Saturday, April 4th, 2020

खेल मानचित्र पर छत्तीसगढ़

खेल मानचित्र पर छत्तीसगढ़आई एन वी सी,
रायपुर,
राज्य के प्रथम अन्तर्राष्ट्रीय एस्ट्रोटर्फ हॉकी स्टेडियम के लोकार्पण के साथ ही दुनिया के खेल मानचित्र पर छत्तीसगढ़ को आज दुनिया के खेल मानचित्र पर एक नयी पहचान मिली। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के ‘ड्रीम-प्रोजेक्ट’ के रूप में जिला मुख्यालय राजनांदगांव में लगभग 22 करोड़ रूपए की लागत से निर्मित इस हॉकी स्टेडियम का लोकार्पण हुआ।
 
प्रदेश के राज्यपाल श्री शेखर दत्त और मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने लगभग साढ़े नौ एकड़ के रकबे में निर्मित यह विशाल स्टेडियम जनता को समर्पित किया। लोक निर्माण मंत्री श्री राजेश मूणत और लोकसभा सांसद श्री मधुसूदन यादव सहित अनेक जनप्रतिनिधि और बड़ी संख्या में खेल प्रेमीनागरिक समारोह में उपस्थित थे। राज्यपाल और मुख्यमंत्री ने लोकार्पण समारोह में विशेष रूप से उपस्थित अर्जुन पुरस्कार विजेता और पूर्व ओलंपिक हॉकी खिलाड़ी श्री अजीत पाल सिंह, भारतीय महिला हॉकी टीम की पूर्व कप्तान सुश्री सबा अंजुम तथा छत्तीसगढ़ के वरिष्ठ अन्तर्राष्ट्रीय हॉकी खिलाड़ी श्री विन्सेंट लकड़ा और श्री मृणाल चौबे सहित सभी राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय खिलाड़ियों का स्वागत किया। उल्लेखनीय है कि डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व में राज्य शासन द्वारा वर्ष 2008 में प्रदेश के खिलाड़ियों और खेल प्रेमियों को लगभग सौ करोड़ रूपए की लागत से नया रायपुर स्थित ग्राम परसदा में परसदा में निर्मित अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम की सौगात मिल चुकी है। इस बीच रायपुर के बूढ़ा तालाब के सामने विशाल इंडोर स्टेडियम का निर्माण पूर्ण कर उसमें खेल गतिविधियां शुरू कर दी गयी हैं। इसके बाद आज 20 जनवरी को छत्तीसगढ़ के खेल जगत को रमन सरकार की ओर से अन्तर्राष्ट्रीय हॉकी स्टेडियम के रूप में एक और बड़ी सौगात मिली है। राज्यपाल एकादश और मुख्यमंत्री एकादश के बीच हॉकी के प्रदर्शन मैच के साथ राजनांदगांव में इस नये स्टेडियम का लोकार्पण हुआ।
मुख्य अतिथि की आसंदी से समारोह को सम्बोधित करते हुए राज्यपाल श्री दत्त ने कहा कि हॉकी हमारा राष्ट्रीय खेल है। आजादी के पहले अनेक विश्व स्तरीय हॉकी स्पर्धाओं में भारतीय खिलाड़ियों ने देश को विजयी होने का गौरव दिलाया था। हमारी हॉकी टीमों ने उन दिनों अन्तर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में देश को अनेक स्वर्ण पदक दिलाकर दुनिया में भारत का नाम रौशन किया था। आज भी हमारी हॉकी टीमें पूरे आत्म विश्वास के साथ विभिन्न राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय स्पर्धाओं में शानदार प्रदर्शन कर रही हैं। उनके प्रदर्शन को देखकर लगता है कि भारत हॉकी में एक बार फिर दुनिया के शीर्ष पर पहुंचेगा। राज्यपाल ने कहा कि शहरों से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में हमें अपने हॉकी खिलाड़ियों के लिए बेहतर प्रशिक्षण की व्यवस्था करनी होगी। राज्यपाल ने राजनांदगांव में प्रदेश के प्रथम एस्ट्रोटर्फ हॉकी स्टेडियम के निर्माण के लिए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह सहित सभी खिलाड़ियों, प्रशिक्षकों और आम नागरिकों को बधाई तथा शुभकामनाएं दी। श्री दत्त ने उम्मीद जताई कि रायपुर और बिलासपुर में भी एस्ट्रोटर्फ हॉकी स्टेडियम का निर्माण जल्द पूरा होगा। इन अत्याधुनिक मैदानों में हमारे खिलाड़ियों को अच्छा प्रशिक्षण मिलेगा और देश को श्रेष्ठ खिलाड़ी मिलेंगे। राज्यपाल ने छत्तीसगढ़ में होने वाले आगामी राष्ट्रीय खेलों का उल्लेख करते हुए प्रदेश के हॉकी खिलाड़ियों का हौसला बढ़ाया और उन्हें इन खेलों में स्वर्ण पदक हासिल करने का लक्ष्य लेकर अभी से तैयारी शुरू करने की सलाह दी। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि आज का दिन निश्चित रूप से एक ऐतिहासिक दिन है।  जनता के सहयोग से हम सबने मिलकर यहां राज्य के प्रथम अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के हॉकी स्टेडियम का निर्माण पूरा किया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि है कि 18 महीने के रिकार्ड समय में इस का निर्माण पूर्ण हुआ। उन्होंने स्टेडियम के लोकार्पण पर आम जनता, खिलाड़ियों, खेल प्रेमी नागरिकों को बधाई दी।  डॉ. रमन सिंह ने कहा कि हमारे हॉकी खिलाड़ियों में निश्चित रूप से काफॅी उज्जवल संभावनाएं हैं। सरकार उनके लिए हर प्रकार की सुविधा देने को तत्पर है, ताकि उनकी खेल प्रतिभा बेहतर ढंग से विकसित हो और हॉकी के खेल में भारत पूरी दुनिया का सिरमौर बने। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें भारतीय हॉकी के स्वर्णिम इतिहास को याद करते हुए इसके सुनहरे दिनों को पुनः वापस लाने की दिशा में मिलकर काम करना होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि रायपुर में आगामी फरवरी माह तक और बिलासपुर में अप्रैल माह तक एस्ट्रोटर्फ हॉकी स्टेडियमों का निर्माण पूर्ण करने का लक्ष्य लेकर युद्ध स्तर पर कार्य हो रहा है। उन्होने उम्मीद जताई कि दोनों स्टेडियमों का निर्माण समय-सीमा में पूर्ण कर लिया जाएगा। डॉ. सिंह ने राजनांदगांव में एस्ट्रोटर्फ हॉकी स्टेडियम निर्माण में सहयोगी बने राज्य सरकार के सभी संबंिधत विभागों, निर्माण कार्य में योगदान देने वाले श्रमिकों और अन्य सभी लोगों के प्रति आभार प्रकट किया। लोकसभा सांसद श्री मधुसूदन यादव ने भी समारोह को सम्बोधित किया।
 
 उल्लेखनीय है कि जिला मुख्यालय राजनांदगांव के इस अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के इस हॉकी स्टेडियम में उत्तर-दक्षिण दिशा में 101 मीटर लम्बे और 70 मीटर चौड़े हरे रंग का एस्ट्रोटर्फ बिछाया गया है। एस्ट्रोटर्फ में छह स्प्रिंकलर लाइन भी बिछायी गयी है। प्रदेश के विश्व स्तरीय इस प्रथम हॉकी स्टेडियम को भारतीय हॉकी फेडरेशन से भी मान्यता मिल गयी है। छत्तीसगढ़ और पूरे भारत में राजनांदगांव हॉकी नर्सरी के नाम से पहचाना जाता है, जहां मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के लगातार प्रयासों के फलस्वरूप अन्तर्राष्ट्रीय हॉकी स्टेडियम के लोकार्पण के साथ ही राज्य और राजनांदगांव की जनता का वर्षो पुराना एक सपना साकार हो जाएगा। इसका निर्माण गौरव पथ के नजदीक गुजराती स्कूल और बख्शी स्कूल के बीच राजगामी सम्पदा की साढ़े नौ एकड़ जमीन पर किया गया है। प्रथम चरण में एस्ट्रोटर्फ के पूर्वी हिस्से में लगभग तीन हजार दर्शकों की बैठक क्षमता वाली गैलरी का निर्माण किया गया है। इसके अलावा अन्तर्राष्ट्रीय मानकों के अनुरूप प्रथम चरण में मुख्य मैदान, पेवेलियन और आमंत्रित विशेष अतिथियों के लिए कक्षों का निर्माण किया जा चुका है। स्टेडियम के पश्चिमी हिस्से में लगभग छह हजार दर्शकों की बैठक वाली दर्शक दीर्घा का निर्माण भी युद्ध स्तर पर पूर्णता की ओर है। दूसरे चरण में वहां नेटबाल, खो-खो और बास्केटबाल सहित कुछ अन्य खेलों के लिए भी बुनियादी सुविधाओं का विकास किया जाएगा। भारतीय हॉकी फेडरेशन से मान्यता मिलने के बाद अब छत्तीसगढ़ के इस अन्तर्राष्ट्रीय हॉकी स्टेडियम में निकट भविष्य में अन्तर्राष्ट्रीय हॉकी स्पर्धाओं का भी आयोजन किया जा सकेगा।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment