आई एन वी सी न्यूज़
भोपाल,
“पूजे न शहीद गए तो फिर यह बीज कहाँ से आएगा, धरती को माँ कह कर, मिट्टी माथे से कौन लगाएगा।” इन शब्दों के उच्चारण के साथ आज इंदौर के नेहरू स्टेडियम में आयोजित कार्यक्रम में राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल और मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने जनजातीय गौरव एवं अस्मिता के प्रतीक जननायक टंट्या मामा के बलिदान दिवस पर उनको श्रद्धांजलि अर्पित कर नमन किया।

स्मृति कार्यक्रम में राज्यपाल श्री पटेल और मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जननायक टंट्या मामा के स्मृति में चलाई गई गौरव कलश यात्रा का स्वागत एवं पूजन किया। उन्होंने क्रांतिसूर्य जननायक टंट्या मामा के वंशजों को नमन कर उनका सम्मान भी किया।

     राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल ने कहा कि स्वतंत्रता आंदोलन के महानायक  क्रांतिसूर्य जननायक टंट्या मामा के बलिदान दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल होकर उन्हें हर्ष और गौरव का अनुभव हो रहा है। राज्यपाल श्री पटेल ने मुख्यमंत्री श्री चौहान को धन्यवाद दिया कि उन्होंने जननायक टंट्या मामा की स्मृति तथा उनकी शहादत का सम्मान करने के लिए भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया। उन्होंने बताया कि टंट्या मामा के बलिदान को समर्पित गौरव कलश यात्रा हजारो किलोमीटर घूम कर आज इंदौर आई। इस यात्रा में लाखों लोग शामिल हुए, यह स्वयं ही टंट्या मामा की प्रसिद्धि को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि जनजातीय समुदाय के हित और सर्वांगीण विकास के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी एवं प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा दिन-रात प्रयास किए जा रहे हैं। केंद्र एवं राज्य सरकार द्वारा अनेक योजनाओं के माध्यम से जनजातीय बंधुओं के विकास के लिए नए द्वार खोले जा रहे हैं।

     मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि टंट्या मामा के नाम से इंग्लैंड तक अंग्रेज डरते थे। स्वतंत्रता आंदोलन के जननायक टंट्या मामा ने गरीबों के खिलाफ हो रहे अत्याचारों के विरुद्ध हथियार उठाए। देश की आजादी के लिए टंट्या मामा जैसे जनजातीय वीर जिन्होंने अपने शरीर के खून की अंतिम बूंद समर्पित कर दी, उन्हें आज याद करने का वक्त है।

     मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कार्यक्रम में बड़ा ऐलान करते हुए बताया कि मध्य प्रदेश में आज से “पेसा एक्ट” लागू किया जा रहा है। उन्होंने कार्यक्रम में उपस्थित वनवासी बंधुओं को स्वयं अधिसूचना पढ़कर सुनाई और कहा कि अधिसूचना के प्रावधानों में प्रदेश के अनुसूचित क्षेत्रों में ग्राम सभाओं को सशक्त करने के लिए यह एक्ट आज प्रदेश में लागू किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में निवास कर रहे वनवासी जिनके दिसम्बर 2006 से पूर्व के वन अधिकार के कब्जे अभी तक नहीं दिए गए हैं, उन्हें वन अधिकार पट्टा दिए जाएंगे। इसके लिए प्रदेश में फिर से एक अभियान चलाया जाएगा। कोई भी जनजातीय अब अपने अधिकारों से वंचित नहीं रहेगा।

     मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश की धरती पर कोई भी जनजातीय बंधु अब परेशान नहीं होगा। छोटे-मोटे कानूनी मामलों के चलते पुलिस और कोर्ट के चक्कर नहीं लगाना पड़ेंगे। उन्होंने घोषणा की कि जिन जनजातीय लोगों पर छोटे-मोटे मामूली प्रकरण चल रहे हैं उन सभी को वापस लिया जाएगा।

     मुख्यमंत्री श्री चौहान ने घोषणा की कि प्रदेश में जिन जनजातीय भाई-बहनों के पास रहने के लिए पक्का मकान नहीं है, उन्हें आवास बनाने के लिए जमीन का पट्टा दिया जाएगा। मध्यप्रदेश की धरती पर कोई भी जनजातीय बंधु बिना जमीन या मकान के नहीं रहेगा। इसके लिये मध्यप्रदेश सरकार मुख्यमंत्री आवासीय भू-अधिकार योजना लागू करेगी।

     मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जनजातीय भाई-बहनों को अब राशन के लिए दूरदराज गाँव जाकर पूरा दिन व्यर्थ नहीं करना पड़ेगा, बल्कि “राशन आपके ग्राम” योजना में राशन हर गाँव के घर-घर तक पहुँचाया जाएगा। राशन पहुँचाने के लिए सरकारी वाहनों के बजाय जनजातीय युवाओं को सरकार द्वारा बैंक से वाहन फाइनेंस करवाए जाएंगे।

     मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जनजातीय युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए एक लाख बैकलॉग के पदों पर भर्ती कराई जाएगी। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना में उद्योग लगाने के लिए युवाओं को 50 लाख रूपये तक का ऋण दिया जाएगा। इस लोन में बैंकों को गारंटी भी सरकार देगी और ब्याज पर 3 प्रतिशत सब्सिडी भी मिलेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश के युवा रोजगार का निर्माण करने वाले युवा बनेंगे।

     मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि इंदौर संभाग के सभी जिलों में किसानों को सिंचाई के लिए नर्मदा का जल पहुँचाया जा रहा है। जिन क्षेत्रों में नहरों से पानी नहीं पहुँच पा रहा हैं, वहाँ कपिलधारा योजना में कुएँ खुदवाकर पानी पहुँचाया जाएगा। जनजातीय क्षेत्रों में पीने के पानी के लिए पाइप लाइन बिछाई जाएगी ताकि जनजातीय बहनों के घरों तक नल से जल पहुँचाया जा सके।

     मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश शासन जनजातीय बंधुओं के विकास का अभियान चला रही है। इसमें शोषण से मुक्ति का अभियान भी चलाया जाएगा। बिना लाइसेंस अधिक ब्याज पर जिन सूदखोरों द्वारा 5 अगस्त 2020 तक जनजातीय बंधुओं को पैसे दिए गए हैं, ऐसे कर्ज़ों को अब माफ किया जाएगा। यदि सूदखोरों द्वारा गरीबों को फिर भी प्रताड़ित किया जाता है तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

     मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार नियमित रूप से नशा मुक्ति अभियान चला रही है। लेकिन जनजातीय वर्ग द्वारा जो परंपरागत शराब बनाने का कार्य किया जा रहा है उसको भी शासन संरक्षण देगा। उन्होंने कहा कि नई आबकारी नीति में जनजातियों द्वारा बनाई जा रही शराब को हेरिटेज शराब के नाम से विक्रय किये जाने की अनुमति दी जाएगी।

     मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जनजातीय क्षेत्रों में विद्यार्थियों को उत्तम शिक्षा प्रदान करने के लिए सीएम राईज स्कूल खोले जाएँगे। आकांक्षा योजना में आईआईटी, मेडिकल एवं लॉ में चयनित होने वाले बच्चों की फीस माफ की जाएगी। जबलपुर, भोपाल, इंदौर में जनजातीय विद्यार्थियों की काउंसलिंग के लिए केंद्र खोले जाएंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आजादी के अमृत महोत्सव में आजादी के 75 वर्ष पर जनजाति की वीर गाथाओं को जन-जन तक पहुँचाने का कार्य प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में किया जा रहा है। इस अभियान को सफल बनाने के लिए आप सभी का सहयोग अपेक्षित है।

     जननायक टंट्या मामा बलिदान दिवस स्मृति कार्यक्रम के दौरान राज्यपाल श्री पटेल एवं मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा डॉ. अम्बेडकर नगर (महू) के अनुभाग/ तहसील कार्यालय का नामकरण “क्रांतिसूर्य जननायक टंट्या भील प्रशासनिक संकुल डॉ. अम्बेडकर नगर (महू)” करते हुए नवनिर्मित संकुल का वर्चुअल अनावरण एवं पर्यटन विभाग द्वारा पातालपानी क्षेत्र के उन्नयन हेतु स्वीकृत विकास कार्यों का वर्चुअल शिलान्यास भी किया गया। राज्यपाल श्री पटेल एवं मुख्यमंत्री श्री चौहान ने साहित्य अकादमी द्वारा प्रकाशित टंट्या मामा के जीवनकाल पर आधारित पुस्तक का विमोचन भी किया। कार्यक्रम में जनजातीय कलाकार श्री आनन्दीलाल भावेल द्वारा गाये गये जनजातीय गीत पर मुख्यमंत्री श्री चौहान एवं मंच पर उपस्थित मंत्री एवं अन्य जन-प्रतिनिधियों ने नृत्य भी किया।

संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री सुश्री उषा ठाकुर और खजुराहो सांसद एवं प्रदेश भाजपा अध्यक्ष श्री वी.डी. शर्मा ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। गृह एवं इंदौर जिले के प्रभारी मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट, वन मंत्री कुंवर विजय शाह, सांसद श्री शंकर लालवानी सहित विधायक, जन-प्रतिनिधि,सहित बड़ी संख्या में जनताजीय समुदाय के लोग उपस्थित रहे। जनजातीय कार्य मंत्री सुश्री मीना सिंह ने आभार प्रकट किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here