Tuesday, March 31st, 2020

कोरोना वायरस  : अमेरिका में एक दिन में 10,000 ज़्यादा मामले सामने आए 

देश में कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों की संख्या बढ़कर 536 पहुंच गई है. वहीं इसने अब तक 10 लोगों को मौत की नींद सुला दिया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीती रात 8 बजे कोरोना से निपटने के लिए दुनिया के सबसे बड़े लॉकडाउन का एलान कर दिया. आधी रात 12 बजे से लागू हुआ लॉकडाउन 21 दिन तक देश में जारी रहेगा.


तेलंगाना में कोविड-19 के तीन नए मामले आने के साथ ही राज्य में संक्रमित लोगों की कुल संख्या 39 हो गई है. राज्य सरकार ने मंगलवार देर रात एक बुलेटिन जारी कर यह जानकारी दी. संक्रमित मरीज के संपर्क में आई हैदराबाद निवासी 64 वर्षीय महिला भी नए मरीजों में से एक है. मीडिया बुलेटिन के अनुसार, 57 वर्षीय एक शख्स और भद्राद्री-कोठगुडम की एक अन्य महिला भी कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं. वे भी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए थे.
गृह मंत्रालय ने निजी सुरक्षा एजेंसियों से 21 दिन के बंद की अवधि में किसी भी गार्ड का वेतन नहीं काटने या नौकरी से नहीं निकालने को कहा है. बता दें कि देश में कोरोना वायरस को फैलने के रोकने के लिए 21 दिनों का लॉकडाउन लगाया गया है.
सऊदी अरब के शाह सलमान कोरोना वायरस वैश्विक महामारी से निपटने पर चर्चा करने के लिए बृहस्पतिवार को 20 प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं वाले देशों के नेताओं की बैठक की वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए अध्यक्षता करेंगे. रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन समेत विश्व नेता इस सम्मेलन में भाग लेंगे। क्रेमलिन ने बताया कि यह वीडियो कांफ्रेंस के जरिए होगा. रियाद ने बुधवार को एक बयान जारी कर कहा, ‘‘शाह सलमान कोविड-19 वैश्विक महामारी और इसके मनुष्यों तथा अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले असर से निपटने को लेकर आयोजित एक बैठक की अध्यक्षता करेंगे.’’
उत्तर प्रदेश के पीलीभीत में एक 33 वर्षीय निवासी कोरोना पॉजिटिव पाया गया है. इस व्यक्ति का कोई ट्रेवल हिस्ट्री नहीं है. इसका साफ मतलब है कि यह केस किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आन से हुआ है. इस बात की जानकारी किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी, लखनऊ के डॉ सुधीर सिंह ने दी है.
अमेरिका में कोरोना वायरस के एक दिन में ही करीब 10,000 मामले सामने आए हैं जबकि 150 अमेरिकियों ने इस संक्रमण से अपनी जान गंवा दी है. वहीं, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने 12 अप्रैल यानी ईस्टर तक देश की अर्थव्यवस्था के पटरी पर आने की उम्मीद जताई है. लाखों अमेरिकियों के लॉकडाउन होने, नेशनल गार्ड और सैन्य बलों की कई राज्यों में तैनाती के बावजूद न्यूयॉर्क में ही कम से कम 53 लोगों की मौत हो गई और मंगलवार को कम से कम 5,000 नए मामले सामने आए. न्यूयॉर्क में अभी तक कोविड-19 के 25,000 से अधिक मामले सामने आए हैं और 210 लोगों की मौत हो चुकी है.
सरकार ने बुधवार को क्षेत्रीय उपायुक्तों को ऐसे मकान मालिकों के खिलाफ ‘सख्त दंडात्मक कार्रवाई’ करने का निर्देश दिया जो कोरोना वायरस के डर से डॉक्टरों और अन्य अर्द्धचिकित्साकर्मियों पर किराए के घर खाली करने का दबाव बना रहे हैं.सरकारी अधिसूचना के मुताबिक इस तरह का बर्ताव कोविड-19 वैश्विक महामारी के खिलाफ लड़ाई की जड़ पर वार करता है और यह आवश्यक सेवाओं में बाधा उत्पन्न करने के बराबर है.दिल्ली महामारी रोग, कोविड-19 नियमन को लागू करते हुए इसमें कहा गया कि जिला मजिस्ट्रेट, नगर निगमों के क्षेत्रीय उपायुक्त और पुलिस उपायुक्तों को ‘‘निर्देश दिए गए हैं कि वे कानून के संबंद्ध प्रावधानों के तहत ऐसे मकान मालिकों और घरों के मालिकों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करें.’’
देश की 26 प्राइवेट लैब्स को कोरोना टेस्ट की इजाज़त मिल गई है. दिल्ली में चार, महाराष्ट्र में आठ गुजरात में तीन, हरियाणा में दो, कर्नाटक में तीन, तमिलनाडु में तीन और तेलंगाना में तीन प्राइवेट लैब को कोरोना टेस्ट करने की इजाजत दी गई है. बता दें कि प्राइवेट लैब में टेस्ट करवाने के लिए भी आईसीएमआर ने कुछ नियम तय किए हैं.
कोरोना वायरस को लेकर सुबह सुबह देश से एक दुखद खबर सामने आई है. देश में कोरोना से ग्यारहवीं मौत हो गई है. तमिलनाडु के मदुरई में एक शख्स ने दम तोड़ दिया है. यह शख्स लंबे समय से डायबिटीज और हाइपर टेंशन से ग्रसित था. देश में कोरोना के कुल मामले बढ़कर 536 हो गए हैं.
केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को पत्र लिखकर निर्देश दिए हैं कि राज्य में सभी जरूरी आवश्यक सुविधाओं के सामानों को बनने बनाने इधर-उधर भेजने आदि में कोई बाधा ना आने पाए. इन सभी से कहा गया है कि वह अपने राज्य में 24 घंटे का एक हेल्पलाइन बनाएं जिसमें यदि ऐसी आवश्यक वस्तुओं को लेकर कोई व्यवधान प्रशासन की तरफ से उत्पन्न हो रहा है तो तत्काल उसे सुलझाया जाए. गृह मंत्रालय ने कड़े निर्देश दिए हैं कि आवश्यक वस्तुओं को हर हाल में उपलब्ध कराई जाए.
दुनियाभर में कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़कर चार लाख के पास हो गई है, वहीं मरने वालों का आंकड़ा भी 18,000 पार कर गया है. अकेले इटली में एक दिन में 743 लोगों की जान कोरोना वायरस के चलते चली गई है. दुनिया के अलग अलग देशों की बात करें तो चीन में 3277, इटली में 6820, अमेरिका में 775, स्पेन में 2991, ईरान में 1934 और फ्रांस 1100 लोगों के चलते अपनी जान गंवा चुके हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि अमेरिका इस बीमारी का नया केंद्र हो सकता है.

पूरी दुनिया के साथ साथ कोरोना वायरस अब धीरे धीरे भारत में भी पैर पसार रहा है. देश में कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों की संख्या बढ़कर 536 पहुंच गई है. वहीं इसने अब तक 10 लोगों को मौत की नींद सुला दिया है. इसी कोरोना वायरस से लड़ने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीती रात 8 बजे कोरोना से निपटने के लिए दुनिया के सबसे बड़े लॉकडाउन का एलान कर दिया. आधी रात 12 बजे से लागू हुआ लॉकडाउन 21 दिन तक देश में जारी रहेगा.

 

प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना से निपटने के लिए इसके अलावा दूसरा कोई विकल्प नहीं था. हालांकि लॉकडाउन के दौरान जरूरी चीजों की कोई परेशानी नहीं होगी लेकिन प्रधानमंत्री के एलान के साथ ही लोगों में अफरातफरी मच गई. देश के अलग-अलग शहरों में लोग खरीदारी के लिए बाहर निकल गए.

 

दुकानों के बाहर भीड़ लग गई, घर की रोजमर्रा की चीजों खरीदने के लिए होड़ लग गई. हालांकि बाद में गृहमंत्री अमित शाह और खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को आश्वासन दिलाया कि आवश्यक वस्तुओं की देश में कोई कमी नहीं है. इसलिए किसी तरह की पैनिक बाइंग ना करें और अपने घरों में ही रहें.

 

बता दें कि इस वक्त दुनिया में ऐसा कोई देश नहीं हैं, जहां कोरोना के मरीज नहीं हैं. चीन से निकला वायरस यूरोप और अमेरिका में कहर बरपा रहा है. इटली में हर रोज 500 से ज्यादा लोग मर रहे हैं, स्पेन, जर्मनी, ब्रिटेन समेत यूरोप के बाकी देश भी कोरोना के कुचक्र में फंस चुके हैं.

 

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी दी है कि अमेरिका चीन, ईरान, यूरोप के बाद अमेरिका कोरोना का नया एपीसेंटर हो सकता है. ऐसे हालात दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी आबादी वाले देश भारत में ना बने इसलिए विश्व स्वास्थ्य संगठन बार-बार चेतावनी दे रहा है. अभी नहीं संभले तो परिणाम इतने भयावह होंगे जिसकी कल्पना करना भी मुश्किल है.PLC.

 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment