किसान आंदोलन : दिल्ली NCR वालों को मिली बड़ी राहत

0
67

नए कृषि कानूनों को लेकर पिछले करीब दो महीने से दिल्ली के कुछ बॉर्डर बंद पड़े थे, जिसकी वजह से रोजाना हजारों राहगीरों को परेशानी होती थी। मगर दिल्ली-एनसीआर वालों के लिए अच्छी बात ये है कि राजधानी से जुड़े दो बड़े रास्तों को खोल दिया गया है। आज सुबह एनएच-24 को खोल दिया गया। दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने कहा कि एनएच-24 खोल दिया गया है, जिससे दिल्ली से गाजियाबाद जाने वाला रूट बहाल हो गया है। इससे पहले बुधवार की शाम को चिल्ला बॉर्डर खोला गया था।

दिल्ली पुलिस ने आज सुबह ट्वीट कर जानकारी दी कि NH-24 दिल्ली से गाज़ियाबाद जाने वाले मार्ग को खोल दिया गया है। हालांकि, इसके साथ कोविड को लेकर सावधानी बरतने को भी कहा है। फिलहाल, एनएच-24 पर यातायात सामान्य है। बता दें कि एनएच-24 गाजियाबाद और दिल्ली को जोड़ता है। अब दिल्ली से गाजियाबाद या गाजियाबाद से दिल्ली आने-जाने वाले लोगों को ज्यादा परेशानी नहीं होगी।

दरअसल, नये कृषि कानूनों को लेकर करीब दो माह से चिल्ला बॉर्डर पर धरना दे रहे भारतीय किसान यूनियन (भानू) ने बुधवार से अपना धरना वापस ले लिया। जिसके बाद नोएडा और दिल्ली को जोड़ने वला सड़क भी खुल गया। नोएडा यातायात पुलिस के अधिकारियों ने बताया कि बीकेयू (भानु) के विरोध वापस लेने के साथ ही चिल्ला बॉर्डर के माध्यम से दिल्ली-नोएडा मार्ग 57 दिनों के बाद यातायात के लिए फिर से खुल गया।

वहीं दिल्ली मेट्रो की बात करें तो अभी लाल किला मेट्रो स्टेशन पर एंट्री और एग्जिट दोनों गेट बंद रहेंगे, जबकि जामा मस्जिद मेट्रो स्टेशन पर सिर्फ एंट्री बंद रहेगी, हालांकि यहां पर यात्रियों के लिए एग्जिट गेट खुला रहेगा। डीएमआरसी ने गुरुवार सुबह ट्वीट कर यह जानकारी दी। बता दें कि इनके अलावा सभी मेट्रो स्टेशन पर सेवा सामान्य तौर पर बहाल हैं।

गौरतलब है कि भारतीय किसान यूनियन (भानू) नये कृषि कानूनों के विरोध में चिल्ला बॉर्डर पर धरना दे रहा था। इस धरने की वजह से नोएडा से दिल्ली जाने वाला रास्ता करीब 57 दिनों से बंद था। भारतीय किसान यूनियन (भानू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष ठाकुर भानु प्रताप सिंह ने चिल्ला बॉर्डर पर एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि कल ट्रैक्टर परेड के दौरान जिस तरह से दिल्ली में पुलिस के जवानों के ऊपर हिंसक हमला हुआ तथा कानून व्यवस्था की जमकर धज्जियां उड़ाई गई, इससे वे काफी आहत हैं। plc.PLC.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here