Saturday, July 11th, 2020

तबलीगी मौलाना साद का नया ऑडियो- सरकार के साथ संघर्ष करें तो बदला, सपोर्ट करें तो झुक गए

नई दिल्ली, तबलीगी जमात और मरकज के प्रमुख मौलाना साद ने एक नया ऑडियो रिलीज किया है. इस ऑडियो में साद कह रहे हैं- आपके पास धैर्य का होना बेहद जरूरी है. धैर्य से ही आप अपनी परेशानी का समाधान पा सकते हैं. परेशानी दो तरह की है. पहला जो आपके अंदर है और दूसरा बाहर. शासक का काम होता है कि वो अपने अनुयायियों को आगे लाने के लिए प्रोत्साहित करें. लेकिन वे मुकाबले की बात कर रहे हैं, इससे दूरियां बढ़ेंगी. इस्लाम के मुताबिक सरकार लोगों के अधिकारों को दबा रही है. यह तरीका ठीक नहीं है. क्योंकि अगर आप उनके साथ संघर्ष करते हैं तो उन्हें लगता है कि आप उनसे बदला ले रहे हैं और अगर आप उनका समर्थन करते हैं तो वो मानते हैं कि हमने उनके सामने घुटने टेक दिए.बता दें, पिछले महीने दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में स्थित मरकज में तबलीगी जमात का एक कार्यक्रम हुआ था. इस कार्यक्रम में शामिल जमात के कई लोग कोरोना से संक्रमित पाए गए. वहीं जिन राज्यों में जमात के लोग वापस गए, वहां इनके संपर्क में आने से कई अन्य लोग भी इस संक्रमण के शिकार हो गए. इसके बाद देश में कोरोना मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ने लगी.


दिल्ली पुलिस ने जमात के मौलाना मोहम्मद साद समेत कई लोगों पर गैर-इरादतन हत्या का केस दर्ज किया है. जमात में शामिल 1890 विदेशी नागरिकों के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया गया है. पुलिस का कहना है कि इन लोगों ने वीजा नियमों का उल्लंघन किया था और कार्यक्रम में शामिल हुए थे. पुलिस ने मरकज से 2300 से अधिक लोगों को बाहर निकाला था, जिनमें 500 से अधिक विदेशी थे.इसके अलावा मरकज से जुड़े 18 लोगों को क्राइम ब्रांच ने नोटिस जारी कर जांच से जुड़ने को कहा है. पुलिस की ओर से मौलाना साद समेत 18 लोगों को जांच में शामिल होने के लिए नोटिस जारी किया गया है. हालांकि, इसमें से 11 लोग खुद को क्वारनटीन बताकर पुलिस के सामने आने से बच रहे हैं. मौलाना साद ने भी खुद को क्वारनटीन बताया था. माना जा रहा है कि उसका आइसोलेशन पीरियड खत्म हो गया है और पुलिस कभी भी उसे गिरफ्तार कर सकती है.

वहीं ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) ने भी मरकज प्रमुख मौलाना साद के खिलाफ धन शोधन रोकथाम कानून के तहत मामला दर्ज किया है. वित्तीय जांच एजेंसी को संदेह है कि मौलाना साद के संगठन द्वारा विदेशों से बड़ी मात्रा में धन प्राप्त किया गया था और सरकारी अधिकारियों के समक्ष इसका खुलासा नहीं किया गया. ईडी द्वारा मौलाना साद के 8 सहयोगियों को भी बुक किया गया है. PLC.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment