Close X
Tuesday, June 22nd, 2021

दमदार योगी : किसी भी दशा में सुरक्षा चक्र न टूटने पाए

 योगी आदित्यनाथ पिता के अंतिम संस्कार में नहीं होंगे शामिल

डोर स्टेप डिलीवरी में लगे लोगों की भी जांच की जाए

बाहर से आने वालों को हर हाल में क्वारेंटाइन किया जाए

अधिक से अधिक लोगों को ट्रैक करते हुए टेस्टिंग की जाए

कोरोना संदिग्ध लोगों की अनिवार्य रूप से टेस्टिंग करायी जाए

पूल टेस्टिंग को प्रोत्साहित किया जाए

कार्य योजना बनाकर एक्सप्रेस-वे परियोजनाओं का निर्माण
कार्य प्रारम्भ किया जाए

नोडल अधिकारी फोन पर उपलब्ध रहकर लोगों की समस्याओं
को सुनें तथा उनका समाधान कराए
-श्री अवनीश कुमार अवस्थी
प्रदेश के 08 जनपद कोरोना संक्रमण शून्य

प्रदेश में अब तक 129 लोग उपचारित होकर हुए डिस्चार्ज

प्रदेश में कोरोना के 1030 मामले एक्टिव

अब तक 31,726 लोगों के सैम्पल टेस्ट में 30,550 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव



आई एन वी सी न्यूज़
लखनऊ ,

अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश कुमार अवस्थी ने आज लोक भवन स्थित मीडिया सेंटर में मीडिया प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि मुख्यमंत्री जी ने निर्देश दिए हैं कि कोटा, राजस्थान से प्रदेश वापस लौटे सभी विद्यार्थियों की स्क्रीनिंग कराकर होम क्वारेंटाइन में अवश्य रखे जाने के निर्देश दिए हैं। यह सुनिश्चित किया जाए कि इन विद्यार्थियों द्वारा ‘आरोग्य सेतु’ एप डाउनलोड करने के बाद ही उन्हें घर भेजा जाए। उन्होंने कहा कि किसी भी दशा में सुरक्षा चक्र न टूटने पाए इसके लिए पूरी सतर्कता बरतना आवश्यक है। उन्होंने बताया कि पिछले तीन दिनों में कोटा से लगभग 10,500 विद्यार्थियों को बसों के माध्यम से सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए लाया गया, सभी विद्यार्थियों की स्क्रीनिंग, जांच के उपरान्त उन्हें उनके घर पर होम क्वारेंटाइन किया गया।


श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने निर्देश दिया है कि डोर स्टेप डिलीवरी में लगे लोगों की भी जांच की जाए। यह भी सुनिश्चित किया जाए कि यह लोग मास्क आदि लगाकर सामग्री की आपूर्ति करें। बाहर से आने वालों को हर हाल में क्वारेंटाइन किया जाए। अधिक से अधिक लोगों को ट्रैक करते हुए टेस्टिंग की जाए। कोरोना संदिग्ध लोगों की अनिवार्य रूप से टेस्टिंग करायी जाए। पूल टेस्टिंग को प्रोत्साहित किया जाए। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने 10 या उससे अधिक कोरोना पाॅजिटिव केसेज वाले जनपदों में लाॅक डाउन व्यवस्था को पूरी तरह जारी रखने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण को नियन्त्रित करने के लिए लाॅक डाउन के नियमों तथा सोशल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन आवश्यक है।  


श्री अवस्थी ने बताया कि विभिन्न राज्यों से प्रदेश में वापस पहुंचे श्रमिकों को स्थानीय स्तर पर रोजगार उपलब्ध कराने के उद्देश्य से कृषि उत्पादन आयुक्त की अध्यक्षता में गठित समिति की आज बैठक आहूत कर एक कार्य योजना तत्काल प्रस्तुत करे। यह समिति राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन तथा मनरेगा योजना के माध्यम से रोजगार सृजन की सम्भावनाओं पर भी विचार विमर्श करे। उन्होंने बताया कि कतिपय उद्योगों कोे संचालित किए जाने की सशर्त अनुमति दी गयी है। यह सुनिश्चित किया जाए कि अव्यवस्था की स्थिति उत्पन्न न होने पाए। सोशल डिस्टंेसिंग के मानकों का अनुपालन हर हाल में हो। कार्य योजना बनाकर एक्सप्रेस-वे परियोजनाओं का निर्माण कार्य प्रारम्भ किया जाए। उन्होंने प्रमुख सचिव ग्राम्य विकास को निर्देशित किया कि बुन्देलखण्ड क्षेत्र में पेयजल की समस्या न हो। मुख्यमंत्री जी ने निर्देश दिया है कि सभी नोडल अधिकारी फोन पर उपलब्ध रहकर लोगों की समस्याओं को सुनें तथा उनका समाधान कराएं।


श्री अवस्थी ने बताया कि पुलिस बल तथा पूरी मेडिकल टीम को हर हाल में संक्रमण से सुरक्षित रखा जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि पुलिस कर्मी सुरक्षा के उपकरण लगाकर ही ड्यूटी पर ही जाएं। मास्क, दस्ताने तथा शील्ड का अनिवार्य रूप से इस्तेमाल करें। कोविड-19 के रोगियों के उपचार में लगे डाॅक्टरों तथा अन्य चिकित्सा कर्मियों को प्रत्येक दशा में संक्रमण से बचाए रखने के लिए सभी जरूरी कदम उठाए जाएं। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि जिन राजकीय मेडिकल काॅलेजों में कोविड-19 के सैम्पल की टेस्टिंग सुविधा उपलब्ध नहीं है वहां टेस्टिंग लैब स्थापित की जाए। राजकीय मेडिकल काॅलेज विहीन मण्डल मुख्यालय के जिला चिकित्सालय में टेस्टिंग लैब स्थापित की जाए। चिकित्सा कर्मियों के कोविड नियंत्रण प्रशिक्षण एवं अस्पतालों में संक्रमण से सुरक्षा के सभी उपाय करते हुए इमरजेन्सी सेवाओं का संचालन प्रारम्भ किया जाए। मास्टर ट्रेनर्स के माध्यम से आम जनता को भी उपचार की प्राथमिक विधि के बारे में प्रशिक्षित करने के लिए एक कार्य योजना तैयार की जाए।  


श्री अवस्थी ने बताया कि कोरोना वायरस के दृष्टिगत प्रदेश में लाॅक डाउन अवधि में पुलिस विभाग द्वारा की गयी कार्यवाही में अब तक धारा 188 के तहत 24,446 लोगों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज की गई। प्रदेश में अब तक 20,61,890 वाहनांे की सघन चेकिंग में 27,272 वाहन सीज किये गये। चेकिंग अभियान के दौरान 9,49,88,736 रूपए का शमन शुल्क वसूल किया गया। आवश्यक सेवाओं हेतु कुल 1,66,972 वाहनों के परमिट जारी किये गये हैं। उन्होंने बताया कि कालाबाजारी एवं जमाखोरी करने वाले 609 लोगों के खिलाफ 481 एफआईआर दर्ज करते हुए 218 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार फेक न्यूज पर कड़ाई से नजर रख रही है। फेक न्यूज के तहत अब तक 429 मामलों का संज्ञान में लेते हुए साइबर सेल को सूचित किया गया है। उन्होंने बताया कि तब्लीगी जमात के 2871 लोगों को चिन्हित कर उनका टेस्ट किया गया है। सभी 325 विदेशी व्यक्तियों का चिकित्सकीय परीक्षण करके क्वारेंटाइन किया गया है। तब्लीगी जमात के 45 विदेशी सदस्यों पर एफआईआर दर्ज की गई है तथा 259 पासर्पोट जब्त किये गये हैं।  


श्री अवस्थी ने बताया कि प्रदेश में अब तक 322 हाॅट स्पाॅट चिन्हित करते हुए 35,97,906 व्यक्तियों को चिन्हित किया गया है। हाॅट स्पाॅट क्षेत्रों में रह रहे लोगों को 1450 डोर स्टेप डिलिवरी मिल्क बूथ एवं मैन के द्वारा दूध वितरित किया जा रहा है। फल एवं सब्जी वितरण के लिए कुल 2,427 वाहन लगाये गये हैं इन क्षेत्रों में 2,647 व्यक्तियों एवं 1,925 प्रोविजनल स्टोर के माध्यम से आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति की जा रही है। हाॅट स्पाॅट क्षेत्रों के लिए 155 सामुदायिक किचन संचालित हैं।


श्री अवस्थी ने बताया कि उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड की श्रमिक भरण-पोषण योजना के तहत निर्माण कार्यों से जुड़े, नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्र के कुल 25.13 लाख श्रमिकों एवं निराश्रित व्यक्तियों को भी एक-एक हजार रूपए की धनराशि का भुगतान किया जा चुका है। उन्होंने यह भी बताया कि प्रदेश की 38,437 औद्योगिक इकाईयों से सम्पर्क किया गया, जिनमें 37,160 इकाईयों द्वारा अपने श्रमिकों को लगभग 564.49 करोड़ रुपये के वेतन का भुगतान किया जा चुका है।


श्री अवस्थी ने बताया कि प्रदेश में 746 सरकारी तथा 1313 स्वैच्छिक कम्यूनिटी किचन के माध्यम से 13,34,856 लोगों को फूड पैकेट्स वितरित किये गये हैं। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के अन्तर्गत प्रदेश में प्रचलित कुल 3,56,45,732 राशन कार्डों के सापेक्ष 2,93,50,329 कार्डों पर 6,14,196.045 मी0टन खाद्यान्न का निःशुल्क वितरण किया गया। डोर-स्टेप-डिलीवरी व्यवस्था के अन्तर्गत 21,829 किराना स्टोर क्रियाशील हैं, जिनके माध्यम से 50,842 डिलीवरी मैन आवश्यक सामग्री निरंतर पहुंचा रहे हैं। फल एवं सब्जी वितरण व्यवस्था के अन्तर्गत कुल 46,848 वाहनों की व्यवस्था की गयी है। इसी क्रम में कुल 54.70 लाख लीटर दूध उपार्जन के सापेक्ष 35.89 लाख लीटर दूध का वितरण 21,178 डिलीवरी वैन के माध्यम से किया गया है।


प्रमुख सचिव स्वास्थ्य श्री अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश के 08 जनपद कोरोना संक्रमण शून्य हो गये हैं। प्रदेश के 52 जिलों से अब तक 1176 कोरोना पाॅजिटिव के मामले सामने आए हैं, जिसमें से 1030 मामले एक्टिव हैं। अब तक 129 मरीज पूरी तरह से उपचारित हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 15 टेस्टिंग लैब क्रियाशील हंै। उन्होंने बताया कि लोकबन्धु अस्पताल को एल-2 कैटेगरी में शामिल करने की अधिसूचना जारी कर दी गयी है। प्रदेश में अब प्रतिदिन 2,000 से अधिक सैम्पल टेस्ट किये जा रहे हैं। अब तक 31,726 लोगों के सैम्पल टेस्ट किये गये जिसमें से 30,550 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। 1,020 लोगों को आइसोलेशन वार्ड में तथा 10336 लोगों को फैसिलिटी क्वारेंटाइन में रखा गया है। उन्होंने बताया कि कोरोना पाॅजिटिव पाये गये लोगों में 0-20 आयु वर्ग के 19.39 प्रतिशत, 21-40 आयु वर्ग के 48.04 प्रतिशत, 41-60 आयु वर्ग के 24.06 प्रतिशत और 60 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोगों की संख्या 8.5 प्रतिशत है। इसमें 78 प्रतिशत पुरूष जबकि 22 प्रतिशत महिलाएं कोरोना पाॅजिटिव पायी गयी है।  

 

 योगी आदित्यनाथ पिता के अंतिम संस्कार में नहीं होंगे शामिल


     

लखनऊ, सीएम योगी आदित्यनाथ अपने पिता की अंतिम यात्रा में शामिल नहीं होंगे। योगी ने परिजनों से भी की भीड़ ना बढ़ाने की अपील की है।योगी ने कहा कि अपने पूज्य पिताजी के कैलाशवासी होने पर मुझे भारी दुःख एवं शोक है। वे मेरे पूर्वाश्रम के जन्मदाता हैं। जीवन में ईमानदारी कठोर परिश्रम एवं निस्वार्थ भाव से लोक मंगल के लिए समर्पित भाव के साथ कार्य करने का संस्कार बचपन में उन्होंने मुझे दिया।

योगी ने कहा कि अन्तिम क्षणों में उनके दर्शन की हार्दिक इच्छा थी, परन्तु वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के खिलाफ देश की लड़ाई को यूपी की 23 करोड़ जनता के हित में आगे बढ़ाने का कर्तव्यबोध के कारण मैं न कर सका। कल 21 अप्रैल को अन्तिम संस्कार के कार्यक्रम में लॉकडाउन की सफलता तथा महामारी कोरोना को परास्त करने की रणनीति के कारण भाग नहीं ले पा रहा हूं। पूजनीया मां, पूर्वाश्रम से जुड़े सभी सदस्यों से भी अपील है कि वे लॉकडाउन का पालन करते हुए कम से कम लोग अन्तिम संस्कार के कार्यक्रम में रहें। पूज्य पिताजी की स्मृतियों को कोटि-कोटि नमन करते हुए उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित कर रहा हूं। लॉकडाउन के बाद दर्शन करने आएंगा।

दिल्ली के एम्स में अंतिम सांस ली
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पिता आनंद सिंह बिष्ट ने सोमवार को दिल्ली के एम्स में अपनी अंतिम सांस ली। उन्हें लिवर और किडनी की समस्या थी और बीते 13 अप्रैल से वह एम्स में भर्ती थे। यहां पर गेस्ट्रो विभाग के डॉक्टर विनीत आहूजा की टीम उनका इलाज कर रहे थे। वहीं, जैसे ही सीएम योगी को दुःखद समाचार मिला, उन्होंने टीम 11 की साथ चल रही मीटिंग को स्थगित कर दी और चुपचाप अपने कमरे में चले गए।

एम्स के एक डॉक्टर ने बताया कि आंनद सिंह बिष्ट को मुख्य रूप से पेट की तकलीफ के चलते भर्ती किया गया था। इसके अलावा डिहाइड्रेशन, लो-बीपी और पैरों में गैंगरीन की समस्या थी। अस्पताल में भर्ती करने के बाद उनकी स्वास्थ्य संबंधी जांच हुई थी। उसी रिपोर्ट के आधार उनका उपचार किया जा रहा था।

काफी समय से खराब थी तबीयत
योगी के पिता आनंद सिंह की तबीयत पहले से खराब चल रही थी। कुछ समय पहले भी उन्‍हें देहरादून के अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था। उस वक्‍त उन्‍हें डिहाइड्रेशन की शिकायत थी। उन्‍हें पहले से बीपीसी समेत एक गैंग्रीन जैसी गंभीर बीमारी थी।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment