Wednesday, February 26th, 2020

प्रदेश में पुलिस रक्षक की जगह भक्षक बन गई है : सपा

आई.एन.वी.सी.,, लखनऊ,, समाजवादी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता श्री राजेन्द्र चैधरी ने कहा है कि प्रदेश में पुलिस रक्षक की जगह भक्षक बन गई है। पुलिस थानों में रेप होने लगा है। इससे वर्षो पूर्व न्यायमूर्ति स्व0 आनन्द नारायण मुल्ला की यह टिप्पणी कि ‘‘पुलिस अपराधियों का संगठित गिरोह है’’ बसपा राज में पूरी तरह चरितार्थ हो रही है। निघासन थाने में 10 जून, को 14 वर्षीया सोनम के साथ बलात्कार के बाद हत्या की घटना घटी जिसकी सीबीआई जाॅच मुख्यमंत्री को जाने क्यों गंवारा नहीं है। अपराधियों को क्लीन चिट वे तुरन्त दे देती हैं। किन्तु जनसमस्याओं के निराकरण के लिए कोई प्रयास हो तो वे लाठियाॅ-गोलियाॅ बरसाने में नहीं हिचकती हैं और समाजवादियों की गिरफ्तारी तथा उत्पीड़न में तो उन्हें विशेष संतुश्टि मिलती है। ऐसी असंवैधानिक, उत्पीड़नकारी और बलात्कार-प्रोत्साहक सरकार तथा इसकी मुख्यमंत्री को महामहिम राज्यपाल द्वारा तत्काल बर्खास्त कर दिया जाना चाहिए।     बसपा राज में भयमुक्त समाज के खोखले नारे की हकीकत यह है कि कन्नोैज में एक नाबालिग किशोरी की की आॅख फोड़ दी गयी। 17 जून को थाना गुरसहायगंज के अन्तर्गत भूड़पुरवा गाॅव में 14 वर्षीय दलित किशोरी सुमन के साथ पहले बलात्कार की कोशिश की गयी थी, जिसमें नाकामी के बाद उसकी दोनों आंखें फोड़ दी गयी। सुमन कानपुर के हैलेट अस्पताल में अब इलाज करा रही है। दबंग परिवार के दो आरोपी पुलिस की पकड़ से बाहर है। समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष श्री अखिलेश यादव ने घटना की निन्दा करते हुये पीड़ित को 10 लाख रूपये की मुआवजा राशि दिये जाने तथा आरोपियों की तुरन्त गिरफ्तारी की माॅग की है। यह कांड उनके संसदीय क्षेत्र में हुआ है और इसकी जानकारी होते ही वे पीड़ित परिवार को सांत्वना देने कल पहुॅच गये थे।  बस्ती में रानीपुर बेलारी में एक नाबालिग से बलात्कार हुआ।  ललितपुर में भी एक  बालिग से बलात्कार में नाकामी पर दरिंदों ने दाॅत से काट कर घायल कर दिया। सामूहिक बलात्कार की रिपोर्ट दर्ज कराने गई मूक-बधिर एक किशोरी से डेरापुर थाने में बलात्कार की घटना पर कार्यवाही तो कोर्ट के आदेश के बाद ही हुई है। आज ही हरदोेई में एक मूक बधिर बालिका के साथ बलात्कार की लोमहर्षक घटना भी घटित हुई है।प्रदेश मेें मायाराज में बढ़ते अपराधों और बिगड़ती प्रशासनिक व्यवस्था के खिलाफ आवाज उठती है तो मुख्यमंत्री बदले की भावना से कार्यवाही पर उतर आती हैं। कानपुर में समाजवादी पार्टी के विधायक श्री इरफान सोलंकी एवं मो0 हसन रूमी जनसमस्याओं के सम्बन्ध में एक आई0ए0एस0 अधिकारी से मिले और समस्या के समाधान का दबाब डाला तो उन्हें ही उल्टे गिरफ्तार कर लिया गया है। इस तरह तो किसी जनप्रतिनिधि का किसी अधिकारी से काम के सिलसिले में मिलना ही अपराध हो जायेगा।  वस्तुतः मुख्यमंत्री ने प्रदेश को जंगलराज में तब्दील कर दिया है। जहा कोई कायदा-कानून नहीं चलता है। वे स्वयं बदले की भावना से विरोधियों को निबटाने में लगी रहती हैं । प्रशासन को पंगु बनाकर बसपा का एजेंट बना दिया गया है। इसलिए लोगांे को बसपा राज में न्याय मिलने की कतई उम्मीद नहीं रह गई हैै।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment