Close X
Friday, November 27th, 2020

किसान धान को बेचने के लिए मारा-मारा फिर रहा

लखनऊ । किसानों की विभिन्न समस्याओं को लेकर प्रदेश कांग्रेस ने गुरुवार को राज्य के लगभग सभी जिलों में विरोध प्रदर्षन कर जिलाधिकारी के माध्यम से राज्यपाल को किसानों की मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा। कांग्रेस ने अपने ज्ञापन में धान की खरीद न्यूनतन समर्थन मूल्य से कम दाम पर किये जाने, गन्ना किसानों का बकाया 14 हजार करोड़ रुपये का अबिलम्ब भुगतान किये जाने और निजी नलकूप के बिजली दामों में बढ़ोतरी को वापस लेने की मांग की है।
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि किसान अपने धान को बेचने के लिए मारा-मारा फिर रहा है और सरकार उनकी तरफ आँख बंद कर के बैठी है। तमाम दावों के बाबजूद प्रदेश में अभी भी धान क्रय केंद्र नहीं खुल पाए है, जो थोड़े बहुत खुले है वहां पर धान किसानो के साथ नमी के नाम पर भारी कटौती कर उनका शोषण करने के साथ बिचैलियों के हाथों औने पौने दामो पर बेचने पर मजबूर किया जा रहा है। न्यूनतम समर्थन मूल्य 1886 रूपये प्रति कुन्तल की घोषणा करने वाली भाजपा सरकार किसानों को मात्र 1100 से 1200 प्रति कुन्तल की दर से खरीद रही है। उन्होंने कहा कि योगी सरकार ने अपने घोषणा में गन्ना किसानों से 14 दिन में पूर्ण भुगतान करने का वादा किया था और ऐसा न होने पर ब्याज सहित रकम अदा करने की घोषणा की थी। परन्तु साढ़े तीन साल बीत जाने के बाद भी अभी तक यह वादा पूरा नहीं हुआ है। सरकार अपने वादे के मुताबिक गन्ना किसानों को तत्काल बकाया गन्ने का भुगतान सुनिश्चित कराये। प्रदेश अध्यक्ष ने विगत माह में किसानों के निजी नलकूपों के बिजली की कीमतों में की गयी बढ़ोत्तरी का विरोध करते हुए बढ़ी हुई कीमतों को अविलम्ब वापस लेने की मांग की है। PLC.

 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment