Close X
Saturday, March 6th, 2021

किसान आंदोलन के सहारे आम आदमी पार्टी पंजाब में एक बार फिर से खुद को मजबूत करने में जुटी

नई दिल्ली। किसान आंदोलन के सहारे आम आदमी पार्टी पंजाब में एक बार फिर से खुद को मजबूत करने में जुटी हुई है। 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में पार्टी ने ना सिर्फ खुद को स्थापित किया बल्कि वहां सरकार बनाने से चूक गई। हालांकि उस विधानसभा चुनाव के बाद से पार्टी में कई बिखराव देखने को मिले। अब पार्टी के प्रमुख अरविंद केजरीवाल को लगता है कि एक बार फिर पंजाब में अपनी जड़ें मजबूत करने के लिए उनके पास अच्छा मौका है। इसी को ध्यान में रखते हुए दिल्ली में जमे किसानों की मदद उनकी पार्टी की तरफ से खूब की जा रही है। इतना ही नहीं, केजरीवाल के विधायक से लेकर मंत्री तक उन किसानों की सेवादारी में वहां मौजूद रह रहे हैं। किसानों के समर्थन में खुद केजरीवाल ने भी 1 दिन का अनशन किया था।
  अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षा को ध्यान में रखकर ही आम आदमी पार्टी की ओर से पंजाब में राघव चड्ढा को सह प्रभारी की जिम्मेदारी दी गई है। राघव चड्ढा पार्टी के वरिष्ठ नेता होने के साथ-साथ युवा है और राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं। उन्हें पंजाब का प्रभारी बनाने की घोषणा स्वयं अरविंद केजरीवाल द्वारा की गई। माना जाता है कि राघव चड्ढा पंजाब के जमीनी मुद्दों पर अपनी गहरी पकड़ रखते हैं। इसके अलावा समय-समय पर किसान के मसलों समेत कई महत्वपूर्ण मसलों पर वह अपनी पार्टी का पक्ष मजबूती से सामने रखते हैं। चड्ढा को यह जिम्मेदारी ऐसे समय में दी गई है जब मजबूती से उभरने के बावजूद पंजाब में पार्टी बिखराव की ओर है। कई नेता  बगावत के सुर अपनाते रहते हैं तो कईयों ने बगावत कर दी है। इसके अलावा पंजाब में किसानों की दिक्कतें, महिलाओं की सुरक्षा, युवाओं को नशे की लत और खराब शासन व्यवस्था को लेकर आम आदमी पार्टी वहां अपनी उम्मीदों को धार देने की कोशिश में है। PLC.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment