Close X
Thursday, April 22nd, 2021

नेत्रदान कर अंंधेरी दुनिया में रोशनी भरें

आई एन वी सी न्यूज
बेमेतरा,

राष्ट्रीय दृष्टिहीनता एवं अल्प दृष्टि नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत कलेक्टर श्री शिव अनंत तायल एवं मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सतीश शर्मा, सिविल सर्जन डॉ. वंदना भेले, नोडल अधिकारी डॉ. समता रंगारी (अंधत्व) के निर्देशानुसार प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी 25 अगस्त से 08 सितंबर 2020 तक राष्ट्रीय नेत्रदान पखवाड़ा पूरे बेमेतरा जिले में किया जाना है। नोडल अधिकारी डॉ. समता रंगारी ने बताया कि हमारी आंखे हमारे मरने के बाद भी किसी के काम आ सकती है। मनुष्य की मृत्यु के बाद उसके शरीर के एक ही अंग काम आ सकता है, वो है नेत्र। नेत्रदान मृत्यु के बाद ही किया जाता है। नेत्रदान के लिए यह जरूरी नहीं है कि वह अपने जीते जी घोषणा पत्र भरा हो। नेत्रदान कोई भी व्यक्ति कर सकता है, किन्तु रेबीज, एड्स, टिटेनेस, हेपेटाइटिस, सर्पदंश, लेप्रोसी, जहर, सिफलिस, डूबकर या जलकर, ऑख का कैंसर, फॉसी लगााकर, ब्लड कैंसर, सेप्टीसीमिया, तपेदिक एवं संक्रामक बीमारी व्यक्ति नेत्रदान के लिए उपयुक्त नही रहती।

यदि किसी की आंख के कॉर्निया की सफेदी कॉर्नियल ओपेसिटी के कारण दृष्टिहीनता है तो उसकी कॉनिया बदलने से वह व्यक्ति अंधेपन से छुटकारा पा सकता है और नेत्रदान करने वाला व्यक्ति मरने के बाद भी इस व्यक्ति की आंख से दुनिया देख सकता है। ऑख के कॉनिया में सफेदी आंखो के संक्रमण, चोट लगने, विटामिन ए की कमी, कुपोषण, कॉनियल डिस्ट्रॉफी और कुछ जन्मजात कारणो से होती है। इसके अलावा यदि किसी व्यक्ति की आंख में घाव हो जाए व उसकी पुतली कमजोर हो जाए तो उसकी आंखो की संरचना खराब होने से बचाने के लिए भी पुतली बदलने का ऑपरेशन किया जाना है जो कि एक आपातकालीन स्थिति है। कोरोना महामारी के समय केवल आपातकालीन ऑपरेशन किये जा रहे है। नेत्रदान संबंधी प्रक्रिया कोविड-19 से बचाव शासन के समस्त दिशा-निर्देर्शो का पालन करके किया जाना है। नेत्रदान के लिए मृत व्यक्ति के वारिस से लिखित सहमति लेने के बाद ही प्रशिक्षित अधिकारी के द्वारा मृत्यु के 06 घंटे के भीतर नेत्र गोलक को निकाला जाता है। मृत्यु के बाद मृतक की आंखे बंद कर देनी चाहिए, पंखा भी बंद देना चाहिए। गर्मी का समय हो तो पलकों के ऊपर गीला कपड़ा या रूई रख दें। यदि बर्फ हो तो कपड़े/रूई के ऊपर रख दें। आंखे किसे दिया जाता है ये गुप्त रखा जाता है। एक व्यक्ति के नेत्रदान से 2 दृष्टिहीन पुनः दुनिया देख सकते है।

नेत्रदान के लिए बेमेतरा के जिला नोडल अधिकारी डॉ. समता रंगारी मो. नम्बर 8839326645 और श्री विजय देंवागन सहायक नेत्रदान अधिकारी 9926776556 से संपर्क किया जा सकता है। नेत्रदान के संबंध में बैठक में नेत्र सहायक अधिकारी श्री विजय देवांगन, श्री व्ही.के बघेल, श्री विनोद कुमार साहू, श्री राकेश कुमार साहू, श्री ओंकार सिंह चद्रांकर, कुमारी दीपा शर्मा, श्रीमती सीमा मण्डावी, श्रीमती आशा बरवा, उपस्थित थे। आइये नेत्रदान कर, किसी की अंंधेरी दुनिया में रोशनी भरें।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment