Close X
Monday, January 25th, 2021

झारखण्ड पिछड़ा राज्य है : मुख्यमंत्री

press_release_11826_03-05-2015आई एन वी सी न्यूज़ राँची, मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने कहा कि निकट समय में ही झारखण्ड विद्युत उत्पादन में अग्रणी राज्य होगा और यह  राज्य के साथ ही साथ देष को बिजली देने में सक्षम होगा। विकास में विद्युत उर्जा की महत्वपूर्ण भूमिका को रेखांकित करते हुए उन्होंने कहा कि षिक्षा,कृषि उद्योग हर क्षेत्र में विकास आवष्यक है। मुख्यमंत्री आज स्थानीय होटल रेडिषन ब्लू में झारखण्ड सरकार एवं नेषनल थर्मल पॉवर कॉरपोरषन ;छज्च्ब्द्ध के बीच एम॰ओ॰ए॰के हस्ताक्षर के उपरांत समारोह को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर कोल इंडिया ;ब्वंस प्दकपंद्ध एवं एन॰एस॰डीसी ;छैक्ब्द्ध के बीच कायाकल्प योजना के तहत कौषल विकास के लिये भी एम॰ओ॰यू॰हस्ताक्षर किया गया। उन्होंने कहा कि पतरातू ताप विद्युत संयत्र की क्षमता  वर्ष 2019-20 तक 2400 सौ मेगावाट एवं 2023-24 तक अतिरिक्त 1600 मेगावाट होगी। उन्होंने कहा कि झारखण्ड की धरती समृृद्ध है परन्तु विकास की दृष्टि से यह अभी भी पिछड़ा राज्य है। दस सालों में झारखण्ड न केवल  देष का बल्कि विष्व के समृद्धषाली राज्यों में शामिल रहेगा। मुख्यमंत्री ने कौषल विकास की दिषा में केन्द्र सरकार द्वारा किये गए पहल के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि भारत विष्व के महाषक्तिषाली देषों में सम्मिलित होने की क्षमता रखता है। और झारखण्ड देष की समृद्धि में अहम भूमिका निभायेगा। झारखण्ड देष का पावर है। झारखण्ड के विकास के साथ ही श्मेक इंन इंडियाश् की संकल्पना पूरी हो सकेगीै। झारखण्ड के लोगों के हाथों को हुनर की जरूरत है और भारत सरकार द्वारा कौषल विकास हेतु शुरू की गई इस योजना से यहां के हाथों को हुनर मिलेगा। केन्द्र सरकार की इस योजना का शुभारंभ आज झारखण्ड से किया जाना केन्द्रीय सरकार की प्राथमिकताओं में झारखण्ड के महत्व को स्पष्ट रेखांकित करता है। उन्होंने कहा कि राज्य के पिछड़े क्षेत्र हमारी प्राथमिकताओं में है, विकास क ऐसेे प्रयास से ही शुरू करने हैं। राज्य के आई॰टी॰आई॰के माध्यम से लोगों को प्रषिक्षित किया जायेगा। भारी वान चालाकों के लिये प्रषिक्षण हेतु सरकार शीघ्र ही जमीन देगी ताकि प्रषिक्षण केन्द्र खोला जा सके। सोलर पार्क की स्थापना की दिषा में भी शीघ्र प्रगति मिलेगी। केन्द्रीय कोयला राज्य(स्वतंत्र प्रभार) मंत्री श्री पीयूष गोयल ने मुख्यमंत्री को उनके जन्मदिन की बधाई देते हुए कहा कि आज के दिन से विकास की जो लहर चलने वाली है वह शीघ्र ही झारखण्ड के विकास नया आयाम देने में सफल होगा। आने वाले पांच वर्षों के भीतर यहां की तषवीर बदल चुकी रहेगी। झारखण्ड संभावनाओं से भरा प्रदेष है । जबतक हर घर, कारखाने को 24 घंटे बिजली की सुविधा नहीं दी जाय तबतक विकास संभव नहीं है। यहां के लोगों को हुनर उपलब्ध कराने के लिये कौषल विकास आवष्यक है। कौषल विकास के साथ ही विद्युत उत्पादन बढे़ेगा,यहां की बिजली देष को मिलेगी और झारखण्ड को अधिक राजस्व प्राप्त होगा। उन्होंने कहा कि टीम इंडिया के रूप में मिलजुल कर कार्य करते हुए झारखण्ड के तीव्र एवं पूर्ण विकास करना है। केन्द्रीय मंत्री कौषल विकास एवं संसदीय कार्य श्री राजीव प्रताप रूढ़ी ने कहा कि विष्व स्तर पर यदि देखा जाय तो वे राज्य समृद्ध एवं विकसित है जहां लोगों का कौषल विकास हुआ है। विद्यालय एवं महाविद्यलयों में दी जा रही षिक्षाओं के साथ ही साथ कौषल विकास अत्यंत आवष्यक है। देष को दुनिया के स्तर पर खड़ा करने में कौषल विकास की महत्वपूण भूमिका है। कौषल भारत एवं कुषल भारत की स्थापना में केन्द्र सरकार के साथ ही साथ राज्यों का सहयोग आवष्यक है। इस दिषा में आज महत्वपूर्ण पहल की गई है। कोल इंडिया,एन॰टी॰पी॰सी॰ एवं राज्य सरकार द्वारा दिया गया प्रषिक्षण एक मानक होगा। देष भर के सभी संसदीय क्षेत्र में एक एक मानक कौषल विकास केन्द्र विकसित किये जायेंगे। यह विष्व का सबसे बड़ा प्रषिक्षण कार्यक्रम होगा। केन्द्रीय राज्य मंत्री श्री सुदर्षन भगत ने कहा कि कौषल विकास हेतु आज किये जा रहे इस समझौता ज्ञापन से एक नई शुरूआत हुई है। विकास हेतु निरंतर प्रयास के क्रम में कौषल विकास के माध्यम से रोजगार के नए अवसर सृजित हो सकेंगे। बैठक को एन॰टी॰पी॰सी चेयरमेन श्री अरूप राय चौधरी,निदेषक कार्मिक -सह सी॰ई॰ओ॰ श्री मोहन दास ने भी संबोधित किया। इस अवसर माननीय सांसद श्री रामटहल चौधरी,श्री सुनील सिंह सहित मुख्य सचिव श्री राजीव गौबा, कोयला सचिव,श्री अनिल स्वरूप कोल इंडिया से श्री एस॰भट्टाचार्या,मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव,श्री संजय कुमार,मुख्यमंत्री के सचिव श्री सुनील वर्णवाल सहित वरीय पदाधिकारीगण उपस्थित थे।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment