Sunday, July 12th, 2020

गौवंश का संरक्षण एवं संवद्र्धन हमारी प्राथमिकता

आई एन वी सी न्यूज़ 
जयपुर,
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि हमारी संस्कृति में गौवंश को पूजनीय माना गया है। गौवंश का संरक्षण एवं संवद्र्धन हमारी सरकार की प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने पंचायत समिति स्तर पर नंदी गौशाला बनाने का फैसला किया है। श्री गहलोत ने इस दिशा में आमजन एवं भामाशाहों से भागीदारी निभाने का आह्वान करते हुए कहा कि सामूहिक प्रयासों से हम निराश्रित गौवंश की सेवा में कामयाब होंगे।

मुख्यमंत्री गुरूवार को बाड़मेर में नंदी गौशाला का लोकार्पण करने के बाद समारोह को संबोधित कर रहे थे। बजट घोषणा के बाद पंचायत समिति स्तर पर यह पहली नंदी गौशाला है। इसके लिए सरकार ने भूमि का आवंटन किया है।

श्री गहलोत ने कहा कि हमारी सरकार ने अपने पिछले कार्यकाल में अलग से गौ-निदेशालय बनाया था। गौवंश की सेवा के लिए हमने अनुदान भी शुरू किया। इसके साथ ही पशुधन के लिए मुख्यमंत्री निःशुल्क पशु दवा योजना लागू की, जो देश में मूक जानवरों की सेवा के लिए किसी भी सरकार द्वारा लाई गई अनूठी योजना थी। यह योजना आगे भी जारी रहेगी।

मुख्यमंत्री ने गौरक्षा के नाम पर मॉब लिंचिंग जैसी घटनाओं को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा कि सभ्य समाज में ऎसी घटनाओं का कोई स्थान नहीं है। हमारी सरकार ने इसे रोकने के लिए सख्त कानून बनाया है। उन्होंने कहा कि जो लोग गौसेवा के नाम पर राजनीति करते हैं, उन्हें पंचायत समिति स्तर पर खुलने वाली गौशालाओं और नंदीशालाओं में आगे बढ़कर भागीदारी निभानी चाहिए। उन्होंने कहा कि सच्चा गौ-भक्त वही है, जिसके दिल में दयाभाव और सभी धर्मों को एक समान समझने का जज्बा है।

श्री गहलोत ने कहा कि हमारी सरकार पशुपालकों को दूध के लिए प्रतिलीटर 2 रूपये का अनुदान दे रही है। साथ ही बाड़मेर जिले के लिए अकाल के दौरान चारे के लिए 30 करोड़ की राशि जारी की गई थी। उन्होंने कहा कि मूक एवं निराश्रित गौवंश की देखभाल तथा उनके लिए दवा, चारे एवं पानी की व्यवस्था करना बड़े पुण्य का काम है। इसमें जनभागीदारी और भामाशाहों का सहयोग जरूरी है। जिस तरह से बाड़मेर में भामाशाहों का नंदी गौशाला के लिए सहयोग मिला, प्रदेश में हर जिले में ऎसा सहयोग मिलने से यह काम और बेहतरी से होगा। सभी को आगे आकर इसमें सहयोग करना चाहिए। श्री गहलोत ने बाड़मेर की नंदीशाला के लिए राजस्व मंत्री श्री हरीश चौधरी और विधायक श्री मेवाराम जैन तथा भामाशाहों के प्रयासों एवं सहयोग के लिए आभार व्यक्त किया।

राजस्व मंत्री श्री हरीश चौधरी ने बताया कि राजस्व विभाग ने इस नंदी गौशाला के लिए 50 बीघा जमीन आवंटित की है।

गौपालन मंत्री श्री प्रमोद जैन भाया ने समारोह में कहा कि गौवंश में सभी देवी देवताओं का वास होता है। उन्हाेंने कहा कि मुख्यमंत्री के मन में गौवंश के संरक्षण की पीड़ा है। इसके लिए उन्होंने गौशालाओं के लिए अनुदान बढ़ाया है।

विधायक श्री मेवाराम जैन ने स्वागत उद्बोधन में मुख्यमंत्री का अकाल के समय चारे के लिए 30 करोड़ रूपये के अनुदान के लिए आभार जताया।

समारोह में ऊर्जा मंत्री श्री बी.डी. कल्ला, चिकित्सा मंत्री श्री रघु शर्मा, तकनीकी शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. सुभाष गर्ग, विधायक श्री हेमाराम चौधरी, श्री अमीन खां, श्री पदमाराम मेघवाल, श्री मदन प्रजापत सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं आम नागरिक उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने किया नंदी पूजन व पौधारोपण

मुख्यमंत्री ने नंदी गौशाला की लोकार्पण पट्टिका के अनावरण के बाद नंदी एवं गायों का पूजन कर उन्हें चारा और गुड़ खिलाया। मुख्यमंत्री ने नंदी गौशाला परिसर पर बड़ का पौधा भी लगाया।

भामाशाहों का किया सम्मान 

श्री गहलोत ने नंदी गौशाला कार्य में आर्थिक सहयोग करने वाले भामाशाह श्री भंवरलाल विरधीचन्द छाजेड़, विधायक श्री मेवाराम जैन, सभापति श्री लूणकरण बोथरा, श्री सेवाराम पुरूषोत्तम दास मेहता, श्री तनसिंह चौहान, श्री पुरूषोत्तम जवानमल खत्री, श्री मांगीलाल रतनलाल वडेरा, श्री अमृतलाल खत्री, श्री श्रवण कुमार माहेश्वरी सहित अन्य भामाशाहों का सम्मान किया।



 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment