Tuesday, August 11th, 2020

गलवान घाटी से पूरी तरह हटी चीनी सेना - अब पैंगोंग में चीन ने किया कब्जा

नई दिल्ली । भारत और चीन के बीच पिछले तीन महीने से जारी तनाव में थोड़ी नरमी दिखने को मिल रही है। 15 जून को गलवान घाटी में खूनी झड़प वाली जगह से ड्रैगन की सेना पूरी तरह हट चुकी है। इस बीच, गोगरा, हॉट स्प्रिंग और पूर्वी लद्दाख में बफर जोन बनाया जा रहा है। खबर यह भी है कि अब पैंगोंग में चीन ने कब्जा किया है। दोनों पक्ष विवादित क्षेत्र से सेना हटाने को लेकर लगातार बात भी कर रहे हंै। पैंगोंग लेक इलाके के फिंगर एरिया में चीनी सेना ने पक्के निर्माण कर रखे हैं और यहां अभी भी तनाव बरकरार है।


फिंगर इलाके में तनाव बरकरार
हालांकि अभी सबसे बड़ी चुनौती है कि बफर जोन को सही तरीके से लागू कर दिया जाए और आगे कोई और घटना न हो। इस बीच पैंगोंग लेक इलाके में अभी भी स्थिति तनावपूर्ण था। फिंगर इलाके से चीनी सैनिकों को हटाने काफी मुश्किल वाला होगा क्योंकि यहां बड़े पैमाने पर चीनी सेना ने आधारभूत ढांचा बना लिया है। एक सूत्र ने बताया कि चीन ने यहां कई तरह का ठिकाना और सैनिकों के पक्के बंकर बना लिए हैं।


गलवान घाटी से पूरी तरह हटी चीनी सेना
गलवान घाटी को पूरी तरह से खाली कर दिया गया है और यहां 4 किलोमीटर का बफर जोन बनाया गया है और इसे यहां आने वाले समय में सैनिकों के हटने तक कोई गतिविधि नहीं होगी। घटना से जुड़े सूत्रों ने बताया कि ऐसा ही बफर जोन गोगोरा और हॉट स्प्रिंग इलाके में भी बनाया जा सकता है। गलवान में चीनी सेना पेट्रोलिंग पाइंट 14 से पूरी तरह से पीछे हट गई है। सैटलाइट तस्वीरों के अनुसार, अब वह वास्तविक नियंत्रण रेखा में अपने इलाके में है। इसके अलावा चीनी सेना के अस्थायी टेंट और भारी वाहन भी वहां से हटा लिए गए हैं।


बफर जोन के लिए कई तैयारी
बफर जोन बनाने के बाद अगला कदम एलएसी पर दोनों तरफ सेनाएं हटाने का होगा। चीन ने मई के शुरुआत में पूर्वी लद्दाख के 15 इलाकों में अपनी सेनाओं को तैनात कर दिया था। सूत्र ने बताया कि जब सेनाएं पीछे हट जाएंगी तो इसका फिजिकल वेरिफिकेशन किया जाएगा दोनों पक्ष के नामित प्रतिनिधि विवादित इलाके में जाकर स्थिति देखेंगे। PLC.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment