Close X
Wednesday, December 2nd, 2020

पंजाब नवंबर में चौथे विश्व कबड्डी कप के लिए तैयार : सुखबीर

sukhbir singh badalआई एन वी सी,
पंजाब,
पंजाब के उपमुख्यमंत्री स. सुखबीर सिंह बादल ने आज यहां स्पष्ट किया कि पंजाब नवंबर, 2013 के मध्य में चौथे विश्व कबड्डी कप करवाने के लिए तैयार है जिसमें 25 देशों क ी लडक़े और लड़कियों की टीमें 15 दिन चलने वाले मैचों की रिकार्ड ईनामी राशि के लिए भिड़ेंगी। यहां स्पोर्टस क म्पलैक्सों का जायजा लेने के लिए रखी बैठक में उन्होंने वर्ष 2013-14 के खेल क ैलेंडर को अंतिम रूप प्रदान किया। स. बादल ने कहा कि कबड्डी कप दौरान नाडा की एंटी डोपिंग संबंधी कठोर निर्देश लागू किए जांएगे। उन्होंने कहा कि कबड्डी को विश्व स्तरीय बनाने के लिए पंजाब को यूरोप, अफ्रीका, अमेरिका और अन्य उप महाद्वीपों की टीमों की भागेदारी की जरूरत है। पंजाब सरकार प्राचीन खेल कुश्ती को ओलंपिक करवाने के अतिरिक्त कबड्डी को 2020 के ओलंपिक खेलों में शामिल करवाने के लिए अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक कमेटी के पास पहले ही प्रयास कर चुकी है। खेल केलैंडर को अंतिम रूप देते हुए स. बादल ने खेल विभाग के सचिव श्री अशोक गुप्ता को कहा कि वह हॉकी इंडिया और इंटरनेशनल हॉकी फैडरेशन से सलाह कर चार राज्यों के हॉकी टूर्नामैंटों की तिथियां निर्धारित करें। अंतरराष्ट्रीय हॉकी टूर्नामैंट दौरान ही हॉकी स्टेडियमों सहित 20 स्टेडियमों का उद्घाटन किया जाना है। खेलों के लिए विश्व स्तरीय बुनियादी ढांचे क ी जरूरत पर बल देते हुए स. बादल ने कहा कि 96 करोड़ रुपये की लागत से राज्य में 11 विश्व स्तरीय स्टेडियम पहले ही तैयार किए जा चुके हैं और 9 अन्य स्टेडियम इस दिसंबर में देश को समर्पित किए जांएगे। उन्होंने कहा कि यह सभी स्टेडियम फल्ड लाईटों वाले हैं और गांव घुद्दा और बादल के खेल स्टेडियम में प्रति स्टेडियम 5 करोड़ की लागत से सिंथैटिक ट्रैक तैयार किए गये हैं।  बैठक में उन्होंने बताया कि संपूर्ण किए 11 स्टेडियमों में से बठिंडा, संगरूर, अमृतसर, गुरदासपुर, मोहाली, फरीदकोट, पी ए यू लुधियाना, जालंधर और घुद्दा के स्टेडियम में फल्ड लाईटों की सुविधा है जबकि अधिकतर एस्ट्रोट्रफ वाले हैं। दिसंबर तक 9 अन्य स्टेडियम संपूर्ण कर दिए जांएगे जिनमें मानसा, लुधियाना, होश्यिारपुर, जी एन डी यू अमृतसर, हॉकी स्टेडियम बठिंडा, हॉकी स्टेडियम बादल, सिंथेटिक ट्रैक गांव बादल, मल्टी परपज़ स्टेडियम जलालाबाद, फाजिल्का शामिल हैं। स. बादल ने कहा कि अकाली-भाजपा सरकार खेलों के बुनियादी ढांचे पर बल दे रही है। इस सरकार के 2007-12 के कार्यकाल के दौरान 200 करोड़ रुपये के खेलों का बुनियादी ढांचा मुहैया करवाने पर खर्च किए गये जिसमें 6 एस्ट्रोट्रफ स्टेडियम, 7 मल्टी परपज़ स्टेडियम और मोहाली का स्पोर्टस कंपलैक्स शामिल है। उन्होंने कहा कि गांवों में खेल संस्कृति विकसित करने के लिए अकाली-भाजपा सरकार ने 22 करोड़ रुपये की लागत 5000 ग्रामीण जिमों को 9000 स्पोर्टस किटें वितरित की गई और अंतरराष्ट्रीय खेल मेलों में बढिय़ा  प्रदर्शन करने वाले खिलाडिय़ों को 9.81 करोड़ रुपये की पुरस्कार राशि वितरित की गई। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि नौजवानों को खेलों की तरफ आकर्षित करने के लिए सरकारी नौकरियों में 3 प्रतिशत स्पोर्टस कोटा निर्धारित करने के साथ-साथ 10 प्रसिद्ध खिलाडिय़ों को कैटागरी -ए नौकरियां दी गई।  राज्य मे ंखेल संस्कृति को प्रफूल्लित करने का वायदा करते हुए स. बादल ने कहा कि मौजूदा बजट में खेलों के लिए 91 करोड़ रुपये रखने के साथ-साथ राज्य के 1233 गांवों में खेल मैदान बनाने के लिए 13 करोड़ रुपये रखे गये हैं। उन्होंने कहा कि 2200 खिलाडिय़ों को श्रेणीबद्ध कर उनको 500 और 1000 रुपये प्रतिमाह छात्रवृति दी जाएगी। उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार पहले ही मोहाली में 100 करोड़ की लागत से शहीद बाबा दीप सिंह सैंटर ऑफ एक्सीलैंस इन स्पोर्टस बनाने का फैसला कर चुकी है। जिसके बठिंडा, जालंधर, लुधियाना और अमृतसर में क्षेत्रीय केंद्र बनाये जांएगे। इनमें उभरते 2000 खिलाडिय़ों का प्रशिक्षण के लिए चयन किया जाएगा।  इस बैठक में शामिल प्रमुख व्यक्तियों में खेल विभाग के सचिव श्री अशोक गुप्ता, श्री मनवेश सिंह सिद्धृू, अजय महाजन, श्री अश्विनी कुमार शर्मा (सभी विशेष प्रधान सचिव उपमुख्यमंत्री) शामिल थे। इनके अतिरिक्त निदेशक खेल श्री शिव दुलार सिंह और खेल प्रोजेक्टों के से संबंधित निर्माण कंपनियों के प्रतिनिधि शामिल थे।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment