Sunday, July 5th, 2020

टिकटॉक बैन के बाद चिंगारी की खुली किस्मत 

नई दिल्ली । भारत में चीन सीमा पर हुए तनाव के बाद लोग चाइनीज ऐप्स का इस्तेमाल बंद कर रहे हैं। इसके स्थान पर अब मेड इन इंडिया ऐप 'चिंगारी' तेजी से पॉप्युलर हो रहा है। कम समय में ही  'चिंगारी' ऐप् को 25 लाख से ज्यादा बार डाउनलोड किया गया है। यूजर्स टिकटॉक को चिंगारी ऐप से रिप्लेस कर रहे हैं और देखते ही देखते ऐप ट्रेंडिंग चार्ट्स में आ पहुंचा है। हम इस ऐप के बारे में आपको सबकुछ बताने जा रहे हैं। टिकटॉक की देसी चॉइस बन चुके इस ऐप की छत्तीसगढ़ के आईटी प्रफेशनल्स के साथ मिलकर ओडिशा और कर्नाटक के डिवेलपर्स ने तैयार किया है। भिलाई में रहने वाले चिंगारी ऐप के चीफ ऑफ प्रॉडक्ट सुमित घोष ने कहा कि इस ऐप को डिवेलप करने में उन्हें करीब दो साल का वक्त लगा। उनकी मानें तो इस ऐप को खास तौर पर भारतीय यूजर्स की जरूरतों और पसंद को देखते हुए डिजाइन किया गया है। चिंगारी ऐप को नवंबर, 2018 में गूगल प्ले स्टोर पर ऑफिशली रिलीज किया गया था।
हालांकि, अब भारत में चाइनीज प्रोडक्ट्स और ऐप्स के बायकॉट की मांग तेज होने और सोशल मीडिया पर आए इसी ट्रेंड के बाद ऐप के डाउनलोड्स तेजी से बढ़ रहे हैं। सुमित ने कहा, 'हमें भारतीय यूजर्स से बेहतरीन रिस्पॉन्स मिल रहा है और हाल ही में सामने आए आंकड़े बताते हैं कि इस ऐप को कुल 25 लाख से ज्यादा बार डाउनलोड किया गया है।' खास बात यह है कि यह फी ऐप्स के टॉप चार्ट में जगह बना चुका है। ओडिशा के बिश्वात्मा नायक और कर्नाटक के सिद्धार्थ गौतम ने इस ऐप को डिवेलप किया है। सुमित ने कहा, 'भारत में तैयार किया गया यह सोशल मीडिया ऐप्लिकेशन टिकटॉक ऐप को सीधी टक्कर दे रहा है।
इस ऐप में मिलने वाले शानदार फीचर्स के अलावा इसमें कई भारतीय भाषाओं का सपॉर्ट भी दिया गया है। इनमें उड़िया, गुजराती और मराठी जैसी कई भाषाएं शामिल हैं।' ऐप में ट्रेंडिंग न्यूज, एंटरटेनमेंट न्यूज, फनी विडियो, विडियो सॉन्ग्स और लव कोट्स जैसे कई फीचर्स दिए गए हैं। इसके अलाावा विडियो फीड दिखता है, जिसमें आप बिना लॉग-इन किए भी विडियोज देख सकते हैं। राइट स्वाइप करने पर यूजर्स को बाकी ऑप्शंस मिल जाते हैं। इसके अलावा ऐप में रजिस्टर और लॉग-इन करके के बाद यूजर्स को रिवॉर्ड्स भी मिलते हैं। पहली बार ओपन करते ही ऐप यूजर्स को 11 भाषाओं में से किसी एक को चुनने का ऑप्शन देता है। इसमें विडियो, समाचार और गेम जोन नाम से तीन अलग-अलग टैब दिए गए हैं। पीएलसी।PLC.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment