मानसून सत्र में कांग्रेस विधायक नवजोत सिंह सिद्धू सत्ता पक्ष की सीटों की तीसरी कतार में दिखाई दे सकते हैं। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से नाराज चल रहे और कैबिनेट मंत्री के पद से इस्तीफा दे चुके सिद्धू अब तक पहली दो कतारों में मंत्री के रूप में सीट पर काबिज थे लेकिन अब उन्हें विधायक के तौर पर पिछली सीटों पर स्थान मिलेगा। 

इस बीच, सत्र के दौरान कई विपक्षी सदस्यों की सीटें खाली रहने की भी आशंका है। अकाली-भाजपा गठबंधन के दो सदस्यों के लोकसभा सांसद चुने जाने के कारण सीटें खाली हुई हैं। वहीं आम आदमी पार्टी के इस्तीफा दे चुके छह विधायकों की सीटें भी खाली रहने के आसार हैं। हालांकि यह सत्र मात्र तीन सीटिंग तक ही सीमित किया गया है लेकिन इसकी अवधि बढ़ाए जाने की विपक्षी दलों की मांग पर शुक्रवार को विधानसभा की एडवाइजरी कमेटी की बैठक में फैसला लिया जाएगा।

शुक्रवार दोपहर 2 बजे शुरू हो रहे विधानसभा सत्र के पहले दिन दिवंगतों को श्रद्धांजलि देने के बाद सदन सोमवार तक के लिए स्थगित हो जाएगा। लेकिन पहले ही दिन सदन में सदस्यों की संख्या पहले जैसी दिखाई नहीं देगी। सत्ता पक्ष की सीटों पर नवजोत सिद्धू संसदीय मामलों के मंत्री ब्रह्म मोहिंदरा के साथ बैठे दिखाई नहीं देंगे, बल्कि उनकी सीट अब तीसरी कतार में हो सकती है। PLC.