Thursday, February 27th, 2020

नई खनिज नीति को सरल बनाया जाएगा

आई एन वी सी न्यूज़
जयपुर, 

खनिज मंत्री श्री प्रमोद जैन भाया ने कहा कि राज्य की नई खनिज नीति को सरल बनाया जाएगा। इस नीति में खनन से जुड़ी सभी व्यक्तियों की भावनाओं को समावेश किया जाएगा।

श्री भाया सोमवार को जोधपुर में चल रहे पश्चिमी राजस्थान उद्योग हस्तशिल्प उत्सव-2020 के अवसर पर ‘राज्य की संभावनाएं’ विषय पर आयोजित कार्यक्रम मे मुख्य अतिथि के रूप में बोल रहे थे। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार के घोषणा पत्र के अनुसार लोगों की व्यावहारिक समस्याओं को सुलझाने में अनुकूल पालना की जाएगी। उन्होंने बताया कि मकर संक्रांति के बाद राज्य में संभाग स्तरीय बैठके रखकर खनिज क्षेत्र में आ रही समस्याओं पर विचार करके समाधान के प्रयास किए जाएंगे।

उन्होंने कहा कि राज्य के पचपदरा क्षेत्र में रिफाईनरी मुख्यमंत्री का सपना व विजन है और उनके द्वारा गैस व पैट्रोकेमिकल खोज कीे अनुमति प्रदान करने के फलस्वरूप ही वहां गैस के अथाह भंडार मिले। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने 2022 तक रिफाईनरी में उत्पादन के निर्देश दिए है। इससे इस क्षेत्र में उद्योंगों का विकास होने के साथ-साथ युवाओं को रोजगार तो मिलेगा ही साथ ही इससे संबंधित युवाओं को प्रशिक्षण भी दिया जाएगा ताकि जानकारियां प्राप्त करके नए-नए उद्योग स्थापित हो सकेंगेें।

इस अवसर पर रीको के श्री अनूप माथुर ने बताया कि रीको द्वारा रिफाईनरी कम पेट्रोकेमिकल्स काम्पलेक्स पचपदरा में बनेगा। पेट्रोकेमिकल की देश में 45 प्रतिशत की आयात की दृष्टि से मांग है। उन्होंने पेट्रोकेमिकल की वेल्यू चेन पर प्रकाश डाला तथा इसकी अलग अलग स्टेज के बारे में तकनीकी एवं वैज्ञानिक पहलुओं की जानकारियां दी। उन्होंने रिफाईनरी में पैट्रोकेमिकल के उत्पादन की विस्तृत जानकारी से भी अवगत करवाया। श्री माथुर ने पीसीसी आउ अन् एर्स की देश में अलग अलग वस्तुस्थितियों की विस्तार से जानकारियां प्रदान की।

उत्सव के संयोजक श्री सुनील परिहार ने अतिथियों का स्वागत किया और खनन को उद्योग का दर्जा देने का सुझाव दिया। खनन प्रक्रिया की भी प्राथमिकता देना आवश्यक है। पिछले करीब 7 सालों से खनिज क्षेत्र को चुनौतियों के दौर से गुजरना पड़ रहा है। उन्होंने राज्य की भौगोलिक परिस्थितियों के मद्देनजर खनिजों के लिए पुनर्चिंतन की आवश्यकता ही बड़े व छोटे मिनरल्स के प्रति सकारात्मक दृष्टि्रकोण की बेहद जरूरत है। मिनरल्स की लीजधारकों के लाइसेंस की अवधि 30 से बढाकर 50 वर्ष की जानी चाहिए।

कार्यक्रम के आरंभ में मरूधरा इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री ज्ञानीराम भालू ने अतिथियों का स्वागत किया एवं सचिव श्री मुकेश खत्री ने आभार व्यक्त किया।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment