Close X
Wednesday, December 2nd, 2020

नीरव मोदी की ब्रिटिश कोर्ट से सातवीं बार जमानत अर्जी खारिज

लंदन । भारतीय बैंकों को करोड़ों का चूना लगाकर भागे हीरा कारोबारी नीरव मोदी की ब्रिटेन की वेस्टमिंस्टर मैजिस्ट्रेट की कोर्ट ने जमानत याचिका सातवीं बार खारिज कर दी। ब्रिटेन में उसे पिछले साल भारत के प्रत्यर्पण वारंट पर गिरफ्तार किया गया था। उसने कथित तौर पर नए सबूतों के साथ अपनी जमानत के लिए कोर्ट में आवेदन किया था। लेकिन, वह जज सैमुअल गूजी को प्रभावित करने में विफल रहा। वहीं, भारत की तरफ से इस मुकदमें की पक्षकार सीबीआई ने इसे अपनी जीत बताया है। सीबीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इस मामले पर कहा कि कोर्ट द्वारा जमानत की अर्जी को बार-बार खारिज करना यूनाइटेड किंगडम के विदेश मंत्रालय और क्राउन प्रॉसिक्यूशन सर्विस सीबीआई के बीच शानदार तालमेल का नतीजा है। इस साल मार्च में नीरव मोदी की हाईकोर्ट में आखिरी जमानत पर सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति इयान डोवे ने कहा था कि प्रस्तुत उपायों से मेरे फरार होने के जोखिम की केंद्रीय चिंता का निवारण नहीं किया गया है।
उल्लेखनीय है कि मोदी ने पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के साथ करीब दो अरब डॉलर की धोखाधड़ी को अंजाम दिया। इसे लेकर भारत में विभिन्न जांच एजेंसियों ने उनके खिलाफ मामले दर्ज किए हैं। इस मामले में मोदी के सहयोगी मेहुल चौकसी भी भारत में वांछित हैं। ब्रिटेन की क्राउन अभियोजन सेवा (सीपीएस) के जरिए भारत इस वांछित अभियुक्त के प्रत्यर्पण की मांग कर रहा है। पिछले साल मार्च में गिरफ्तार होने के बाद नीरव मोदी इस समय दक्षिण लंदन में स्थित वांड्सवर्थ जेल में बंद है। वह जेल से वीडियो लिंक के माध्यम से वेस्टमिंस्टर मैजिस्ट्रेट कोर्ट की कार्यवाही से जुड़ा हुआ है। ब्रिटेन में भी कोरोना वायरस संक्रमण के कारण अदालतों की कार्यवाही वीडियोलिंक के माध्यम से ही की जा रही हैं। PLC.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment