Close X
Tuesday, October 26th, 2021

दी जाएगी हर संभव मदद

आई एन वी सी न्यूज़
जयपुर,
वन एवं पर्यावरण विभाग (स्वतंत्र प्रभार), खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति तथा उपभोक्ता मामले विभाग राज्य मंत्री श्री सुखराम विश्नोई ने गुरूवार को अलवर जिले के सरिस्का अभयारण्य का भ्रमण कर बाघ एवं वन्य जीव संरक्षण को लेकर विभिन्न निर्देश दिए। इस दौरान उन्होंने वन विभाग से जुडी विभिन्न गतिविधियों एवं राज्य की योजनाओं की समीक्षा की।

पर्यावरण एवं वन मंत्री श्री विश्नोई एवं श्रम राज्य मंत्री श्री टीकाराम जूली ने सरिस्का अभयारण्य में रेस्ट हाउस में ग्रामीणों के प्रतिनिधि मंडल से मिलकर उनकी समस्याओं को सुना। श्री विश्नोई ने सीसीएफ को निर्देश दिये कि कुशालगढ से थानागाजी तक एलिवेटेड सडक निर्माण कराने के प्रस्ताव तैयार कर एनसीआर प्लानिंग बोर्ड एवं एनएचआई को भिजवाए।

उन्होंने ग्रामीणों की मांग पर पाण्डुपोल हनुमान मंदिर में जाने वाले स्थानीय दर्शानार्थी के दुपहिया व चौपहिया वाहनों पर लगाए जा रहे शुल्क को घटाकर न्यूनतम करने के प्रस्ताव बनाकर भिजवाने के निर्देश दिये। उन्होंने वन अधिकार अधिनियम को लागू कराने, सरिस्का अभयारण्य की सीमा से 100 मीटर तक ही ईको सेन्सेटिव जोन रखने, विस्थापन के मुआवजे एवं विस्थापन प्रक्रिया में देय मुआवजे में सरलीकरण कराने की ग्रामीणों की मांग पर कहा कि वन कानूनों के दायरे में जो भी राहत दी जा सकती है वह राज्य सरकार के द्वारा प्रदान की जाएगी।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment