Thursday, July 16th, 2020

कांग्रेस के ऑफर के बाद जागी योगी सरकार

लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की योगी आदित्यनाथ सरकार (Yogi Adityanath Government) लॉकडाउन (Lockdown) के कारण दूसरे राज्यों में फंसे प्रवासियों (migrants) को वापस लाने की कवायद कर रही है. प्रदेश सरकार यूपी के प्रवासियों को लाने के लिए अलग अलग राज्यों में 12 हजार बसें भेजने का ऐलान किया है. उत्तर प्रदेश के बीजेपी अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने इसकी जानकारी दी है. प्रवासियों को वापसी के लिए भेजी जा रही बसों के लिए उनसे कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा. बसों को भेजने की कवायद जल्द ही शुरू की जाएगी. इसके लिए सूची तैयार की जा रही है. बता दें कि योगी सरकार ने यह फैसला उस वक्‍त लिया है, जब कांग्रेस की ओर से 1000 हजार बसें देने के प्रस्‍ताव का मुद्दा छाया हुआ है.


स्वतंत्र देव सिंह ने एक ट्वीट कर लिखा- उत्तर प्रदेश सरकार ने अन्य राज्‍यों में फंसे प्रवासियों को वापस लाने के लिए 12,000 बसें भेजने का ऐलान किया है. प्रदेश सरकार अन्य राज्यों से प्राप्त सूचि के आधार पर प्रशासनिक अधिकारियों से समन्वय स्थापित करते हुए प्रवासीजनों की निःशुल्क एवं सुरक्षित यात्रा सुनिश्चित करने का काम करेगी.


इसमें कटौती की तैयारी

कोरोना के चलते लॉकडाउन और लॉकडाउन के चलते उत्तर प्रदेश में राजस्व में भारी कमी देखने को मिल रही है. इसी से निपटने के लिए प्रदेश की योगी सरकार ने अपने खर्चों में कटौती को लेकर फरमान जारी किया है. इसके तहत यूपी के अपर मुख्य सचिव, वित्त विभाग संजीव मित्तल की तरफ से प्रदेश के सभी अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव, सचिव और सभी विभागध्यक्षों को निर्देश जारी किए हैं. निर्देशों के तहत प्रदेश में तमाम सरकारी योजनाओं पर 'चेक' लगा दिया गया है. यानी जो जरूरी हैं, वो ही चलेंगीं, बाकी स्थगित रहेंगीं. नई योजनाएं भी वो ही शुरू होंगीं, जिन्हें टाला नहीं जा सकता. इसके अलावा तमाम विभागों में अप्रसांगिक पदों को खत्म करने के साथ ही दफ्तर और रोजाना के सरकारी कार्यों में भी खर्च में कटौती का फरमान जारी किया गया है. PLC.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment