Monday, April 6th, 2020

ट्रंप के भारत से दोनों को होगा फायदा

सार
राष्ट्रपति के पहले आधिकारिक भारत दौरे की बात पर जोर देते हुए बयान में कहा गया है कि दोनों देशों के लंबे व्यापारिक संबंध रहे हैं, जो अकेले 2018 में ही 142 अरब डॉलर के पार थे। व्हाइट हाउस ने कहा कि अमेरिकी ऊर्जा (तेल-गैस) निर्यात के लिए भारत एक बढ़ता हुआ बाजार है।
 
विस्तार
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के अमेरिका लौटने पर व्हाइट हाउस का बयान आया है कि ट्रंप का भारत दौरा दोनों देशों के बीच रणनीतिक रिश्तों की मजबूती पर केंद्रित रहा है। ट्रंप की 36 घंटे की भारत यात्रा खत्म के कुछ घंटे बाद व्हाइट हाउस ने कहा, ‘भारत-अमेरिका दोनों ही देशों को मजबूत आर्थिक संबंधों से फायदा है। ये रिश्ते दोनों देशों में समृद्धि, निवेश और रोजगार सृजन को आगे बढ़ाते हैं।’
व्हाइट हाउस ने कहा, ‘राष्ट्रपति डोनाल्ड जे. ट्रंप भारत के साथ हमारे रणनीतिक रिश्तों को गहरा कर रहे हैं।’ राष्ट्रपति के पहले आधिकारिक भारत दौरे की बात पर जोर देते हुए बयान में कहा गया है कि दोनों देशों के लंबे व्यापारिक संबंध रहे हैं, जो अकेले 2018 में ही 142 अरब डॉलर के पार थे। व्हाइट हाउस ने कहा कि अमेरिकी ऊर्जा (तेल-गैस) निर्यात के लिए भारत एक बढ़ता हुआ बाजार है।

राष्ट्रपति ट्रंप के कार्यकाल में भारत के साथ लगातार निर्यात बढ़ा है, जिससे राजस्व में अरबों डॉलर की बढ़ोतरी हुई है। व्हाइट हाउस ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक व्यापार समझौते की दिशा में काम कर रहे हैं। दोनों देश ऊर्जा क्षेत्र में स्थायी व पारदर्शी निवेश करने को प्रतिबद्ध है। व्हाइट हाउस ने इस दौरान अहमदाबाद के मोटेरा स्टेडियम और आगरा में ताजमहल का खासतौर पर उल्लेख किया।
अमेरिका और व्हाइट हाउस में हैं भारत के मित्र : एनएसए
अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रॉबर्ट ओब्रायन ने ट्रंप और उनकी पत्नी का स्वागत करने पर भारत के नागरिकों का आभार जताया। एनएसए ने कहा कि अमेरिका और व्हाइट हाउस में भारतीय नागरिकों के मित्र हैं। उन्होंने एक ट्वीट में कहा कि भारत ने अमेरिकी मेहमानों का जिस तरह से समर्थन किया है वह भविष्य में दोनों देशों के बीच दोस्ती और भागीदारी की पुष्टि करता है।
धार्मिक आजादी के मुद्दे पर ट्रंप की सराहना
भारतवंशी ईसाइयों के एक संगठन ने पीएम मोदी के साथ बातचीत के दौरान धार्मिक आजादी और अल्पसंख्यकों का मुद्दा उठाने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप का आभार माना। फेडरेशन ऑफ इंडियन-अमेरिकन क्रिश्चियन के अध्यक्ष कोशी जॉर्ज ने कहा है कि राजनीतिक शांति किसी भी तरह की आर्थिक प्रगति के लिए जरूरी है। संगठन ने ट्रंप से उनके दौरे से पहले इस संबंध में मोदी से बात करने का आग्रह किया था। पीएलसी।PLC,

Comments

CAPTCHA code

Users Comment