Saturday, February 29th, 2020

डाटा का संग्रहण किया जायेगा

आई एन वी सी न्यूज़
देहरादून  ,
2020 को अर्थ एवं संख्या निदेशालय, उत्तराखण्ड द्वारा राष्ट्रीय प्रतिदर्श सर्वेक्षण 78वीं आवृत्ति की 02 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यशाला का शुभारम्भ श्री सुशील कुमार, निदेशक, अर्थ एवं संख्या उत्तराखण्ड, देहरादून द्वारा किया गया। उन्होने अपने सम्बोधन में कहा कि रा0प्र0स0 के इस 78वीं आवृत्ति में एन0एस0एस0ओ0, सांख्यिकी कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा उपलब्ध कराये गये राज्य के चयनित नगरीय एवं ग्रामीण इकाईयों से घरेलू पर्यटन व्यय एवं मल्टीपल इन्डीकेटर सर्वे से सम्बन्धित डाटा का संग्रहण किया जायेगा। घरेलू पर्यटन व्यय( अनुसूची  21.1) के आकड़ों के संग्रहण सर्वे से प्राप्त आकंडों का उपयोग पर्यटन मंत्रालय द्वारा  TOURISM SATELLITE ACCOUNTS (TSA) बनाने में किया जायेगा। ये महत्वपूर्ण मूल्यवान जानकारी आगे की नीति अनुसंधान के लिए और सेक्टर विशिष्ट नीतियों के निर्माण और इन्फ्रास्ट्रक्चर टूर पैकेजों के निर्माण एवं विकास के लिए प्रोग्राम बनाने में प्रयोग की जायेगी।
मल्टीपल इंडीकेटर सर्वे (अनुसूची 5.1) का उद्देश्य सत्त विकास लक्ष्य 2030 के कुछ महत्वपूर्ण सूचकांकों के विकास के लिए सम्बन्धित सूचनाओं को एकत्र करना है।  Ministry of Housing and Urban Affairs के आग्रह पर कुछ सूचनाएं माइग्रेशन से सम्बन्धित और 31 मार्च 2014 के बाद बने घरों से सम्बन्धित सूचनाएं, दो अलग -अलग खण्डों में एकत्र की जायेगी। इस अनुसूची (5.1) से सम्बन्धित सूचनाओं का राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय संस्थाओं जैसे यू0न0, यूनिसेफ (संयुक्त राष्ट्र अन्तर्राष्ट्रीय बाल आपात नीधि) एवं अन्य संस्थाओं द्वारा उपयोग किया जायेगा इसलिए अर्थ एवं संख्या, निदेशक, द्वारा इस बात पर विशेष जोर दिया गया कि उक्त सर्वेक्षण कार्य में आंकड़ों की गुणवत्ता उच्च कोटि की हो। प्रशिक्षण में मेजर योगेन्द्र यादव, अपर सचिव नियोजन, श्री सुशील कुमार, निदेशक, अर्थ एवं संख्या, डॉ0 मनोज कुमार पंत, संयुक्त निदेशक, अर्थ एवं संख्या तथा समस्त जनपदों, मण्डलों तथा अर्थ एवं संख्या, निदेशालय के अधिकारियों/कर्मचारियों तथा एन0एस0एस0ओ0, क्षेत्रीय कार्यालय देहरादून के कार्मिकों द्वारा प्रतिभाग किया गया तथा एन0एस0एस0ओ0, क्षेत्रीय कार्यालय देहरादून के कार्मिकों के द्वारा विस्तारपूर्वक एवं गहनता से उक्त सर्वेक्षण कार्य के बारे में बताया गया।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment