Tuesday, July 7th, 2020

जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र संरचना सम्मेलन को भारत की दूसरी राष्ट्रीय रिपोर्ट

आई.एन.वी.सी,,
दिल्ली,,
           केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने आज जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र संरचना सम्मेलन के सचिवालय को भेजी जाने वाली दूसरी राष्ट्रीय रिपोर्ट को मंजूरी दे दी है। इसमें सम्मेलन के तहत दिये गये दायित्वों को पूरा करने के संबंध में विस्तृत ब्यौरा है। आधुनिक प्रदर्शों की मदद से महत्वपूर्ण क्षेत्रों में लघु से मध्यम और लंबी अवधि तक के अध्ययन कराये गये हैं ताकि प्रचलित और प्रायोजित उच्च क्षेत्रीय बदलाव और अतिसंवेदनशीलता का पता लगाया जा सके। ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन के अनुमान से यह पता लगाने में मदद मिली कि भारत में ग्रीन हाउस गैस का उत्सर्जन कितना है और यह किस गति से बढ़ रही है। इससे नीति निर्माताओं को सही सूचना के आधार पर नीतियां बनाने में मदद मिलेगी। इस रिपोर्ट से जलवायु परिवर्तन और इससे जुड़े मुद्दों के बारे में समझ को विस्तार देने में राज्य और राष्ट्रीय स्तर के नीति निर्माताओं को मदद मिलेगी। साथ ही जलवायु परिवर्तन से उपजी चुनौतियों से निपटने के लिए भारत के सक्रिय संकल्प को पूरा करने से जुड़े लोगों में जागरूकता बढ़ाने में भी मदद मिलेगी। इस रिपोर्ट में शामिल कई अध्ययन राष्ट्रीय स्तर पर भारत की विशाल विभिन्नता और उसकी क्षेत्रीय अनिवार्यताएं पर जोर देते हुए कुछ खास मामलों पर किये गये। भारत जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र संरचना सम्मेलन का एक पक्ष है। इस सम्मेलन से सभी विकसित और विकासशील देशों को जोड़ा गया है जो एक राष्ट्रीय रिपोर्ट के रूप में अपने यहां सम्मेलन की बातों को लागू कराने के बारे में जानकारी देते हैं। इस परियोजना को जीईएफ द्वारा उपलब्ध कराये गये 3.5 मिलियन डॉलर और भारत के 3 मिलियन डॉलर की मदद से पूरा कराया गया है।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment