Wednesday, December 11th, 2019

कालाधन निकालने में रिकार्ड सफलता अर्जित की है : अमित शाह

amit-shah,amit-shah-invc-neआई एन वी सी न्यूज़ नई दिल्ली,
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्त्व में राजग सरकार ने एक और महत्त्वपूर्ण सफलता हासिल की है। मोदी सरकार ने ‘आय घोषणा योजना-2016’ के माध्यम से रिकार्ड 65,250 करोड़ रुपये कालाधन निकालने की रिकार्ड सफलता अर्जित की है। आजाद भारत के इतिहास में इससे पूर्व कोई भी सरकार इतनी बड़ी मात्रा में देश या विदेश में छुपे कालेधन को निकालने में कामयाब नहीं हुई। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के भ्रष्टाचार-मुक्त शासन, विश्वसनीय और पारदर्शी नीतियों के परिणामस्वरूप देश के गरीबों का धन अमीरों की तिजोरियों से बाहर निकल पाया है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आम चुनाव से पहले भ्रष्टाचार मुक्त शासन और कालेधन को निकालने का जो वादा किया था, उसे उन्होंने अल्प समय में ही पूरा कर दिखाया है। मोदी सरकार गरीबों के कल्याण के लिए समर्पित है। इसलिए इस कालेधन के माध्यम से देश के खजाने में आने वाली राशि का इस्तेमाल देश के गांव, गरीब, किसान और नौजवानों के विकास कार्यक्रमों पर होगा। श्री मोदी जी ने ग्रामोदय से भारत उदय का जो आह्वान किया है, उसकी शुरुआत हो गयी है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने मई 2014 में सत्ता सभांलते ही कालेधन पर प्रहार करना शुरु कर दिया था। इसका प्रमाण यह है कि मोदी सरकार ने अपनी पहली कैबिनेट में ही सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार कालेधन की जांच के लिए विशेष जांच दल (एसआईटी) बनाने का निर्णय किया। पूर्ववर्ती संप्रग सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के बार-बार निर्देशों के बावजूद एसआइटी गठित नहीं की थी। मोदी सरकार के बमुश्किल ढाई साल के कार्यकाल में ही लगभग 1.40 लाख करोड़ रुपये से अधिक कालाधन, अघोषित जमा राशियां और अघोषित आय के रूप में देश और विदेश में पकड़ने का काम किया गया है। बीते ढ़ाई साल में आयकर विभाग ने सर्च और सर्वे अभियान में 56,378 करोड़ रुपये अघोषित आय के रूप में पकड़े हैं जबकि 1986 करोड़ रुपये जब्त़ किए हैं। टैक्स रिटर्न फाइल न करने वालों से भी नॉन-फाइलर्स ऑफ मॉनीटरिंग सिस्‍टम (एनएमएस) के माध्यम से 16,000 करोड़ रुपये टैक्स के रूप में प्राप्त किए गए हैं। इसके अलावा विदेशी बैंक एचएसबीसी में भारतीयों के खातों में 8,000 रुपये का असेसमेंट किया गया है। इसी प्रकार खोजी पत्रकारों के अंतरराष्ट्रीय संगठन आईसीआईजे ने कालेधन के जिन मामलों का खुलासा किया था उसमें भी 5,000 करोड़ रुपये विदेशी खातों में अघोषित जमाराशि के रूप में होने का पता लगाया गया है। इसके साथ ही देश के भीतर छुपे कालेधन को निकालने के लिए लायी गयी ‘आय घोषणा योजना-2016’ के माध्यम से रिकार्ड 65,250 करोड़ रुपये तथा विदेशी कालेधन के संबंध में 2015 में लायी गयी योजना के जरिए 4100 करोड़ रुपये से अधिक कालेधन को पकड़ने की सफलता मोदी सरकार ने पायी है। इसके अलावा मोदी सरकार ने अपने अल्प समय में ही कालेधन पर अंकुश लगाने के लिए देश में कानूनी ढांचा तैयार किया है, वहीं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कई संधियों और समझौतों पर भी हस्ताक्षर किए हैं। मोदी सरकार की पारदर्शी नीतियों और भ्रष्टाचार मुक्त शासन का परिणाम है कि आज देश की तिजोरी पर कोई भी टेढ़ी नजर नहीं डाल सकता है। कोयले की निष्पक्ष और पारदर्शी नीलामी के जरिए देश के खजाने में दो लाख करोड़ रुपये आना इसका प्रमाण है। मोदी सरकार ने गरीबों को दी जाने वाली सब्सिडी की चोरी रोकने का भी काम किया है। प्रधानमंत्री के एक आह्वान पर एक करोड़ से अधिक लोगों ने रसोई गैस की सब्सिडी छोड़ी है। इसका नतीजा यह है कि आज मोदी सरकार पांच करोड़ गरीब महिलाओं को रसोई गैस का कनेक्शन देकर उनके आंसू पोंछने का काम कर रही है। मोदी सरकार द्वारा अल्प समय में ही विशाल मात्रा में देश में छुपे कालेधन को बाहर निकालने की सफलता पर करोड़ों गरीबों, किसानों और नौजवानों की ओर से प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी और वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली जी का कोटि-कोटि अभिनंदन।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment