Close X
Friday, January 28th, 2022

प्रदेशवासियो  को मिले गुणवत्तापूर्ण बिजली 

आई एन वी सी न्यूज़
जयपुर,राज्य के उर्जा विभाग द्वारा 2026-27 तक प्रदेश में बिजली की वर्षवार बिजली उपलब्धता, मांग और आपूर्ति व्यवस्था का रोड़मेप बनाया जाएगा। अतिरिक्त मुख्य सचिव एनर्जी डॉ. सुबोध अग्रवाल ने यह निर्देश मंगलवार को विद्युत भवन मेेंं आयोजित एनर्जी एफिसिएंसी कमेटी की बैठक में दिए। उन्होंने बताया कि उनके स्तर पर संयुक्त सचिव एनर्जी श्री आलोक रंजन के नेतृत्व मेें प्लानिंग व कोआर्डिनेशन सेल का गठन भी किया गया है। यह सेल राज्य की सभी विद्युत कंपनियाेंं से परस्पर समन्वय व संवाद कायम करेगा ताकि सूचनाओं की त्वरित प्राप्ति के साथ ही समयवद्ध कार्यनिष्पादन सुनिश्चित किया जा सके।

 एसीएस माइंस, पेट्रोलियम व एनर्जी डॉ. अग्रवाल ने बताया कि उर्जा विकास निगम के निदेशक पॉवर ट्रेडिंग श्री पीएस सक्सैना अगले आठ से दस दिनों में विद्युत उत्पादन निगम, तीनों डिस्कॉम, अक्षय उर्जा निगम व उर्जा विकास निगम सहित संबंधित संस्थाओं के विशेषज्ञ अधिकारियों के साथ तैयार बैठक कर रोडमेप की परेखा तैयार करेंगे यह दल राज्य  में विद्युत उत्पादन के कंवेशनल सोर्सेज के साथ ही अक्षय उर्जा व नवीकरण सोर्सेज से सोलर, विण्ड और बायोमास आदि की उपलब्ध क्षमता व भावी संभावनाओं का भी रोडमेप में समावेश करेगा। उसके बाद इसी माह आयोजित बैठक  में इसे अंतिम रूप देकर राज्य सरकार को उपलब्ध करा दिया जाएगा। उन्हाेंने बताया कि वर्ष 2019-20 में राज्य में 6000 मेगावाट उत्पादन क्षमता बढ़ाने की बजट घोषणा की गई थी जिसे चरणवद्ध तरीके से इस रोडमेप के आधार पर बढ़ाया जाएगा। इसी तरह से सभी जिलोें में काश्तकारों को खेती के लिए दिन में बिजली उपलब्ध कराने की बजट घोषणा का क्रियान्वयन किया जाएगा।

 डॉ. अग्रवाल ने बताया कि एनर्जी एफिसिएंसी कमेटी की पहली बैठक जून 2019 में हुई थी। जुलाई 21 में भी आयोजित बैठक में तात्कालीक समाधान पर चर्चा की गई। दिसंबर 2021 के अंत तक विभाग स्तर पर कार्ययोजना कोे अंतिम रूप दे रूप दे दिया जाएगा। उन्हाेंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि राज्य सरकार की बजट घोषणाओें को ध्यान में रखते हए व्यावहारिक व भविष्यदर्शी रोडमेप तैयार किया जाए।

 एसीएस डॉ. अग्रवाल ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा राज्य के सभी ब्लॉकों में किसानों को दिन में बिजली उपलब्ध कराने की बजट घोषणा की जा चुकी है। इसके क्रियान्वयन में 17 जिलों में काश्तकारों को दो पारी में दिन में बिजली उपलब्ध कराई जाने लगी है। चरणवद्ध तरीके से राज्य के अन्य जिलाें में भी काश्तकारों को दिन में बिजली उपलब्ध कराने की व्यवस्था सुनिश्चित करनी है। काश्तकारों को दिन में बिजली उपलब्ध कराने से अब रात को बिजली की मांग कम होगी तो दिन में पीक अवधि में बिजली की मांग बढेगी। उन्हाेंने जोर देकर कहा कि रोड़ मेप इस तरह से बनाया जाएगा जो फिजिबल हो, मांग व आपूर्ति को पूरा कर सके और प्रदेशवासियों को निर्बाध गुणवतायुक्त बिजली मिल सके।

 बैठक मेें विद्युत उत्पादन निगम के सीएमडी श्री आर.के. शर्मा, जेएस श्री आलोक रंजन, डिस्काम प्रबंध निदेशक में जयपुर के श्री नवीन अरोड़ा, अजमेर के श्री वीएस भाटी, जोधपुर के श्री अविनाश सिंघवी, निदेशक पॉवर ट्रेडिंग उर्जा विकास निगम श्री पीएस सक्सैना, मुख्य अभियंता उर्जा विकास निगम श्री मुकेश बंसल, निदेशक ऑपरेशन प्रसारण निगम श्री नरेन्द्र सुवालका, श्रीमती शीला मिश्रा मुख्य अभियंता न्यू पॉवर प्रोजेक्ट रेगुलेटरी आदि ने हिस्सा लिया।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment