Close X
Sunday, November 29th, 2020

पर्यटन मेलों और उत्सवों को और अधिक आकर्षक बनाएं : वसुन्धरा राजे

vasundhra rajeआई एन वी सी, जयपुर, मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने राज्य के विकास में पर्यटन के महत्व को रेखांकित करते हुए पर्यटन क्षेत्र में आधारभूत सुविधाओं के विकास के लिए उपलब्ध संसाधनों का बेहतर उपयोग करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने पर्यटन मेलों और उत्सवों को और अधिक आकर्षक बनाने पर बल दिया, ताकि अधिकाधिक देशी-विदेशी पर्यटक राजस्थान की ओर आकर्षित हो सकें। मुख्यमंत्री ने सांभर लेक को एक भव्य पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने तथा राज्य में आने वाले पर्यटकों को बेहतर सुरक्षा देने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जोधपुर से रामदेवरा के बीच धार्मिक पर्यटकों व श्रद्घालुओं को दुर्घटना-रहित सुरक्षित मार्ग देने के उद्देश्य से हमारे पिछले कार्यकाल (वर्ष 2003-08) में कार्य शुरू किया गया था, जिसे पूर्ववर्ती सरकार ने बंद कर दिया गया था, उस वैकल्पिक सडक़ मार्ग के विकास कार्य को पुन: शुरू किया जाए। श्रीमती राजे सोमवार को यहां मुख्यमंत्री कार्यालय में पर्यटन विभाग की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए विचार प्रकट कर रही थी। उन्होंने विभाग की 60 दिन की कार्य योजना तथा आगामी पांच सालों में राज्य में पर्यटन विकास के लिए तय किये गये लक्ष्यों पर विस्तृत प्रस्तुतीकरण देखा तथा अधिकारियों को समयबद्घ कार्यक्रम के अनुसार योजनाओं के सफल क्रियान्वयन के लिए दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि पर्यटन क्षेत्र में क्रियान्वित की जा रही योजनाओं का अधिकारी मौके पर जाकर अवलोकन करें तथा वहां पर्यटन सम्बन्धी आधारभूत सुविधाओं को विकसित करवायें। उन्होंने पर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण राजस्थान रॉयल तथा पैलेस ऑन व्हील पर्यटक रेलों में बेहतर सुविधाएं उपलब्ध करवाने के साथ-साथ टूर पैकेज को आकर्षक बनाने पर जोर दिया, ताकि प्रतिस्पर्धा के दौर में अधिकाधिक पर्यटक इन रेलों से राजस्थान के ऐतिहासिक स्थलों तथा यहां की सांस्कृतिक विविधता को देख सकें। उन्होंने पर्यटन सूचना केन्द्रों के सुदृढ़ीकरण करने के निर्देश भी दिए। उन्होंने कुछ परियोजनाओं के फोटो एलबम भी देखे, जिनमें कार्य शुरू करने से पहले तथा पूर्ण करने के बाद की स्थितियों के फोटोग्राफ देखकर उनकी प्रशंसा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के विभिन्न स्थलों में पर्यटन विभाग के तत्वावधान में आयोजित किये जाने वाले पर्यटक मेलों तथा जिला स्तर पर आयोजित पर्यटन उत्सवों को आकर्षक बनाया जाए। पर्यटन विकास के लिए एगे्रसिव मार्केटिंग करने, विभिन्न धार्मिक स्थलों पर पर्यटन को बढ़ावा देने, पर्यटन से रोजगार को जोडऩे, आमेर के हाथी गांव का समुचित विकास तथा वहां कालबेलिया लोकनृत्य के प्रशिक्षण की व्यवस्था करवाने, सवाई माधोपुर में शिल्पग्राम के सुदृढ़ीकरण के साथ ही राज्य के विभिन्न स्थलों पर बनी हवाई पट्टियों का पर्यटन की दृष्टि से उपयोग की संभावनाएं तलाशने के निर्देश अधिकारियों को दिए। श्रीमती राजे ने बैठक में अतिरिक्त मुख्य सचिव पर्यटन श्री राकेश श्रीवास्तव द्वारा प्रस्तुत राजस्थान में ट्यूरिस्ट सर्किट्स के विकास, ग्रामीण पर्यटन को प्रोत्साहन देने, राजस्थान दिवस के आकर्षक आयोजन जैसी प्रमुख विभागीय गतिविधियों एवं योजनाओं पर प्रस्तुतिकरण देखा। बैठक में मुख्य सचिव श्री राजीव महर्षि, प्रमुख शासन सचिव वित्त श्री सुभाष गर्ग, प्रमुख सचिव पर्यटन श्री राजेश्वर सिंह, आयोजना सचिव श्री अखिल अरोरा, आयुक्त पर्यटन श्रीमती गायत्री राठौड़, आरटीडीसी के पूर्व प्रबन्ध निदेशक श्री विनोद अजमेरा सहित सभी सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित थे।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment