Close X
Monday, October 18th, 2021

खुले मे शौच की प्रथा से मुक्त बनाने का लक्ष्य निर्धारित

आई एन वी सी न्यूज़ देहरादून

उत्तराखण्ड ग्रामीण क्षेत्र में खुले में शौच की प्रथा से मुक्त-ओडीएफ-देश में चैथा राज्य बन चुका है। चालू वितीय वर्ष में उत्तराखण्ड के नगरीय क्षेत्र को भी खुले मे शौच की प्रथा से मुक्त बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। गुरूवार को एएमएन घोष आॅडिटोरियम ओएनजीसी में उत्तराखण्ड राज्य के खुले में शौच की प्रथा से मुक्त हो जाने के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में केन्द्रीय पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर की उपस्थिति में मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने मुख्य अतिथि के रूप में प्रतिभाग किया।
मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने इस अवसर पर कहा कि 22 जून 2017 का दिन उत्तराखण्ड राज्य के इतिहास में एक महत्वपूर्ण दिन एवं मील का पत्थर है। आज उत्तराखण्ड का ग्रामीण क्षेत्र ओडीएफ घोषित हुआ है। इस अवसर पर  राज्य सरकार ने संकल्प लिया है कि राज्य के शहरी क्षेत्र को भी चालू वितीय वर्ष में खुले में शौच की प्रथा से मुक्त कर दिया जाएगा। खुले में शौच की प्रथा से मुक्ति अति आवश्यक है। खुले में शौच की आदतों से न केवल अनेक रोग पैदा होते है बल्कि इसका व्यापक दुष्प्रभाव पर्यावरण तथा सभी प्राणियों पर पड़ता है। मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में स्वच्छ भारत मिशन के अन्र्तगत खुले में शौच की प्रथा से मुक्ति ने महाअभियान का रूप ले लिया है। प्रधानमंत्री द्वारा आरम्भ की गई हर पहल व प्रयास अभियान से महाअभियान बन रहा है। अन्र्तराष्ट्रीय योग दिवस तथा स्वच्छता मिशन इसके उदाहरण है। मुख्यमंत्री श्री रावत ने राज्य को ग्रामीण क्षेत्र में ओडीएफ घोषित होने तथा केरल, सिक्कम तथा हिमाचल प्रदेश के बाद चैथा राज्य बनने पर इस मिशन से जुडे़ सभी अधिकारियों, पंचायत प्रतिनिधियों विशेषकर ग्राम प्रधानों, गैर सरकारी संगठनों, मोटिवेटर्स तथा राज्य वासियों को बधाई तथा शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर केन्द्रीय पेयजल तथा स्वच्छता मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर कहा कि उत्तराखण्ड के ग्रामीण क्षेत्र का ओडीएफ होना अति प्रसन्नता का अवसर है। इस उपलब्धि हेतु राज्य के मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत नेतृत्व में इस मिशन से जुड़े सभी अधिकारी व कार्मिक, जनप्रतिनिधि, पंचायत प्रतिनिधि एवं जनता बधाई की पात्र है। उन्होंने कहा ओडीएफ घोषित होने के पश्चात् ओडीएफ की निरन्तरता बनी रहे हमें इसके लिए भी प्रयासरत रहना होगा। केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि आशा है कि उत्तराखण्ड राज्य ठोस एव तरल अवशिष्ट प्रबन्धन में भी अग्रणी राज्य बनेगा। इस अवसर पर केन्द्रीय मंत्री एवं मुख्यमंत्री द्वारा स्वच्छता प्रर्दशनी का अवलोकन किया गया तथा ओडीएफ मिशन को सफल बनाने में योगदान करने वाले पंचायत अध्यक्षो, अधिकारियों, ग्राम प्रधानों, मोटिवेटरों को सम्मानित किया। इस अवसर पर विधायक श्री विनोद चमोली, श्री मदन लाल शाह, मुख्य सचिव श्री एस.रामास्वामी, सचिव पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय भारत सरकार श्री परमेश्वर अययर, प्रमुख सचिव श्रीमती मनीषा पंवार आदि उपस्थित थे।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment