आयोजित किया जा रहा है। इसके बारे में आईपीएएमए के महासचिव श्री सी.पी.पॉल ने आज चंडीगढ़ में विस्तार से जानकारी दी और बताया कि यह आयोजन भारत और इस क्षेत्र में उद्योग के भविष्य की दिशा को तय करेगा। मीडिया से बात करते हुए श्री सी.पी.पॅाल, महासचिव, आईपीएएमए ने कहा कि ‘‘16,000 मिलियन डॉलर का भारतीय प्रिंटिंग उद्योग, विश्व के सबसे बड़े उद्योगों में से एक है और यह 10-15 प्रतिशत वार्षिक की दर से बढ़ रहा है। इस उद्योग का एक बड़ा हिस्सा पंजाब, हरियाणा, जम्मू, एनसीआर और उत्तर प्रदेश आदि उत्तर भारतीय राज्यों में है और ऐसे में यह अंदाज लगाना आसान है कि यह एक्सपो इस क्षेत्र के लिए कितनी महत्वपूर्ण है और यह पंजाब और हरियाणा में प्रिंटिंग और पैकेंजिंग उद्योग के विकास को नई दिशा देने में कितनी सक्षम है।’’ श्री पॉल ने कहा कि ‘‘प्री-प्रेस, प्रेस और पोस्ट प्रेस में डिजिटल तकनीक क्रांति के साथ भारत सुनिश्चित तौर पर इस क्षेत्र में अगला प्रभावशाली देश है। इसलिए भारतीय प्रिंटिंग एवं पैकेजिंग उद्योग से जुड़े उद्यमियों खासकर एसएमई क्षेत्र के लिए यह बेहद महत्वपूर्ण है कि वह प्रिंटिग एवं पैकेजिंग में आ रही नई-नई तकनीकों को अपनाने के लिए तैयार रहे तथा इस क्रांति का हिस्सा बने और इन सबके लिए प्रिंट पैक इंडिया 2013 से बेहत्तर कुछ नहीं हो सकता।’’ प्रिंट पैक इंडिया 2013 का थीम ब्रांड इंडिया है और हम इसमें भारतीय निर्माताओं की मजबूती, उनके आविष्कारों, डिजाइनों और उत्पादों को विश्व बाजारों के समक्ष प्रस्तुत करना चाहते हैं। इसके साथ ही इस उद्योग में शामिल घरेलू एसएमई को प्रतियोगिता के लिए एक उचित मंच प्रदान करते हुए उनके हितों की रक्षा भी कर रहे हैं। इस अवसर पर मौजूद ईपामा के कोषाध्यक्ष श्री जेएस कलसी ने पैकेजिंग उद्योग के बारे में जानकारी प्रदान करते हए कहा,कि पैकेजिंग उद्योग के 700 प्रमुख खिलाडिय़ों में से 95 प्रतिशत एसएमई क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। इसलिए आयोजन का एक उद्देश्य उनके हितों की रक्षा करना तथा उन्हें एक बराबर का मंच मुहैया करवाना है, जिससे कि वे अपने उत्पादों को भी बड़े वैश्विक खरीदारों के समक्ष प्रस्तुत कर सकें। प्रिंट पैक इंडिया 2013 में इस क्षेत्र के महत्व के बारे में जानकारी देते हुए श्री कलसी ने कहा कि पंजाब और हरियाणा प्रिंटिंग एवं पैकेजिंग मशीनरी निर्माण केन्द्रों के सबसे बड़े केन्द्रों में से एक हैं और इनका प्रिंटिंग कारोबार में नए एवं आधुनिक छपाई समाधानों और आधुनिक तकनीकों को दर्शाने में महत्तवपूर्ण योगदान है। देश के इस हिस्से में विशेषकर चंडीगढ़, लुधियाना, जालंधर, अमृतसर, पटियाला, अंबाला, पानीपत, हिसार और फरीदाबार आदि में प्रिंटरों और पैकेजिंग उद्योग के लिए कारोबार के अपार अवसरों को ध्यान में रखते हुए प्रिंट पैक इंडिया 2013 में पंजाब, हरियाणा और आसपास के क्षेत्रों से बड़ी संख्या में प्रतिनिधियों के आने की उम्मीद है। श्री प्रशांत वत्स अधिशासी सचिव ने बताया कि बीते साल एक्सपो में 50 हजार से अधिक इंडस्ट्री विजिटर्स आए थे और इस साल यह आंकड़ा 70 हजार के पार होगा। मेहमानों और प्रदर्शकों की सुविधा के लिए एसोसिएशन हर संभव प्रयास करते हुए मुख्य नजदीकी स्टेशनों एवं अन्य प्रमुख स्थलों से एयर कंडिशन शटल सर्विसेज का भी प्रबंध कर रही है। दस से अधिक देशों से विजिटर्स ने पहले से ही इस एक्सपो के लिए पंजिकरण करवा रखा है तथा बहुत सारी अंर्तराष्ट्रीय स्तर की प्रिंटिंग एसोसिएशन एंव संस्थाओं से प्रतिनिधि भारत के प्रिंटिंग उद्योग के इस विशाल कुंभ में शिरकत करेंगे। एक्सपो में ईपामा के सहयोग से दो दिवसीय प्रिंट बिजनेस आउटलुक कांफ्रेंस 2013 भी एनपीईएस-द एसोसिएशन फॉर सप्लॉयर्स ऑफ प्रिंटिंग, पब्लिशिंग एवं कन्वर्टिंग टैक्नोलॉजीस, अमेरिका द्वारा आयोजित की जा रही है। कांफ्रेंस एक ऐसे मंच के तौर पर होगी, जिसमें प्रतियोगियों को वैश्विक प्रिंट बाजार में उपलब्ध अवसरों और चुनौतियों के बारे में जानने का रूबरू अवसर मिलेगा। वहीं यह विदेशी सहभागियों को भी एक सार्थक मंच प्रदान करेगी। इसके साथ ही 200 से अधिक प्रिंटिंग अग्रणी भी एक्सपो में शामिल होंगे जिनमें कर्मिश्यल प्रिंटर्स, समाचारपत्र प्रकाशक और पैकेजिंग प्रिंटिंग बाजार प्रतिनिधि शामिल हैं।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment