Monday, December 16th, 2019

दलितों पर हमला सरकार की रजवाडा शाही सोच परिणाम 

आई एन वी सी न्यूज़
चण्डीगढ ,

 भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय सचिव तरूण चुघ ने संगरूर जिले के गांव चंगालीवाला के दलित युवक जगमेल सिंह को पीलर से बांधकर उसकी जांघो से हैवानियत की चरमपराकाष्टा करते हुये मांस को नोचने की वीमत्स राक्षसी पृवर्ति से किये गये अमानवीय कुकर्म जिसमें उसकी मौत हो गई कटू आलोचना की।

चुघ ने कैप्टन अमरिन्दर सिंह सरकार की रजवाडा शाही सोच को घटना का जिम्मेदार करार देते हुये कहा की जबसे पंजाब की बागडोर राजमहलो से शाषण चलाने वाले नेताओं को मिली है तब से पंजाब का दलित भाईचारा अपने आपको निसहाय ,नीरिह व दुसरे दर्जे का नागरिक समझने के लिये मजबुर हो चुका है।

चुघ ने कहा की संगरूर जिला निवासी जगमेल सिंह को 7 नवंवर को कुछ लोगों ने आपसी रंजिश के कारण पकड़ लिया था और उठाकर एक मकान में ले गए। वहां उन लोगों ने युवक को एक पिलर से बांध दिया और तीन घंटे तक रॉड व लाठियों से बुरी तरह पीटते रहे। इस दौरान उन्होंने युवक पर अमानवीयता और पानी मांगने पर उसे मूत्र पिलाया। इन लोगों ने दरिंदगी की सारी सीमाएं लांघ दी और उसकी जांघों से मांस भी नोचा।

चुघ ने दलित युवक जगमेल सिंह की नृंशस हत्या पर पंजाब कांग्रेस के प्रधान सुनील जाखड की प्रतिक्रिया को राजनीति से प्रेरित बताते हुये कहा की माब लीचिंग की आड में कैप्अन सरकार इस घिनौनी हत्या पर पर्दा नही डाल सकती। उन्होंने कहा की भारत में भाव लिचिंग की नींव 1984 में कांग्रेस के नेताओं की मिली भगत से डाली गई थी जिसमें 3000 से अधिक सिखो को घरो से खींच कर जलते टायरों को गलों में डाल कर मारा गया था।

चुघ ने उपरोक्त घटना से आहत व पीडित परिवार के साथ सम्वेदना प्रकट करते हुये कहा की संगरूर दलित हत्या मामले को दिल्ली में राष्ट्रीय अनुसुचित जाति आयोग के संज्ञान में लायेगें।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment