Sunday, July 12th, 2020

प्रशिक्षण से होता है रचनात्मकता का विकास

आई एन वी सी न्यूज़
देहरादून,
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने ग्रामीण विकास एवं ग्रामीण आर्थिकी की मजबूती के लिये सभी सम्बन्धित विभागों से आपसी समन्वय से कार्य करने को कहा है। विभागों की योजनाओं व बेहतर क्रियान्वयन के लिये कार्मिकों को दिये जाने वाले प्रशिक्षण को आधुनिक तकनिकी से जोड़े जाने पर भी उन्होंने बल दिया है। उनका कहना था कि प्रशिक्षण के बाद उसका लाभार्थियों पर कितना सकारात्मक प्रभाव पडा इसका भी आंकलन किया जाय। उन्होंने किसानों के बीच जाकर उनकी जरूरत के अनुसार मदद करने तथा नई तकनीकि व योजनाओं की जानकारी उन्हें उपलब्ध कराने के भी निर्देश दिये हैं।

शुक्रवार को मुख्यमंत्री आवास में उत्तराखण्ड ग्राम्य विकास एवं पंचायतीराज संस्थान रूद्रपुर की बोर्ड ऑफ गवनर्स की नौवीं बैठक की अध्यक्षता करते हुए मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि हमारे संस्थान प्रशिक्षण देने के साथ ही आय सृजन के भी माध्यम बने इस दिशा में भी प्रयास किये जायें। उन्होंने संस्थान से नवाचार की पहल के साथ ही किसानों को लाभ देने वाली योजनाओं के प्रति जागरूक करने को कहा। हमारे युवा अपना गांव व खेती से जुड़ सकें, नशे से दूर रहकर स्वरोजगार की विभिन्न योजनाओं में सहभागी बने इसके भी प्रयास होने चाहिए।

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि विभिन्न प्रदेशों द्वारा खेती व कृषि के विकास के क्षेत्र में की जा रही पहल का भी अध्ययन होना चाहिए। उन्होंने संस्थान को नये उत्पादों की प्रयोगशाला बनने की दिशा में कार्य करने, प्रशिक्षतों द्वारा ली गई ट्रेनिंग का आउटकम का भी आकलन करने को कहा। प्रशिक्षण के दौरान विभिन्न उत्पादों की वेल्यू चैन की व्यवस्था बनाने पर ध्यान दिया जाय। क्वालिटी कन्ट्रोल फूड सेफ्टि प्रोसेसिंग माकेटिंग की दिशा में कार्य करने से ही ट्रेनिंग की उपयोगिता सिद्ध हो सकती है। व्यवहारिक उत्पादकता एवं उद्यमिता विकास पर ध्यान देने से भी ग्रामीण आर्थिकी को मजबूती मिलेगी।

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि प्रशिक्षण से रचनात्मकता का भी विकास होता है। उन्होंने ग्राम्य विकास एवं पंचायती राज संस्थान में विधायको के लिये भी प्रशिक्षण की व्यवस्था करने को कहा, इससे विधायकों को भी ग्रामीण विकास से जुड़े विभागों एवं उनके कार्यकलापों की जानकारी प्राप्त होंगी।

बैठक में संस्थान के  प्रशिक्षण कार्यक्रमों, वित्तीय आय व्ययक तथा संस्थान की खाली पड़ी भूमि के बेहतर उपयोग किये जाने एवं अन्य विभिन्न प्रस्तावों का अनुमोदन प्रदान किया गया।


बैठक में अपर मुख्य सचिव श्रीमती राधा रतूड़ी, प्रमुख सचिव श्रीमती मनीषा पंवार, कुमांऊ आयुक्त श्री राजीव रौतेला, क्षेत्रीय राष्ट्रीय ग्रामीण विकास संस्थान गोहाटी के प्रो0 आरपी पन्त, ग्राम्य विकास संस्थान के अधिशाषी निदेशक श्री एचसी काण्डपाल के साथ ही पंचायती राज, नियोजन, समाज कल्याण, वित्त, पंतनगर कृषि विश्वविद्यालय के प्रतिनिधि आदि उपस्थित थे।
 



 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment