Close X
Monday, January 17th, 2022

निवेश हेतु झारखण्ड सम्भावनाओं का प्रदेश है : रघुवर

downloadआई एन वी सी न्यूज़ राँची, मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि सरकार पारसनाथ को सबों के सहयोग से अन्तर्राष्ट्रीय पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करेगी। इस धार्मिक पर्यटन स्थल के विकास में सबों का सहयोग अपेक्षित है। सबों के सहयोग से ही लोगों की भावनांए जुटती हैं। कोई भी सहयोग छोटा या बड़ा नहीं होता है। राज्य सरकार पारसनाथ में पर्यटन सुविधाओं एवं इन्फ्रास्ट्रक्चर को विकसित करने में कोई कसर बाकी नहीं रखेगी। सड़कों के चौड़ीकरण के साथ-साथ पारसनाथ रेलवे स्टेशन से लेकर मधुबन तक हाईवे पेट्रोलिंग शुरू करा दी गई है। जैन समाज के जो लोग पारसनाथ के संरक्षण अथवा विकसित करने के प्रति गम्भीर हैं, उनसे अपेक्षा है कि वे प्रवासी भारतीयों सहित जैन समाज के प्रबुद्ध लोगों को साथ लेकर पारसनाथ के विकास की अभिकल्पना एवं आर्किटेक्चर के साथ सरकार के साथ बैठें एवं इस दिशा में कार्यनीति को अंतिम रूप देकर विकास के कार्य को आगे बढ़ाएं। मुख्यमंत्री आज प्रोजेक्ट भवन स्थित अपने कार्यालय कक्ष में मुख्य सचिव श्री राजीव गौबा एवं मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री संजय कुमार के साथ जैन समाज के एक प्रतिनिधिमंडल से वार्ता कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के सभी पर्यटन स्थलों पर पर्यटक सुविधाएं उपलब्ध कराने हेतु राज्य सरकार प्रयासरत है। पारसनाथ को भी बोधगया एवं देवघर के टूरिस्ट सर्किट से जोड़े जाने की योजना है। चतरा जिले के इटखोरी में भी जैन धर्म के पुरातात्विक प्रमाण हैं, जिनके वैज्ञानिक तरीके से उत्खनन किए जाने की आवश्यकता है। पर्यटन के विकास से ही स्थानीय लोगों को भी रोजगार के अवसर मिलेंगे। उन्होंने कहा कि निवेश हेतु भी झारखण्ड सम्भावनाओं का प्रदेश है। यहां आकर उद्यम स्थापित करने की इच्छा रखने वाले प्रवासी भारतीय अथवा स्थानीय उद्यमियों को सरकार हर सम्भव सहायता करने को तैयार है। उन्होंने प्रतिनिधिमंडल से कहा कि वे पारसनाथ का दौरा कर वापस लौट कर अपनी कार्य योजना तैयार कर पुनः मिलें। अहमदाबाद से आए भरत भाई बगड़िया ने कहा कि बाहर से आए उद्यमियों/व्यवसायियों को राज्य सरकार की ओर से सौजन्य उपलब्ध कराने के लिए वे मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास जी एवं उनके सहयोगियों के प्रति आभार प्रकट करते हैं। म्ंेम व िक्वपदह ठनेपदमेे राज्य सरकार के दृढ़ संकल्प शक्ति का परिणाम है। श्री बगड़िया ने कहा कि गुजरात के अहमदाबाद स्थित उनकी संस्था ‘‘गीता-गंगा’’ सभी धर्मों की मूल पाण्डुलिपियों को डिजिटाईज्ड करा रही है। इसी के क्रम में माननीय मुख्यमंत्री जी ने भी हर सम्भव सहयोग का आश्वासन दिया है। मुम्बई से आए भविक जी ललन ने मधुबन पहाड़ की परिस्थितिकी के संरक्षण पर बल दिया। मुम्बई के ही मुकेश कुमार दोषी एवं अमेरिका स्थित ओरेकल कम्पनी के निदेशक श्री निक झबेरी ने मुख्यमंत्री के समक्ष पारसनाथ से संबंधित अपने सुझावों को रखा जिन पर मुख्यमंत्री ने सम्यक विचारोपरांत आवश्यक कार्रवाई का आश्वासन दिया।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment