Close X
Thursday, January 20th, 2022

किसानो के लिए 5 हजार सेवा केंद्र

chief ministerआई एन वी सी,, जयपुर,, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि प्रदेश में 5 हजार किसान सेवा केन्द्र खोले जायेंगे जिनमें किसानों को कृषि संबंधी नवीनतम तकनीकी जानकारी मिलने के साथ-साथ कृषि के नवाचारों की जानकारी स्थानीय स्तर पर ही उपलब्ध हो सकेगी। मुख्यमंत्री रविवार को सीकर में आयोजित किसान सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि शेखावाटी की धरती सैनिकों व प्रवासी राजस्थानियों की है सैनिकों देश की सीमा पर अपनी सेवाएं दे रहे हैं तथा प्रवासी राजस्थानी देश की अर्थ व्यवस्था को मजबूत कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार किसानों की हितैषी है। राज्य सरकार ने प्रदेश के किसानों पर विद्युत भार नहीं बढ़े इसके लिए 5 हजार करोड़ रूपये प्रति वर्ष विद्युत नियामक आयोग को देती है। उन्होंने पेयजल की कमी पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि वर्षा का पानी एनिकट व तालाब में संचित कर सिंचाई में उपयोग में लाया जाये ताकि उसका फसल उत्पादन में सदुपयेाग किया जा सके। उन्होंने किसानों को जल संरक्षण का आह्वान करते हुए पानी बचाने का संकल्प दिलाया ताकि आने वाली पीढ़ी को इसका लाभ मिल सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के किसानों की मेहनत का प्रतिफल ही है कि दलहन उत्पादन में राज्य ने देश में प्रथम स्थान प्राप्त किया है ’’तथा फूड गे्रन’’ उत्पादन में भी इस वर्ष फिर प्रदेश को पुरस्कार मिला है। प्रदेश में गुणवतापूर्ण खाद व बीज का उपयोग किया गया और कृषि पर योजनाबद्घ ढंग से ध्यान दिया गया है। राज्य में फव्वारा पद्घति से खेती करना काफी कामयाब है बूंद-बूंद सिंचाई पद्घति से खेती वैज्ञानिक ढंग से हो रही है। उन्होंने कहा कि राज्य में पवन ऊर्जा से 2 हजार मेगावाट विद्युत उत्पादन शुरू किया गया है। सौर ऊर्जा से 150 मेगावाट विद्युत का उत्पादन शुरू हो गया है तथा एक हजार मेगावाट विद्युत उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है सौर ऊर्जा उत्पादन के लिए 6 हजार 181 किसानों को लाभ मिला है। प्रदेश में कोल्ड स्टोरेज बनाने का कार्य हो रहा है, जिससे किसानों को उनकी फसल उत्पादन का पूरा लाभ मिल सकेगा। उन्होंने कहा कि राज्य में एग्रो फूड प्रोसेसिंग की नीति बनाई गई है तथा राज्य स्तर का फूड एग्रो प्रोसेसिंग केन्द्र भरतपुर में खोला जाएगा। श्री गहलोत ने कहा कि राज्य में विद्युत, शिक्षा, सडक़, पेयजल व चिकित्सा सेवाओं का विस्तार किया गया है जिससे आमजन को लाभ मिला है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की फ्लेगशिप योजनाएं क्रियान्वित कर सभी लोगों को लाभान्वित किया जा रहा है। राज्य सरकार नि:शुल्क दवा वितरण के साथ-साथ आगामी 7 अप्रेल से प्रदेश में विभिन्न प्रकार की आमजन के लिए स्वास्थ्य संबंधी जांचे भी नि:शुल्क करने जा रही है। राज्य में गत 15 अगस्त से पशुओं को उपचार के लिए नि:शुल्क दवा भी उपलब्ध कराई जा रही है। गरीबों को 2 रूपये किलो अनाज, राज चाय, राज आटा दिया जा रहा। सरकार गरीबों की मदद करने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है। उन्होंने कहा कि पशुपालकों को दुग्ध उत्पादन बढ़ाने के लिए स्वयंसेवी संस्थाओं का सहयोग लिया जायेगा। अल्पसंख्यक समुदाय के छात्र-छात्राओं को प्री मैट्रिक व उत्तर मैट्रिक छात्रवृति योजना के तहत राज्य के 2 लाख 50 हजार को वजीफा दिया गया है। सीकर शिक्षा का हब बन चुका है तथा सीकर में शेखावाटी विश्वविद्यालय में शीघ्र ही वाइस चांसलर की नियुक्ति कर दी जायेगी। उन्होंने कहा कि राज्य में जननी शिशु सुरक्षा योजना के अन्तर्गत 11 लाख महिलाओं के प्रसव हुए है जिन्हें सभी सुविधाएं नि:शुल्क उपलब्ध कराई गई तथा जच्चा व बच्चा को सभी सुविधाएं नि:शुल्क उपलब्ध कराई जा रही है तथा प्रसव के बाद 1400 रूपये भी दिये जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने बताया कि राज्य में बेघर परिवारों के लिए 34 करोड़ रूपये का ऋण लेकर पक्के आवासीय मकान बनाये जायेंगे। उन्होंने कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा सूचना के अधिकार, शिक्षा का अधिकार व नरेगा में रोजगार उपलब्ध कराकर आमजन को लाभान्वित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि राज्य में मैरिट में आने वाले 56 हजार विद्यार्थियों को 360 करोड़ रूपये के लेपटॉप दिये जायेंगे। युवाओं को तकनीकी प्रशिक्षण देने की योजना शुरू की गई है जिससे युवाओं के लिए रोजगार का मार्ग प्रशस्त होगा। उन्होंने युवा पीढ़ी से बुजुर्गों की सेवा करने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि जो अपने बुजुर्ग माता-पिता की सेवा नहीं करेंगे उनकी सम्पति वापस दिलाने का अधिकार दिया गया है तथा जो सरकारी कार्मिक बुजुर्गों की सेवा नहीं करता है उसके वेतन से राशि काटकर बुजुर्गों को देने का प्रावधान भी किया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कन्या भू्रण हत्या करना पाप है तथा कन्या भू्रण हत्या से लिंगानुपात बिगड़ रहा है जिससे भविष्य में लडक़ों की शादी के लिए लड़किया नहीं मिलेंगी। आधार कार्ड बन जाने से कृषकों का अनुदान उनके खाते में सीधा स्थानान्तरित होने से भ्रष्टाचार पर भी अंकुश लगेगा। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार ने चार साल में प्रदेश में आमजन के लिए जो कल्याणकारी योजनाएं क्रियान्वित की है उनका लाभ सभी लोगों तक पहुंच रहा है। समारोह में उद्योग एवं आबकारी मंत्री श्री राजेन्द्र पारीक, राजस्थान किसान आयेाग के अध्यक्ष श्री नारायण सिंह, पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं सांसद श्री महादेव सिंह खण्डेला, पूर्व ऊर्जा मंत्री डॉ. चन्द्रभान, लक्ष्मणगढ़ विधायक श्री गोविन्द सिंह डोटासरा एवं श्री मुकुल वासनिक ने भी अपने विचार व्यक्त किये। इससे पूर्व समारोह में मुख्यमंत्री का किसान आयोग के अध्यक्ष नारायण सिंह ने माल्यार्पण कर स्वागत किया। मुख्यमंत्री के आगमन पर आयोजित समारोह में जिले के प्रभारी एवं चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री श्री ए.ए. खान, राज्य अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष मो. माहिर आजाद, झुंझुनू के सांसद श्री शीशराम ओला, बीस सूत्री कार्यक्रम के उपाध्यक्ष श्री कांता प्रसाद मोर, चौमूं विधायक श्री भगवान सहाय सैनी, डीडवाना विधायक श्री रूपाराम डूडी, नीमकाथाना विधायक श्री रमेश खण्डेलवाल, फतेहपुर विधायक श्री भंवरू खां, जिला प्रमुख सुश्री रीटा सिंह सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment