Close X
Thursday, April 22nd, 2021

गांधी जी का सपना - स्वच्छ वं निर्मल बने भारत

आई एन वी सी न्यूज़
जयपुर,
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि हमारी सरकार ऎसी व्यवस्था करेगी जिससे सफाई कर्मचारी को सीवरेज चैम्बर साफ करने के लिए उसमें उतरने की जरूरत न पड़े। उन्होंने कहा कि यह पूरे देश की समस्या है और सीवरेज चैम्बर साफ करने के लिए उतरने के कारण कई बार सफाई कर्मचारी भाइयों की मौत तक हो जाती है। हम सब के लिए इससे बड़े दुख की बात और कोई नहीं हो सकती। राजस्थान में हमारा प्रयास रहेगा कि सफाई कर्मचारियों को स्वच्छता के लिए आवश्यक उपकरण एवं संसाधन उपलब्ध कराये जाएं ताकि भविष्य में किसी सफाई कर्मचारी की सीवरेज चैम्बर में सफाई के दौरान जान न चली जाए। सरकार इस काम में धन की कमी नहीं आने देगी। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि एक वर्ष में उक्त संकल्प को कार्य योजना बनाकर पूरी तरह लागू कर दिया जाये।

श्री गहलोत महात्मा गांधी के 150वें जयंती वर्ष के उपलक्ष्य में गुरुवार को बिड़ला सभागार में स्वच्छता सत्र को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर स्वच्छता के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वाले सफाई कर्मचारियों को सम्मानित भी किया।

श्री गहलोत ने कहा कि गांधी जी का सपना था कि भारत स्वच्छ एवं निर्मल बने। अंतिम छोर पर बैठे व्यक्ति का कल्याण उनके सिद्धांतों में शामिल था। हमारी सरकार भी राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के आदर्शों के अनुरूप समाज के सभी वर्गों की बेहतरी के लिए कार्य कर रही है। उन्होंने युवाओं का आह्वान किया कि वे महात्मा गांधी की जीवनी को जरूर पढ़ें। इससे उनके जीवन में सकारात्मक बदलाव आयेगा।  

मुख्यमंत्री ने कहा कि गांधी जी मैला ढोने की कुप्रथा के सख्त खिलाफ थे। इस प्रथा का उन्मूलन किया गया है। उन्होंने लोगों का आह्वान किया कि यदि वे कहीं भी किसी को मैला ढोते देखें तो तुरंत संबंधित अधिकारियों को अवगत करायें। मुख्यमंत्री ने कहा कि गांधी जी कहते थे कि स्वच्छता ही सेवा है और ऎसे में हमारे सफाई कर्मचारी भाई सबसे बड़े समाज सेवक हैं। जो गांव, शहर और मोहल्ले को स्वच्छ और निरोग बनाकर देश सेवा में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं। पिछले कार्यकाल में हमने 30 हजार सफाई कर्मचारियों की भर्ती निकाली थी। हमारा पूरा प्रयास रहेगा कि सफाई कर्मचारियों की दिक्कतें दूर हों।

श्री गहलोत ने कहा कि हम चाहेंगे कि घर-घर कचरा संग्रहण व्यवस्था को मजबूती मिले।
उन्होंने कहा कि अन्य राज्यों की तुलना में हमारा राजस्थान अधिक स्वच्छ है। जयपुर और जोधपुर के रेलवे स्टेशनों को स्वच्छता के लिए उत्कृष्ट स्थान मिला है। इसके पीछे सफाई कर्मचारियों की मेहनत छिपी हुई है।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर पॉलिथिन के उपयोग को रोकने, गीले और सूखे कचरे के संग्रहण से संबंधित पोस्टरों तथा सफाई कर्मचारियों के लिए कार्य निर्देशिका पुस्तिका का विमोचन किया। मुख्यमंत्री को जयपुर मेयर श्री विष्णु लाटा और नगर-निगम आयुक्त श्री वी.पी. सिंह ने जयपुर परकोटे को संरक्षित धरोहर की श्रेणी में शामिल किए जाने का यूनेस्को का प्रमाण-पत्र भेंट किया।

इससे पहले कला एवं संस्कृति मंत्री श्री बी.डी. कल्ला ने स्वच्छता के क्षेत्र में राज्य सरकार द्वारा किए जा रहे कार्यक्रमों की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने स्वच्छता के महत्व को समझा और पूरे भारत को अस्पृश्यता से मुक्त कराने का संदेश दिया। श्री कल्ला ने कहा कि हम सब मिलकर प्रदेश को स्वच्छता के क्षेत्र में अग्रणी बनाएंगे।

जयपुर मेयर श्री विष्णु लाटा और स्वायत्त शासन विभाग के शासन सचिव श्री भवानी सिंह देथा ने भी स्वच्छता सत्र को संबोधित किया। इस अवसर पर पूरे प्रदेश से आये सफाई कर्मचारी एवं नगरीय निकायों के जनप्रतिनिधि और अधिकारी मौजूद थे।



 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment