Thursday, May 28th, 2020

टिकट दलालों, ट्रेवल एजेंसियों एवं हस्तांतरित टिकटों पर यात्रा करने वालों के खिलाफ उत्तर रेलवे का अभियान तेज़ 65 ज़्यादा मामले सामने आये

northern railway vigilance department संजय राय , आई एन वी सी ,

दिल्ली , होली पर्व के दौरान उत्तर रेलवे सतर्कता विभाग ने उत्तर रेलवे के सभी मुख्य स्थानों पर रेल सुरक्षा बल और वाणिज्य विभाग के सहयोग से गहन जांच अभियान चलाये ।   इन जांचों के दौरान टिकट दलालों, अनधिकृत ट्रेवल एजेंटों और अनधिकृत स्रोतों /एजेंसियों से लिए गए हस्तांतरित टिकटों पर यात्रा करने वालों के खिलाफ कार्यवाही करने पर विशेष ध्यान दिया गया । इनके अलावा पीआरएस/बुकिंग केन्द्रों, प्लेटफार्मों, रेलगाड़ियों, पार्सल कार्यालयों और खानपान इकाईयों सहित व्यापक आवाजाही वाले स्थलों पर कदाचार का पता लगाने के लिए भी जांच की गयी ।जांचें बेहद सफल रहीं और इनके परिणाम सवरूप  इस अवधि के दौरान ऐसी 6 जांचों में एजेंट द्वारा फर्जी नामों से बुक करायी गयी टिकटों को अधिक प्रभार लेकर बेचा गया । दोषी आरटीएसए/यूटीए/टिकट दलालों के खिलाफ कार्यवाही प्रारम्भ की गयी है ।टिकट दलाल इस अवधि के दौरान 65 टिकट दलालों को पकड़कर उन्हें रेलवे अधिनियम 1989 की धारा 143/144 के अन्तर्गत रेलवे न्यायधीश के समक्ष पेश किया गया ।          5 रेलवे ट्रेवल सर्विस एजेंटों को अतिरिक्त प्रभार वसूलने और प्रतिबन्धित समय के दौरान टिकट बनाने जैसे मामलों में लिप्त पाया गया । इनके खिलाफ कार्यवाही शुरू की गयी है । रेल अधिनियम की धारा 143 के अन्तर्गत 4 अनाधिकृत ट्रेवल एजेंटों को पकड़ कर उनसे फर्जी नामों पर बुक करायी गयी बहुत सी टिकटों को जब्त किया गया। फर्जी नामों पर यात्रा करने वाले 5 यात्रियों को पकडा गया । पहचान पत्र साक्ष्य प्रणाली को क्रियान्वित करने के बाद हस्तांतरित टिकटों पर यात्रा करने के मामलों में उल्लेखनीय कमी आयी है ।  व्यापक आवाजाही वाले स्थलों विशेषकर बुकिंग केन्द्रों पर की गयी 150 निवारक जांचों में 85 रेलवे कर्मचारियों के खिलाफ कार्यवाही प्रारम्भ की गयी है ।      सतर्कता विभाग द्वारा की गयी इन जांचों के अतिरिक्त उत्तर रेलवे ने होली और ग्रीष्मावकाश-2013 के दौरान रेल यात्रियों की सुविधा के लिए व्यापक इंतजाम किए गए हैं

Comments

CAPTCHA code

Users Comment