Close X
Wednesday, June 16th, 2021

कोविड 19 टीकाकरण और मुस्लिम समुदाय में जागरूकता

आई एन वी सी न्यूज़
लखनऊ,
कोविड 19 टीकाकरण के प्रति जागरूकता हेतु मौलाना आज़ाद मेमोरियल अकादमी, लखनऊ द्वारा आज एक वेबिनार शीर्षक, 'कोविड 19 टीकाकरण और मुस्लिम समुदाय में जागरूकता'  का आयोजन किया गया।


इस वेबिनार में वक्ता के रूप में प्रमुख शिया धर्म गुरु मौलाना कल्बे जव्वाद, सुन्नी धर्म गुरु इमाम ईदगाह मौलाना खालिद रशीद फरंगीमहली, अकबर अली बिलग्रामी, वरिष्ठ पत्रकार, ITRC लखनऊ की पूर्व डिप्टी डायरेक्टर कमर रेहमान, मेजर डॉक्टर नूरजहाँ ने अपने महत्त्वपूर्ण विचार प्रकट करे और मुस्लिम समुदाय को टीके के प्रति जागरूक और प्रोत्साहित करा।


मौलाना कल्बे जव्वाद साहब ने कहा कि जो लोग भी वैक्सीन के प्रति गलत फहमियां फैला रहे हैं वो इंसानियत के दुश्मन हैं।  उन्होंने कहा कि इस्लाम धर्म में जीवन का बहुत महत्त्व है, स्वास्थ्य ख़राब होने की वजह से अनिवार्य इबादत में भी सहूलत और छूट दी जाती है। अगर रोज़ा रखने से स्वास्थ पर कोई दुष्प्रभाव पड़ता है तो रोज़ा रखने को मन करा गया है।  उन्होंने कहा की हर व्यक्ति को वैक्सीन लगाना चाहिए ताकि इस आपदा को रोका जा सके।


इमाम ईदगाह मौलाना खालिद रशीद फिरंगीमहली ने कहा कि अफवाहों की वजह से वैक्सीन को लेकर झिझक समाज के विभिन्न समुदायों में है जिसका निवारण सबसे आवश्यक है।  इस्लाम धर्म ने स्वयं और इंसानों की जान की सुरक्षा का आदेश दिया है, इसलिए हमे चाहिए की कोविड नियमों का पालन करें और वैक्सीन आवश्य लगवाएं। उन्होंने कहाँ की वैक्सीन जागरूकता को लेकर मौलाना आज़ाद मेमोरियल अकादमी, लखनऊ की पहल सराहनीय है।


वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉक्टर कमर रेहमान साहिबा ने कहा कि हम ने इस आपदा में अपनों को खोया है।  उन्होंने कहा की हमे चाहिए की हम इस महामारी से बचने के लिए वैक्सीन की महत्ता को समझें और बढ़ चढ़कर अपने और अपने परिवार को टीका लगवाएं। उन्होंने इस बात पर ज़ोर दिया कि भारत में दोनों टीके कोविशील्ड और कोवाक्सिन प्रभावी हैं और हमे बिना किसी भिन्नता के किसी भी टीके को लगवाना चाहिए।


मेजर डॉक्टर नूरजहाँ ने कहा कि कोविड वैक्सीन की तरह पोलियो की वैक्सीन के बारे में भी शुरुआत में बहुत अफवाहें फैली थी जिसकी वजह से हमें बहुत नुक्सान उठाना पड़ा था।  उन्होंने कहा की इसके विरुद्ध केंद्र और राज्य सरकारों ने WHO और UNICEF के साथ मिलकर युद्धस्तर पर टीकाकरण करा था और लोगों की भ्रांतियों को दूर किया था जिसकी वजह से आज हमारा देश पोलियो मुक्त हो गया है। उन्होंने कहा की हम सब को इस बात से सबक लेना चाहिए और वैक्सीन के प्रति निराधार बातों पर ध्यान नहीं देना चाहिए।


वरिष्ठ पत्रकार आबिद अली बिलग्रामी ने  मशहूर शायर मीर तक़ी मीर का शेर " 'मीर' अमदन भी कोई मरता है, जान है तो जहान है प्यारे"  का ज़िक्र करते हुए कहा कि ईश्वर द्वारा दिए गए जीवन की सुरक्षा हमारा कर्त्तव्य है, अतः हम सब को कोविड और टीके के प्रति सभी सरकारी निर्देशों का पालन करना चाहिए।


वेबिनार में धन्यवाद ज्ञापन अकादमी के अध्यक्ष शारिक अल्वी ने करा तथा संचालन अकादमी के जनरल सेक्रेट्री अब्दुल कुद्दूस हाश्मी ने करा।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment