Close X
Monday, January 18th, 2021

कोरोना और बाढ़ की मार झेल रहे सूडान को भारत ने भेंट की 100 मीट्रिक टन खाद्य सहायता

             भारतीय नौसेना के जहाज ऐरावत पर आयोजित समारोह में भारत की तरफ से भेंट की गई खाद्य सामग्री

आई एन वी सी न्यूज़
नई दिल्ली ,

पूरा विश्व जब वैश्विक महामारी कोरोना से जूझ रहा है, वहीं अफ्रीकी देश सूडान को इसकी दोहरी मार झेलनी पड़ रही है। एक तरफ जहां कोरोना के कारण सूडान के लोगों का जीवन प्रभावित हुआ है, तो दूसरी तरफ भारी बाढ़ ने भी वहां के लोगों का जीना मुहाल कर रखा है। ऐसे में भारत सरकार सूडान की हर तरह से मदद करने में जुटी हुई है। इसी माह 2 नवंबर को भारत की तरफ सूडान को 100 मीट्रिक टन खाद्य सहायता पहुंचाई गई है। 

इस संबंध में सूडान की राजधानी खार्तूम स्थित भारतीय दूतावास ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर जानकारी दी है। जिसमें बताया गया है कि भारतीय नौसेना के जहाज (आईएनएस) ऐरावत पर एक सादगीपूर्ण समारोह का आयोजन किया गया था। जिसमें सूडान के लाल सागर राज्य के राज्यपाल अब्दुल्ला शिंगराई ओहाज हमद शामिल थे। इस दौरान भारत के राजदूत रवींद्र प्रसाद जायसवाल ने सूडान को यह खाद्य सहायता भेंट की। भारत की तरफ से सूडान गणराज्य को भेंट की गई खाद्य सहायता में गेंहू का आटा, शक्कर और अन्य खाद्य पदार्थ शामिल है। 

भारत की तरफ से मिली मदद पर राज्यपाल अब्दुल्ला शिंगराई ओहाज हमद ने भारत की सराहना करते हुए भारत सरकार का आभार जाताया। इस अवसर पर लाल सागर राज्य के सैन्य कमान के कमांडर मेजर जनरल इब्राहिम, कमोडोर एल्सडिग इब्राहिम उस्मान इब्राहिम, पोर्ट सूडान नेवल बेस के कमांडर और स्थानीय भारतीय समुदाय के कई गणमान्य लोग मौजूद रहे।

सूडान सहित इन अफ्रीकी देशों को भी मदद पहुंचा चुका है भारत


ऐतिहासिक और घनिष्ठ सांस्कृतिक संबंध वाले अफ्रीकी देशों को भारत इससे पहले भी मदद पहुंचा चुका है। भारत सरकार एक तरफ जहां अफ्रीकी देश सूडान, दक्षिण सूडान, जिबूती और इरिट्रिया 270 मीट्रिक टन खाद्य सामग्री भेज चुकी है। वहीं दूसरी तरफ पूर्वी अफ्रीकी देश मलावी को बीते माह 1 हजार मीट्रिक टन चावल भेंट किया था। यही नहीं लाइन ऑफ क्रेडिट पावर ट्रांसमिशन परियोजना के तहत पश्चिमी अफ्रीकी देश माली को भारत सरकार 100 मिलियन अमेरिकी डालर की मदद पहुंचा चुकी है।

 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment