Saturday, February 29th, 2020

पंजाब की सडक़ों की अगले दो वर्षो में बदलेगी तस्वीर : सुखबीर

images (1)आई एन वी सी,
पंजाब,
  • राजमार्गो को 4/6 मार्गीय बनाने पर खर्च होगें 13740 करोड रूपये
  • 1460 करोड रूपये की लागत से 230 किलोमीटर सडकों को 4/6 मार्गीय किया
  • 3080 करोड रूपये से 400 किलोमीटर सडकों के नवीनीकरण का कार्य अंतिम पडाव पर
  • 2500 करोड रूपये से 217 किलोमीटर स्टेट हाइवेज का कार्य जारी
  • अगले दो वर्षो में 6 हजार करोड रूपये से 535 किलोमीटर सडकों होगी पूरी
पंजाब सरकार द्वारा 13740 करोड रूपये की लागत से अगले दो वर्षो में राज्य के सभी राजमार्गो सहित अंतर शहरी सडकों का कायाकल्प किया जाएगा। पंजाब के उपमुयमंत्री स. सुखबीर सिंह बादल द्वारा आज यहां लोक निर्माण विभाग के चल रहे प्रोजैक्टों का जायजा लेते हुये यह जानकारी दी गई आज यहां राजस्व मंत्री स. बिक्रम सिंह मजीठिया,लोक निर्माण मंत्री स. शरणजीत सिंह ढिल्लो ने साथ लोक निर्माण विभाग के कार्य का जायजा लेने संबधी की गई बैठक की अध्यक्षता करत हुये स. बादल ने इस बात पर तसल्ली प्रकट की कि पांच वर्षो दौरान 1460 करोड रूपये की लागत से राज्य में 230 किलोमीटर राष्ट्रीय मार्गो को 6 मार्गीय किया गया है,जबकि 380 करोड रूपये की लागत से 400 किलोमीटर अन्य मार्गो को 4/6 मार्गीय करने का कार्य युद्ध स्तर पर चल रहा है। उन्होने कहा कि 101 किलोमीटर लबी सडकों के नवीनीकरण के लिए 700 करोड रूपये की लागत वाले प्रस्ताव को तैयार कर लिया गया है और शेष कार्यवाही को पूरा करके इस संबधी कार्य शीघ्र अलाट कर दिया जाएगा। उन्होने यह भी बताया कि राष्ट्रीय मार्ग -64 को 6 मार्गीय करने का कार्य जहां तेजी से चल रहा हेै वही राष्ट्रीय मार्ग -15 और 71 को भी 6 मार्गीय करने के लिए 6000 करोड रूपये स्वीकृत कर दिये गये है। सडकीय ढांचे का विकास का आधार बताते हुये स. बादल ने कहा कि पिछले अकाली भाजपा सरकार दौरान ढिलवां से अमृतसर तक राष्ट्रीय मार्ग -1 का जहां 263 करोड रूपये की लागत से 4 मार्गीय किया गया है वही अमृतसर-बाघा मार्ग को 206 करोड रूपये की लागत से चार मार्गीय किया गया है। इस के अतिरिक्त 90 करोड रूपये की लागत से जांलधर से भोगपुर,300करोड रूपये की लागत से मुकेरिया से पठानकोट,309करोड रूपये की लागत से कुराली से कीरतपुर साहिब सडकों को 4 मार्गीय किया गया है राष्ट्रीय मार्ग 22 को अबाला से जीरकपुर तक 298करोड रूपये की लागत से चार मार्गीय किया गया है। स. बादल द्वारा 3079 करोड रूपये की लागत से  दिसंबर 2013 तक पूरे किये जाने वाले राष्ट्रीय मार्ग-1 शंभू बार्डर से जांधलर,राष्ट्रीय मार्ग -1 ए भोगपुर से मुकेरिया, राष्ट्रीय मार्ग -15 पठानकोट से अमृतसर और राष्ट्रीय मार्ग 95 लुधियाना से तलवंडी तक 6 मार्गीय करने के चल रहे प्रोजैक्टों का निरीक्षण करते हुये अधिकारियों को आदेश दिया कि इन  राष्ट्रीय मार्गो का कार्य निश्चित समय तक पूरा किया जाए। उपमुयमंत्री द्वारा तीन महत्वपूर्ण सडकीय संपर्को को 6 मार्गीय करने को भी स्वीकृति दी गई जिसमें राष्ट्रीय मार्ग 95 खरड से लुधियाना,राष्ट्रीय मार्ग-1जांलधर से ढिलवां और राष्ट्रीय मार्ग 21 खरड से कुराली शामिल है। यह सभी प्रोजैक्ट दिसंबर 2015 तक पूरे होगेें।  बैठक दौरान यह भी जानकारी दी गई राष्ट्रीय मार्ग 64 जीरकपुर से पटियाला को चार मार्गीय करने का कार्य दिसंबर 2013 में अलाट किया जाएगा जोकि जून 2016 तक पूरा कर लिया जाएगा। 2007 करोड रूपये की लागत से पटियाला-बठिंडा सडकीय प्रोजैक्ट अब दिसंबर 2016 में पूरा होगा इसी प्रकार अमृतसर-बठिंडा सडक को चार मार्गीय करना अक्तूबर 2016 जबकि जांलधर -जींद सडक बरासता बरनाला 2468 करोड रूपये की लागत से जून 2016 तक तेैयार करली जाएगी। बैठक दौरान बठिंडा थर्मंल प्लांट के समीप राष्ट्रीय मार्ग -15 पर एक रेलवे ओवर ब्रिज बनाने को भी स्वीकृति दे दी गई है। बैठक दौरान अधिकारियों ने बताया कि 624.22 करोड रूपये की लागत से 520.44 किलोमीटर सडकों का कार्य पूरा कर लिया गया है जबकि रोपड-चमकौर साहिब-दोराहा सडक ,कोटकपुरा-मुक्तसर-मोरिडां-कुराली-सिसवां सडक ,बटाला-महत्ता-ब्यास सडक का कार्य 454.26 करोड रूपये की लागत से चल रहा है जो दिसंबर 2014 तक पूरा हो जाएगा।  2500 करोड रूपये की लागत से 427.19 किलोमीटर सडके जिनमें रईया से खारा,मानपुर हैड से जगराओ-रायपुर-मानपुर हैड से बरनाला-रायपुर,निदामपुर लहरा,टांडा-श्री हरगोङ्क्षबद पुर-अमृतसर,कपूरथला-नकोदर-फिल्लौर सडकें शामिल है, का नवीनीकरण करने को स्वीकृति दी गई है इसके अतिरिक्त 2505.89 करोड रूपये की लागत से लाडोवाल बाईपास और रोपड-नवांशहर-बंगा-फगवाडा सडक को 4 मार्गीय करने को भी स्वीकृति दी गई है। 460.50 किलोमीटर लबी 9 सडके जिन पर कुल 1400 करोड रूपये  खर्च होगें को भी स्वीकृति दी गई है इनमें बरनाला--मानसा-सरदूलगढ-सिरसा,रत्तिया-बोहा-बुढलाडा-भीखी,मुकेरिया-गुरदासपुर,धर्मकोट - जीरा  - फिरोजपुर-फिल्लौर - नागर-राहो,कपूरथला-तरनतारन-झबाल-अटारी,चंडीगढ -लांडरां-चुन्नी-सरहिन्द-पटियाला,रामपुरा-मोैड़-तलवंडी साबो-रामामंडी,मुक्तसर-मलोट सडकें शामिल है। उपमुयमंत्री द्वारा अधिकारियों को यह भी निर्देश दिये है कि 555 करोड रूपये की लागत वाली 91.37 किलोमीटर लबी 8 मुय सडकों के कार्य में तेजी लाई जाए इन सडकों में सिसवां कनाल सडक को चार मार्गीय करना,रोपड़ बाईपास को चार मार्गीय करना ,बेबे नानकी मार्ग को चौडा करना , तलवंडी साबो-रामा सडक को रिफायनरी के गेट तक चौडा और मजबूत करना,बटाला-महत्ता-ब्यास को चार मार्गीय करना-पठानकोट-सुजानपुर सडक को मजबूत करना प्रमुख है इसके अतिरिक्त राष्ट्रीय मार्ग -95 से लुधियाना हवाई अडडे तक नई सडक बनाने और इसको बीसा (बोरलाग इंस्टीच्यूट आफ साउथ एशिया)को पंजाब कृषि विश्व विद्यालय लुधियाना तक जोडना भी शामिल है।  बैठक दौरान अधिकारियों ने बताया 564.95 करोड रूपये की लागत से 33 रेलवे ओवर ब्रिजों का कार्य पूरा हो चुका है जबकि 111.80 करोड रूपये से 6 अन्य रेलवे ओवर ब्रिजों का कार्य पूरा होने के कगार पर हेै जोकि दिंसबर 2013 तक पूरा कर लिया जाएगा स. बादल द्वारा गोबिंदगढ में मलेरकोटला-रायकोट सडक और उत्तरी बाईपास पटियाला में 94.18 करोड रूपये की लागत से तीन अन्य रेलवे ओवर ब्रिज बनाने के कार्य को भी स्वीकृति दी गई। स. बादल ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को कहा कि वह सतलुज दरिया पर मत्तेवाडा के समीप,चक्की दरिया पर आबाद गढ क्र ासिंग  में ,ब्यास दरिया पर धनोआ पत्तण में हाई लेैवल ब्रिजों का कार्य निर्धारित समय मे पूरा होना यकीनी बनाए। यह सभी प्रोजैक्ट 266.14 करोड रूपये की लागत से जनवरी 2014 तक पूरे होने है इसके अतिरिक्त 76.84 करोड रूपये की लागत से ब्यास दरिया पर सुल्तानपुर लोधी-चोहला साहिब सडक पर हाई लेैवल ब्रिज बनाने को भी स्वीकृति दी गई है। बैठक दौरान मुयमंत्री के प्रमुख सचिव श्री एस के संधू,उपमुयमंत्री के प्रमुख सचिव/लोक निर्माण विभाग के सचिव श्री पी एस ओजला,श्री मनवेश सिंह सिद्धू और श्री अजय महाजन दोनों विशेष प्रमुख सचिव/ उपमुयमंत्री उपस्थित थे।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment