लखनऊ. नागरिकता कानून (CAA) और एनआरसी (NRC) को लेकर उत्तर प्रदेश हिंसा की आग में धधक रहा है. इसे लेकर हो रहे विरोध-प्रदर्शन में अभी तक 13 लोगों की मौत हो गई है. बहुजन समाज पार्टी (BSP) की अध्यक्ष मायावती (Mayawati) ने एक बार फिर लोगों से इस मसले पर शांतिपूर्ण विरोध की अपील की है. मायावती ने शनिवार सुबह ट्वीट कर कहा, अब तो नए सीएए और एनआरसी के विरोध में केंद्र सरकार के एनडीए में भी विरोध के स्वर उठने लगे हैं. अतः बीएसपी की मांग है कि वो अपनी जिद को छोड़कर इन फैसलों को वापस ले. साथ ही, प्रदर्शनकारियों से भी अपील है कि वो अपना विरोध शांतिपूर्ण ढंग से ही प्रकट करें.
इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य के अलग-अलग हिस्सों में बीते तीन दिन से हो रहे हिंसक प्रदर्शनों को देखते हुए लोगों से संयम बरतने की अपील की थी. उन्होंने कहा कि किसी को भी कानून-व्यवस्था से खिलवाड़ नहीं करना चाहिए. सीएम योगी ने दंगाइयों और हिंसा करने वालों से सख्ती से निपटने की चेतावनी दी.
वहीं पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी प्रदर्शनकारियों से हिंसा का रास्ता छोड़कर शांति से विरोध करने की अपील की थी. शुक्रवार को लखीमपुर से लखनऊ वापस लौटते समय अखिलेश ने कहा कि बीजेपी ने बहाना कर के नागरिकता संशोधन कानून (CAA) एक्ट लाने का काम किया. उन्होंने लोगों से शांति की अपील करते हुए कहा कि जहां तक मेरी बात पहुंचे, लोग अपने हाथ में कानून-व्यवस्था ना लें. अपना धरना-प्रदर्शन शांतिपूर्ण ढंग से करें. अखिलेश ने लोगों से राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के सत्याग्रह के रास्ता को अपनाने की अपील की. PLC.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here