Harish Rawat INVC NEWSआई एन वी सी न्यूज़
देहरादून,
स्कूल से ड्राप आउट होने वाले बच्चों को स्किल डेवलपमेंट की कार्ययोजना बनाई जाएगी। एमएसएमई के तहत औद्योगिक इकाईयों को बीमाकृत कराया जाएगा। अपे्रल से उद्योगों को 24 घंटे बिजली मिलेगी। प्रदेश में 500 से अधिक माॅडल स्कूल प्रारम्भ किए जा रहे है। जागर महाविद्यालय स्थापित किया जाएगा। मुख्यमंत्री हरीश रावत ने जागर सम्राट प्रीतम भत्र्वाण से इसकी जिम्मेवारी उठाने का आग्रह किया। अति पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक छात्रों के लिए प्रोत्साहन राशि का प्राविधान किया जाएगा। बुधवार को ‘‘उŸाराखण्ड बजट 2016-17, जनसहभागिताः एक सवाल -एक सुझाव’’ कार्यक्रम में लोगों ने बढ़ चढ़कर भागीदारी करते हुए राज्य से संबंधित विभिन्न बिंदुओं पर प्रश्न भी पूछे और अपने सुझाव भी दिए। मुख्यमंत्री हरीश रावत व उनके केबिनेट के सहयोगियों डा.(श्रीमती) इंदिरा हृद्येश, श्री यशपाल आर्य, डा.हरक सिंह रावत, श्री प्रीतम सिंह, श्री दिनेश अग्रवाल, श्री सुरेंद्र सिंह नेगी ने पूछे गए प्रश्नों व सुझावों को गम्भीरतापूर्वक न केवल सुना बल्कि पलायन को रोकने, कृषि विकास, पर्यटन विकास, स्किल डेवलपमेंट आदि के लिए किए जा रहे कामों की जानकारी दी।
राज्य के बजट में जनसहभागिता सुनिश्चित करने के लिए मुख्यमंत्री हरीश रावत ने गत वर्ष यह परम्परा प्रारम्भ की थी। उससे प्राप्त उत्साहजनक परिणामों के बाद इस बार भी न्यू कैंट रोड़ स्थित मुख्यमंत्री आवास में ‘‘उŸाराखण्ड बजट 2016-17, जनसहभागिताः एक सवाल -एक सुझाव’’ कार्यक्रम का आयोजन किया गया। आम जनता, मुख्यमंत्री सहित तमाम केबिनेट मंत्री और मुख्य सचिव सहित शासन के आला अधिकारी मौजूद थे। सवालों व सुझावों का मुख्यमंत्री श्री रावत स्वयं जवाब दे रहे थे और विŸा विभाग सहित संबंधित वरिष्ठ अधिकारी उन्हें नोट भी कर रहे थे। सवाल करने वालों में छात्र-छात्राएं, कृषि, उद्योग, पर्यटन, शिक्षा, पत्रकारिता, विधि, गैर सरकारी संगठनों से जुड़े लोगो ंसहित सामान्यजन भी शामिल थे।
इंडस्ट्रीयल एसोसिएशन के पंकज गुप्ता ने स्कूल से ड्राप आउट होने वाले बच्चों को स्किल डेवलपमेंट कोर्स कराए जाने व एमएसएमई औद्योगिक इकाईयों को बीमाकृत किये जाने का सुझाव दिया। मुख्यमंत्री श्री रावत ने तकनीकी शिक्षा विभाग को स्कूलों से ड्राप आउट होने वाले बच्चों को साफ्ट स्किल व एडवांस्ड स्किल देने के लिए कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए। साथ ही उद्योग विभाग को निर्देश दिए कि नई एमएसएमई पालिसी में आने वाली औद्योगिक इकाईयों को बीमाकृत कराए जाने की योजना बनाई जाए। इसमें प्रीमीयम की राशि का भुगतान राज्य सरकार व संबंधित औद्योगिक इकाई द्वारा किया जाएगा। केबिनेट मंत्री यशपाल आर्य ने कहा कि ऊधमसिंहनगर में कूड़ा बीनने वाले बच्चों के स्किल डेवलपमेंट की योजना चलाई जा रही है। पर्यटन व्यवसायी एसपी कोचर ने देहरादून के सहस्त्रधारा, रोबर्स केव व मसूरी के कॅम्पटीफाॅल की स्थिति सुधारे जाने की आवश्यकता बताई। मुख्यमंत्री श्री रावत ने इसके लिए सचिव पर्यटन को समुचित कार्यवाही करने के निर्देश दिए।
केप्टेन (से.नि.) ओमप्रकाश पोखरियाल द्वारा पूछा गया कि सरकार पलायन को रोकने व पूर्व सैनिकों के लिए बजट में क्या करने जा रही है। मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि राज्य सरकार ने विवशता में होने वाले पलायन को थामने के लिए कृषि व संबंधित क्षेत्र, स्थानीय हस्तकला, इको टूरिज्म, स्वास्थ्य व शिक्षा पर विशेष ध्यान दे रही है। कृषि व सहायक क्षेत्र में 100 से अधिक इनिसिएटिव लिए गए हैं। इनके परिणाम भी प्राप्त होने प्रारम्भ हो गए हैं। स्थानीय स्किल व उत्पादों को प्रोत्साहित करने के लिए मास्टर क्राफ्ट मैन व वूमेन तैयार किए जा रहे हैं। नंदा देवी सेंटर फाॅर सक्सीलेंस शुरू किया गया है। स्थानीय उत्पादों की मार्केटिंग के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। हम अपने फूड का्रफ्ट को प्रचारित कर रहे हैं। वन विभाग को पर्यटन से जोड़ते हुए इको टूरिज्म की गतिविधियां प्रारम्भ की गई हैं। माउंट बाईकिंग, माउंटिनियरिंग के नए क्षेत्र खोले गए हैं। बटर फ्लाई, रेप्टाईल पार्क बनाए जा रहे हैं। मुन्स्यारी में माउंटिनियरिंग ट्रेनिंग सेंटर प्रारम्भ किया गया है। प्रदेश में 500 माॅडल स्कूल प्रारम्भ कर रहे हैं। शिक्षा में निजी निवेश की पाॅलिसी बनाई गई है। जिला अस्पतालों को जल्द ही सभी आवश्यक उपकरणों से सुसज्जित कर दिया जाएगा। मोबाईल हेल्थ सर्विसेज व हेल्थ कैम्प बेस्ट सेवाओं पर जोर दिया जा रहा है।
ले.ज.(से.नि.) टीपीएस रावत ने बजट आवंटन में शिक्षा व स्वास्थ्य के क्षेत्र को प्रमुखता देने का सुझाव दिया। उन्होंने प्रदेश का ऋण भार कम करने की आवश्यकता पर भी बल दिया। पत्रकार गजेंद्र सिंह रावत ने पर्वतीय क्षेत्रों में निजी निवेश को आकर्षित करने व मुख्यमंत्री श्री रावत द्वारा प्रारम्भ ‘हिटो पहाड’ की मुहिम का प्रभावी क्रियान्वयन की जरूरत बताई। मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि हिटो पहाड़ से उम्मीद के मुताबिक रेस्पोंस नहीं मिला है परंतु कम से कम आज अप्रवासी उŸाराखण्डियों के सामने यह एक प्रश्न के तौर पर सामने तो आया है।
सिडकुल एरिया में सिथत एक कम्पनी में काम करने वाले श्री भारत भूषण ने ़रात्रि में कम्पनियों में काम करने वाली महिलाओं की सुरक्षा की बात उठाई। मुख्यमंत्री श्री रावत ने इस पर पुलिस महानिदेशक बीएस सिद्धु को सिडकुल के अधिकारियों व कम्पनियों के प्रतिनिधियो के साथ बैठकर प्लान तैयार करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने बताया कि सरकार वूमेन हास्टल पर काम कर रही है। पुलिस पेट्रोलिंग को बढ़ाया जाएगा।
उद्यमी योगश तिवारी ने उद्योगों के लिए पैकेज की अवधि समाप्त होने पर औद्योगिक इकाइयों के लिए विशेष कदम उठाए जाने का सुझाव दिया। मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि उŸाराखण्ड में उद्योगों को आकर्षित करने के लिए तीन बातों पर फोकस किया जा रहा है। अपे्रल से उद्योगों को 24 घ्ंाटे बिजली उपलब्ध करवाई जाएगी। प्रयास किया जाएगा कि उद्योगों को 24 घंटे बिजली की उपलब्धता का प्राविधान एक्ट के तहत कर दिया जाए। उद्योगों को क्वालिफाईड मेनपावर उपलब्ध करवाने के साथ ही पूर्ण सुरक्षा भी दी जाएगी। जल्द ही हमारा सिंगल विंडो सिस्टम देश के सर्वश्रेष्ठ सिस्टम में से एक होगा।
विधि की छात्रा आंचल सिंघल के यह कहने पर कि 14 प्रतिशत सर्विस टैक्स को कम किया जाना चाहिए मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि सर्विस टैक्स केंद्र सरकार का मामला है। उन्होने आश्वस्त किया कि इस बारे में केंद्रीय विŸा मंत्री को पत्र लिखकर अनुरोध करेंगे। श्री भारत चैहान ने अनुसूचित जाति व जनजाति पर व्यय को बढ़ाए जाने का सुझाव दिया। मुख्यमंत्री श्री रावत ने बताया कि लोक निर्माण विभाग की तरह ही समाज कल्याण विभाग को बजट को बड़ा हिस्सा दिया जा रहा है। इस वर्ष समाज कल्याण विभाग का लगभग 1400 करोड़ रूपए का बजट था। परंतु केंद्र से अभी 700 करोड़ से अधिक का बजट आना है। वहां से एससी व एसटी छात्रवृŸिा का पैसा भी नहीं भेजा गया है। मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि पिछले दो वर्षों में सामाजिक सुरक्षा का अभियान चलाया कर विभिन्न पेंशनें प्रारम्भ की गई हैं। पेंशन लाभार्थियों की संख्या 2 लाख से बढ़कर 6 लाख पार कर चुकी है।
टिहरी जिला पंचायत सदस्य अखिलेश उनियाल ने पंचायती संस्थाओं की पार्टनरशिप में पर्यटन स्थलों को विकसित करने का सुझाव दिया। मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि उŸारकाशी व अल्मोड़ा में इस तरह का काम किया गया है। विलेज टूरिज्म की योजनाओं में ग्राम पंचायतों को स्टेक होल्डर बनाया जा सकता है।
कर्नल सतीशचंद्र शर्मा ने गांवों में खेल इंफ्रास्ट्रक्चर विकसित करने की जरूरत बताई। मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि इस वर्ष 50 छोटे खेल के मैदान बनाए जा रहे हैं। किसान वीरेंद्र सिंह ने कृषि का बजट बढ़ाने व किसानों की दशा सुधारने को प्राथमिकता देने का सुझाव दिया। मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि गन्ना किसानों को अतिरिक्त भुगतान किया गया है। किसानों के नलकूपों के बिजली सरचार्ज के बकाया को माफ किया गया है। दूध पर 4 रूपए प्रति लीटर बोनस दिया जा रहा है। कृषि इन्पुटों पर 80 से 90 फीसदी तक सब्सिडी दी जा रही है। कृषि मंत्री डा.हरक सिंह रावत ने कहा कि हम जैविक खेती की तरफ जा रहे हैं। रूद्रप्रयाग जिले को जैविक खेती का जिला बनाया जा रहा है। रेशम उत्पादन में हम हिमाचल प्रदेश से आगे निकल गए हैं। उŸाराखण्ड की आर्गेनिक ग्रीन टी का प्रसार किया जा रहा है।
श्री आलेंद्र सिंह बिष्ट ने बंदरों व सूअरों से निजात दिलाने की प्रभावी कार्ययोजना तैयार करने का अनुरोध किया। मुख्यमंत्री श्री रावत ने बताया कि सूअरों को मारने की इजाजत दे दी गई है। बंदरबाड़े भी बनाए जा रहे हैं। वन मंत्री दिनेश अग्रवाल ने कहा कि हरिद्वार में बंदरबाड़े का संचालन प्रारम्भ कर दिया गया है। अल्मोड़ा, टिहरी व नैनीताल में भी बंदरबाड़े बनाए जा रहे हैं। छात्रा नेहा पंवार ने रूड़की में ढढेरा फाटक के पास सड़क खराब होने की शिकायत की। मुख्यमंत्री श्री रावत ने शिकायत को वाजिब बताते हुए कहा कि इस पर कार्यवाही की जाएगी।
विŸामंत्री डा.(श्रीमती) इंदिरा हृद्येश ने कहा कि बजट निर्माण में जनसहभागिता एक अच्छी पहल है। इससे जनभावना को समझने में मदद मिलेगी। बहुत से सुझाव मिल रहे हैं। इन्हें बजट में भी शामिल किया जाएगा। राज्य के सीमित आर्थक संसाधन हैं। हमें अर्धकुम्भ के लिए केंद्र सरकार से अभी तक कोई सहायता नहीं मिली है। हमारा प्रयास है कि हम बजट इस प्रकार का बनाए कि राज्य की विकास योजनाओं के लिए धन की कमी नहीं रहे और आमजन पर करों का बोझ भी न पड़े। कार्यक्रम का संचालन सचिव सूचना विनोद शर्मा ने किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here