Wednesday, February 26th, 2020

चार दीवारी और छत मिल जाए तो गरीब के सपनों में आ जाती है जान : प्रधानमंत्री

5721-2cc(3)आई एन वी सी न्यूज़ नया रायपुर, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि जनता-जनार्दन जब कोई जिम्मेदारी देती है तो सरकारों को उसे पूरे मनोयोग से पूर्ण करने का प्रयास करना चाहिए। उन्होंने कहा कि झुग्गियों मे रहने वाले किसी गरीब परिवार को अगर चार दीवारी और छत मिल जाए तो उसके सपनों में जान आ जाती है। श्री मोदी ने कहा कि उनकी भारत की आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर आगामी 2022 तक देश के पांच करोड़ परिवारों के मकान का सपना पूरा करने के लक्ष्य को लेकर चल रही है। श्री मोदी आज यहां नया रायपुर स्थित सत्य साई संजीवनी अस्पताल के सभागृह में राष्ट्रीय कार्यक्रम प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत नया रायपुर में बनने वाले 40 हजार मकानों का बटन दबाकर शिलान्यास करते हुए इस आशय के विचार व्यक्त किए। इस योजना के तहत राज्य के 26 शहरों में 27 हजार मकान अलग से बनाए जाएंगे। प्रधानमंत्री ने इस मौके पर छत्तीसगढ़ सरकार की नवाचार और उद्यमिता विकास नीति का भी बटन दबाकर शुभारंभ किया। उन्होंने इस नीति पर आधारित एक पुस्तिका का विमोचन भी किया। उन्होंने सत्य साई बाबा की प्रतिमा का और वहां निर्मित सभागृह का लोकार्पण भी किया।  प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा नया रायपुर में विकसित किए जा रहे इलेक्ट्रॉनिक मेन्यूफेक्चरिंग क्लस्टर का भी शिलान्यास किया, जिसमें दो हजार करोड़ रूपए के निजी पूंजी निवेश के जरिए लगभग चार हजार लोगों को रोजगार मिल सकेगा। श्री मोदी ने समारोह में प्रधानमंत्री आवास योजना का जिक्र करते हुए कहा कि पूरे देश में वर्ष 2022 तक पांच करोड़ गरीब परिवारों के लिए केन्द्र और राज्य दोनों मिलकर मकान बनाएंगे। इनमें से दो करोड़ परिवार शहरों के और तीन करोड़ परिवार गांवों के है, जो स्वयं के बलबुते अपना मकान नहीं बना सकते, क्योंकि उनके पास न पैसा है और न जमीन। कोई भी गरीब अपने बच्चों को विरासत में गरीबी नहीं देना चाहता। ऐसे में केन्द्र और राज्य दोनों मिलकर इन गरीबों के सपने को साकार करेंगे। देश की आजादी के लिए जिन महान विभूतियों ने अपना जीवन अर्पित कर दिया हम सबको मिलकर यह तय करना होगा कि हम उन्हें आजादी के 75वें साल में कैसा भारत देना चाहते हैं। वर्ष 2022 तक पांच करोड़ मकान बनाने के अभियान में मानव संसाधन तो लगेंगे ही साथ ही बड़ी संख्या में रोजगार का भी सृजन होगा। भवन निर्माण से संबंधित जरूरी कार्यों में भी बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार मिलेगा। छत्तीसगढ़ सरकार की उद्यमिता और नवाचार नीति का उल्लेख करते हुए प्रधानमंत्री ने देश के युवाओं आव्हान किया कि वे कौशल विकास के जरिए हुनरमंद बनकर नौकरी करने वाले नहीं बल्कि दूसरों को भी नौकरी देने वाला बनें। श्री मोदी ने कहा कि नवचार और उद्यमिता विकास आज के समय की सबसे बड़ी जरूरत है। उन्होंने कहा कि दुनिया में विगत 50 वर्षों में जिन देशों ने प्रगति की है, उनकी प्रगति के मूल में नवाचार (इनोवेशन) महत्वपूर्ण है। वह इनोवेशन समाज हितकारी हो और उससे राष्ट्र का आर्थिक विकास हो यह जरूरी है। नवाचार न हो तो समाज तरक्की नहीं कर सकता और जीवन में ठहराव आ जाता है। इसलिए आविष्कार की परम्परा का निर्वाह होते रहना चाहिए। नये-नये आविष्कारों को समाज के लिए उपयोगी कैसे बनाया जाए, इसमें उद्यमिता की भी महत्वपूर्ण भूमिका होती है। श्री मोदी ने कहा कि हमारे देश में 65 प्रतिशत जनसंख्या युवाओं की है। भारत को एक बड़ी शक्ति के रूप में दुनिया देख रही है। देश की 65 प्रतिशत युवा जनसंख्या के हाथों में हुनर और कौशल का प्रबंधन होना चाहिए तथा सरकार की नीतियां छोटे-छोटे उद्यमों को प्रोत्साहित करने की होनी चाहिए।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment